आइजीएनएफए पहुंचे 10 आइएफएस अधिकारी कोरोना संक्रमित, 48 अधिकारियों का बैच दिल्ली से पहुंचा था देहरादून

कोरोना वायरस संक्रमण का ग्राफ फिर बढ़ने लगा है। देहारदून स्थित इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वन अकादमी में मिड टर्म ट्रेनिंग में आए 11 वरिष्ठ आइएफएस अधिकारी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। सभी को एफआरआइ परिसर स्थित हास्टल में आइसोलेटे कर दिया गया है।

Raksha PanthriThu, 25 Nov 2021 02:24 PM (IST)
10 आइएफएस (भारतीय वन सेवा) अधिकारी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं।

जागरण संवाददाता, देहरादून। Uttarakhand Coronavirus Update इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वन अकादमी (आइजीएनएफए) में मिड टर्म ट्रेनिंग के लिए पहुंचे 10 आइएफएस (भारतीय वन सेवा) अधिकारी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। कोरोना की दूसरी लहर की समाप्ति के दौर में अचानक आए संक्रमण के इन मामलों से जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग सकते में है। वहीं, अकादमी प्रशासन ने कोरोना संक्रमित सभी अधिकारियों को वन अनुसंधान संस्थान (एफआरआइ) परिसर में ही स्थित ओल्ड हास्टल में आइसोलेट कर दिया है।

अकादमी के अपर निदेशक डा. एसके अवस्थी के मुताबिक, देशभर के 48 आइएफएस अधिकारी मिड टर्म करियर ट्रेनिंग पर हैं। सबसे पहले इन अधिकारियों ने लखनऊ में प्रशिक्षण प्राप्त किया और फिर एक सप्ताह दिल्ली में प्रशिक्षणरत रहे। इसके बाद आइजीएनएफए में साप्ताहिक प्रशिक्षण के लिए अधिकारी शुक्रवार को दून पहुंचे। दून के लिए प्रस्थान से पहले सभी का दिल्ली में कोरोना टेस्ट कराया गया था। इसमें 10 अधिकारी संक्रमित पाए गए। इनमें से तीन अधिकारी (हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश व दिल्ली के) पहले ही अपने गंतव्य को चले गए थे। अकादमी में सात संक्रमित अधिकारी पहुंचे। इसके बाद अकादमी ने भी कोरोना की जांच कराई। इस दफा तीन अन्य अधिकारी भी संक्रमित पाए गए। फिलहाल, यहां 10 अधिकारी कोरोना संक्रमित हैं। कुछ में हल्के लक्षण दिख रहे हैं। हालांकि, सभी का स्वास्थ्य सामान्य है।

वैक्सीन लगने के चलते असर नहीं

आइजीएनएफए के अपर निदेशक डा. एसके अवस्थी ने बताया कि दून पहुंचे सभी आइएफएस अधिकारियों को कोरोनारोधी वैक्सीन की दोनों डोज लग चुकी हैं। यही वजह है कि संक्रमण के बाद भी सभी का स्वास्थ्य सामान्य है या उनमें बेहद कम लक्षण दिख रहे हैं।

ओल्ड हास्टल को बनाया माइक्रो कंटेनमेंट जोन

एक साथ कई आइएफएस अधिकारियों में कोरोना वायरस का संक्रमण पाए जाने के बाद जिलाधिकारी डा. आर राजेश कुमार ने अकादमी के ओल्ड हास्टल को माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाने का आदेश जारी कर दिया है। करीब पांच माह बाद दून में कंटेनमेंट जोन बनाया गया है। अग्रिम आदेश तक कोई भी संक्रमित अधिकारी यहां से बाहरी क्षेत्र में प्रवेश नहीं कर पाएगा। जरूरत की सभी वस्तुएं हास्टल में ही मुहैया कराई जाएंगी।

तिब्बतन कालोनी में भी कंटेनमेंट जोन

सहस्रधारा रोड स्थित तिब्बतन कॉलोनी डिक्लिन में कोरोना के एक साथ छह मामले पाए जाने के बाद संबंधित भवन को भी माइक्रो कंटेनमेंट जोन बना दिया गया है।

जिलाधिकारी डा. आर राजेश कुमार के आदेश के मुताबिक, कंटेनमेंट जोन समेत आसपास के क्षेत्र में सर्विलांस व सैंपलिंग कराई जाएगी। कंटेनमेंट जोन से बाहर आने की अनुमति अग्रिम आदेश तक किसी को कहीं होगी। मांग के मुताबिक जरूरत की वस्तुओं की आपूर्ति जिला प्रशासन सुनिश्चित करेगा।

यह भी पढ़ें- Uttarakhand Coronavirus Update: देहरादून ने बढ़ाई चिंता, 19 व्यक्ति मिले संक्रमित; आमजन से लेकर सिस्टम तक बेपरवाह

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.