हरिद्वार में सिरफिरे ने अपनी प्रेमिका के दो बच्चों को गंगनहर में फेंका, एक का शव बरामद

हरिद्वार में सिरफिरे ने अपनी प्रेमिका के दो बच्चों को गंगनहर में फेंका। प्रतीकात्मक फोटो

रुड़की के दहियाकी गांव में एक सिरफिरे प्रेमी ने अपनी प्रेमिका के छह से सात वर्ष उम्र के दो बच्चों को गंगनहर में फेंक दिया। पुलिस ने एक बच्चे का शव बरामद कर लिया है। जबकि दूसरे बच्चे की तलाश जारी है। आरोपित को भी गिरफ्तार कर लिया गया है।

Publish Date:Sun, 17 Jan 2021 03:32 PM (IST) Author: Raksha Panthri

संवाद सहयोगी, मंंगलौर (रुड़की) : रुड़की के दहियाकी गांव में एक सिरफिरे प्रेमी ने अपनी प्रेमिका के छह से सात वर्ष उम्र के दो बच्चों को गंगनहर में फेंक दिया। पुलिस ने एक बच्चे का शव बरामद कर लिया है। जबकि, दूसरे बच्चे की तलाश जारी है। आरोपित को भी गिरफ्तार कर लिया गया है। 

रविवार को एसपी देहात स्वप्न किशोर सिंह ने मंगलौर कोतवाली में आयोजित प्रेस वार्ता में बताया कि ग्राम मंगलौर क्षेत्र के ग्राम उल्हेड़ा निवासी एक महिला के पति की वर्ष 2019 में मौत हो गई थी। महिला के दो बच्चे हैं। महिला क्षेत्र की एक दवा कंपनी में नौकरी करती है। एक साल पहले उसकी मुलाकात ग्राम साखन खुर्द थाना देवबंद जिला सहारनपुर, उत्तरप्रदेश निवासी लाखन से हुई थी। लाखन भी वहां नौकरी करता था। प्रेम संबंध होने पर दोनों एक साथ ग्राम दहियाकी में लिव इन रिलेशन में रहने लगे। एसपी देहात ने बताया कि शनिवार की शाम महिला फैक्ट्री से वापस आई तो दोनों बच्चे घर से गायब मिले। महिला ने लाखन से बच्चों के बारे में पूछा। लेकिन वह सही जवाब नहीं दे सका। बच्चों का जब रात तक कोई पता नहीं चला तो मंगलौर पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस ने छानबीन की तो लाखन संदेह के घेरे में आया। पुलिस को किसी ने बताया कि उन्होंने दोनों बच्चों को लाखन के साथ जाते देखा है, जिसके बाद पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया। पुलिस की पूछताछ में लाखन ने बताया कि वह प्रेमिका के बच्चों को पसंद नहीं करता था। उन्हें रास्ते से हटना चाहता था। इसके चलते ही शनिवार की दोपहर बच्चों को घुमाने के बहाने से उन्हें नसीरपुर पुलिया के पास ले गया। यहां से दोनों बच्चों को गंगनहर में फेंक दिया। आरोपित की बात सुनकर पुलिस भी सकते में आ गई। पुलिस ने रात को ही गंगनहर में बच्चों की तलाश शुरू कर दी। देर रात एक बच्चे का शव बरामद कर लिया गया। जबकि दूसरे बच्चे का अभी तक पता नहीं चल पाया है। एसपी देहात ने बताया कि दूसरे बच्चे की तलाश जारी है। महिला की तहरीर पर लाखन पर मुकदमा दर्ज किया है।

नहीं छिपा लाखन का पाप

अपने दोनों बच्चों के गायब होने पर जब महिला ने उनकी तलाश की तो आसपास के लोग भी उसके साथ बच्चों की तलाश में लग गए। किसी को शक न हो इसलिए लाखन भी इनके साथ बच्चों को तलाश करने का ड्रामा करता रहा। उसका यह पाप किसी से छिप नहीं सका। किसी ने उसे बच्चों को साथ ले जाते हुए देखा था और फिर पुलिस को बता दिया। जिसके बाद वह पुलिस की गिरफ्त में आ गया।

दो साल पहले भी हुई थी ऐसी घटना

मंगलौर क्षेत्र में करीब दो साल पहले भी इस तरह की घटना हुई थी। ननौता निवासी हिना मंगलौर में किराये के मकान में अपनी बहन के साथ रहती थी। लंढौरा क्षेत्र के ग्राम बुकनपुर निवासी ताबिश और आजम का महिला के घर आना-जाना था। एक जनवरी को सुबह ताबिश और आजम हिना के दोनों बच्चों को बाजार से चॉकलेट दिलाने के बहाने घर से लेकर गए थे। इसके बाद उन्होंने बच्चों को गंगनहर में फेंक दिया था। इस साजिश में महिला की बहन भी शामिल थी। पुलिस ने इन्हें गिरफ्तार किया था।

यह भी पढ़ें- रुड़की में बाइक सवार बदमाशों ने बुजुर्गों गोली मारी, पढ़िए पूरी खबर

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.