टोल प्लाजा पर टोल की वसूली के खिलाफ फूटा गुस्सा, विधायक ममता राकेश के नेतृत्व में ग्रामीणों ने किया हंगामा

भगवानपुर के करौंदी स्थित टोल प्लाजा पर विधायक ममता राकेश नेतृत्‍व में धरना देते ग्रामीण।
Publish Date:Fri, 25 Sep 2020 10:50 AM (IST) Author: Sunil Negi

रुड़की, जेएनएन। क्षेत्रवासियों की शिकायत पर शुक्रवार को भगवानपुर विधायक ममता राकेश ने समर्थकों के साथ करौंदी स्थित टोल प्लाजा पहुंचकर जबरन टोल बंद करा दिया। विधायक समर्थकों के साथ टोल के गेट नंबर आठ पर धरने पर बैठ गई। बाद में भाजपा नेता सुबोध राकेश भी समर्थकों के साथ मौके पर पहुंचे और गेट नंबर छह पर धरने पर बैठे। सूचना पर ज्वाइंट मजिस्ट्रेट नमामी बंसल ने मौके पर पहुंचकर मामले को शांत कराया। साथ ही टोल प्लाजा प्रबंधन को रेकार्ड सहित तलब किया है।

दिल्ली-देहरादून हाईवे पर करौंदी के समीप टोल प्लाजा बनाया गया है। गुरुवार दोपहर तक टोल प्लाजा पर ट्रायल किया गया। इसके बाद वसूली शुरू कर दी गई। वसूली को लेकर नोकझोंक भी हुई। स्थानीय नागरिकों ने टोल वसूले जाने पर नाराजगी जताई। रात में ही इसकी सूचना ग्रामीणों ने जन प्रतिनिधियों को दी। इस पर शुक्रवार सुबह विधायक ममता राकेश समर्थकों के साथ टोल प्लाजा पहुंच गई। उन्होंने सभी गेट के बैरियर को हटवाते हुए काउंटर को जबरन बंद करा दिया। उन्होंने कहा कि अभी तक मंगलौर से लेकर मंडावर तक हाईवे का काम पूरा नहीं हुआ है। 

इसलिए टोल नहीं चलेगा। साथ ही स्थानीय निवासियों को इसमें छूट दी जाएगी। इस पर काफी देर तक हंगामा होता रहा। वाहनों की लंबी कतार लग गई। विधायक समर्थकों ने वाहनों को निकलवा दिया। इसी बीच भाजपा नेता भी टोल पर पहुंच गए और गेट छह पर धरना देने लगे। भाजपा नेता सुबोध राकेश ने भी वसूली पर नाराजगी जताते हुए इसे तत्काल बंद करने को कहा। टोल प्लाजा पर हंगामे की सूचना पाकर ज्वाइंट मजिस्ट्रेट नमामी बंसल मौके पर पहुंची। उन्होंने टोल वसूली का आदेश दिखाने को कहा। इस पर टोल प्लाजा प्रबंधन मौके पर कोई अभिलेख नहीं दिखा पाया। जेएम ने उनको रेकॉर्ड सहित तलब किया है। बाद में यहां पर धरना समाप्त हो गया।

विधायक समर्थक और भाजपा नेताओं में नोकझोंक 

टोला प्लाजा पर जिस समय विधायक ममता राकेश धरने पर बैठी थी। उस समय उनके समर्थक केंद्र एवं राज्य सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर रहे थे। इस पर भाजपा नेताओं ने आपत्ति जताते हुए कहा कि समस्या टोल को लेकर है। ऐसे में केंद्र और राज्य सरकार के खिलाफ नारेबाजी करना गलत हैं। दोनों पक्षों में बहस हुई। इसके बाद मामला शांत हुआ।

विधायक का दावा, स्थानीय नागरिकों को नहीं देना होगा टोल 

विधायक ममता राकेश ने कहा कि टोल प्रबंधन से वार्ता के बाद यह तय हुआ है कि जब तक राजमार्ग का निर्माण पूरा नहीं हो जाता है, तब तक टोल की वसूली नहीं होगी। साथ ही प्रबंधन का कहना है कि 15 किमी के दायरे में आने वाले नागरिकों को टोल में छूट दी जाएगी। यदि क्षेत्रवासियों का उत्पीडऩ किया गया तो वह आंदोलन से पीछे नहीं हटेंगी।

एक मुद्दे पर आए देवर-भाभी 

कैबिनेट मंत्री सुरेंद्र राकेश के निधन के बाद से राकेश परिवार में दो फाड़ हो चुके हैं। विधायक की पत्नी ममता राकेश अब कांग्रेस से दूसरी बार विधायक हैं, जबकि सुबोध राकेश भाजपा में हैं। वह अपनी भाभी के खिलाफ 2017 में भाजपा से चुनाव लड़ चुके हैं। टोल प्लाजा के मामले में दोनों ही अपने समर्थकों के साथ पहुंचे थे। हालांकि दोनों के बीच जो तल्खियां हैं, वह जगजाहिर है। दोनों एक दूसरे का नाम लेना तक पसंद नहीं करते हैं।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी भूखे पेट करेंगे काम, इन मांगों को लेकर हैं मुखर

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.