बाबा रामदेव की फोटो लगाकर बेच रहे थे नकली दवाएं, आगरा से दो आरोपित गिरफ्तार

हरिद्वार रानीपुर की पुलिस ने बाबा रामदेव का फोटो इस्तेमाल कर नकली यौनव‌र्द्धक दवा और तेल बेचने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया। पुलिस टीम ने आगरा से दो आरोपितों को गिरफ्तार किया। उनके पास से दो लैपटाप और 60 मोबाइल फोन बरामद हुआ।

Sat, 13 Nov 2021 06:53 PM (IST)
पुलिस ने बाबा रामदेव का फोटो इस्तेमाल कर नकली यौनव‌र्द्धक दवा और तेल बेचने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया।

जागरण संवाददाता, हरिद्वार। बाबा रामदेव का फोटो इस्तेमाल कर नकली यौनव‌र्द्धक दवा और तेल बेचने वाले गिरोह का भंडाफोड़ करते हुए हरिद्वार रानीपुर की पुलिस ने आगरा से दो आरोपितों को गिरफ्तार किया है। अश्लील वेबसाइट पर बाबा रामदेव का फोटो लगा अश्लील विज्ञापन चलाकर आनलाइन बुकिग की जाती थी। इसके बाद नकली दवाई व तेल अलग-अलग राज्यों में पार्सल कर दिया जाता था। आरोपितों से दो लैपटाप, 60 मोबाइल सहित काफी सामान बरामद हुआ है। आरोपितों ने स्वीकार किया है कि बाबा रामदेव का फोटो इस्तेमाल करने से उनके धंधे में कई गुना बढ़ोतरी हुई।

पतंजलि योगपीठ के प्रतिनिधि राजू वर्मा ने बीते 28 जुलाई को बहादराबाद थाने में एक मुकदमा दर्ज कराया था, जिसमें बताया गया था कि एक अश्‍लील वेबसाइट पर बाबा रामदेव के फोटो वाला अश्लील व फर्जी विज्ञापन चलाया जा रहा है। अज्ञात के खिलाफ आइटी एक्ट में मुकदमा होने के बाद इस मामले की जांच रानीपुर कोतवाल कुंदन सिंह राणा को सौंपी गई। छानबीन के बाद कोतवाल राणा पुलिस व एसओजी की एक टीम लेकर आगरा (उत्‍तर प्रदेश) पहुंचे और सिकंदरा क्षेत्र में एक बहुमंजिला बिल्डिंग में छापा मारा। अंदर का नजारा देख पुलिस हैरान रह गई।

दवाई और तेल की शीशी पर बाबा रामदेव का फोटो प्रिट किया था। पुलिस ने आनलाइन बुकिग करने वाले दो आरोपितों को पकड़ लिया और उनके उपकरण जब्त कर लिए। आरोपितों ने अपने नाम आकाश शर्मा निवासी सेक्टर आठ आवास विकास कालोनी निकट सेंट्रल जेल थाना जगदीशपुरा और सतीश कुमार निवासी किशोरपुरा थाना जगदीशपुरा सिविल लाइंस जनपद आगरा उत्तर प्रदेश बताए। पूछताछ में उन्होंने बताया कि कंपनी का मालिक गजेंद्र यादव निवासी ग्राम बाईपुर थाना सिकंदरा आगरा है। जबकि बाबा रामदेव का फोटो लगाकर प्रचार करना और दवाई बेचने का मास्टरमाइंड दिलीप यादव निवासी ग्राम कुंवाखेड़ा थाना ताजगंज जनपद आगरा है। कोतवाल कुंदन सिंह राणा ने बताया कि गजेंद्र यादव, दिलीप यादव सहित छह आरोपितों की तलाश जारी है। जल्द ही उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

ड्रग्स विभाग ने जब्त किया ढाई करोड़ का माल

उत्तराखंड पुलिस की सक्रियता के बाद उत्तर प्रदेश पुलिस और ड्रग्स विभाग भी हरकत में आ गया। दरअसल, आगरा की पुलिस और ड्रग्स विभाग को भनक ही नहीं थी कि इतने बड़े पैमाने पर नकली यौनव‌र्द्धक दवाओं का धंधा आगरा से संचालित हो रहा है। बिल्डिंग के बाहर से जूते का धंधा होना दिखाया गया, जबकि पीछे नकली यौनव‌र्द्धक दवाओं का काला धंधा चलाया जा रहा था। हरिद्वार की पुलिस व एसओजी का छापा लगते ही लोकल पुलिस व ड्रग्स विभाग मौके पर पहुंचा और लगभग ढाई करोड़ रुपये की दवाएं और तेल जब्त कर लिया।

उत्तराखंड के हरिद्वार जनपद की रानीपुर पुलिस टीम में कोतवाल कुंदन सिंह राणा, एसएसआइ अनुरोध व्यास, एसओजी प्रभारी रणजीत तोमर, उपनिरीक्षक विकास रावत, एसओजी कांस्टेबल पदम, विवेक यादव, वसीम, बहादराबाद थाने में तैनात सिपाही सुनील चौहान, रानीपुर कोतवाली के सिपाही पंकज देवली शामिल रहे।

प्रधान का चुनाव लड़ चुका है गजेंद्र

नकली यौनव‌र्द्धक दवाओं की कंपनी चलाने वाला गजेंद्र यादव अपने गांव बाईपुर से प्रधान का चुनाव भी लड़ चुका है। उसने कंपनी में सभी को काम बांटे हुए थे। दिलीप यादव मार्केटिंग का काम देखता था। बादल ठाकुर निवासी राधा नगर व पीयूष निवासी गोपीनगर कंपनी में एजेंट हैं। शरद निवासी सिकंदरा आगरा कंपनी के विज्ञापन अश्लील वेबसाइट पर अपलोड करता था।

राजेश यादव और बालक किशन निवासीगण अहीरपुरा जाट भी उनका सहयोग करते थे। कोतवाल कुंदन सिंह राणा ने बताया कि पकड़ में आने से बचने के लिए विज्ञापन पर दिए गए नंबर की काल डायवर्ट की गई थी। उस पर काल करने के बाद नए नंबर से वह ग्राहक से संपर्क करते थे। देश भर के कई राज्यों से उनको दवाओं और तेल के आर्डर मिलते थे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.