Uttarakhand Adventure Fest: दून में उत्तराखंड एडवेंचर फेस्ट का आगाज, वन मंत्री हरक सिंह रावत बोले; साहसिक खेलों का खजाना है उत्तराखंड

Uttarakhand Adventure Fest दो दिवसीय एडवेंचर फेस्ट का उद्घाटन पर्यावरण और वन मंत्री हरक सिंह रावत ने किया। इस फेस्ट में आयुवर्ग को विभिन्न साहसिक गतिविधियां पैनल चर्चा और कार्यशालाओं में शामिल होने का मौका दिया जा रहा है।

Raksha PanthriSun, 26 Sep 2021 02:05 PM (IST)
दून में दो दिवसीय उत्तराखंड एडवेंचर फेस्ट का आगाज, एंट्री फ्री आप भी बनें हिस्सा।

जागरण संवाददाता, देहरादून। Uttarakhand Adventure Fest उत्तराखंड में साहसिक खेलों को बढ़ावा देने के उद्देश्य से आयोजित दो दिवसीय एडवेंचर फेस्ट के उद्घाटन के दौरान मुख्य अतिथि वन मंत्री हरक सिंह रावत ने कहा कि उत्तराखंड की सांस्कृतिक, धाॢमक व भौगोलिक परिस्थितियां साहसिक पर्यटन के लिए माकूल है। उत्तराखंड में साहसिक खेलों का खजाना है।

उत्तराखंड पर्यटन विकास परिषद ने फिक्की फ्लो के सहयोग से रविवार को मालसी स्थित एक फार्म में दो दिवसीय एडवेंचर फेस्ट का आयोजन किया। इस मौके पर वन मंत्री ने पर्वतारोहण संबंधी सेवाओं के लिए सिंगल विंडो सिस्टम का उद्घाटन किया।

इसे वन विभाग व एनआइसी उत्तराखंड ने बनाया है। इस विंडो के शुरू होने से पर्वतारोहियों को अपने अभियान की अनुमति लेने को विभिन्न विभागों के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे। इसके बाद पैनल चर्चा के दौरान डा. हरक सिंह रावत ने कहा कि उत्तराखंड में रोमांच से भरपूर साहसिक पर्यटन की असीम संभावनाएं हैं। साहसिक खेलों को बढ़ावा देने के लिए प्रदेश सरकार और वन विभाग की ओर से पर्यटन विभाग की हर संभव मदद की जाएगी। पर्यटन सचिव दिलीप जावलकर ने कहा कि प्रदेश में वन एवं वन्यजीव पर्यटन के साथ साहसिक खेलों की संभावनाओं और पर्यटन गतिविधियों को बढ़ाने देने के उद्देश्य से फेस्ट का आयोजन किया जा रहा है। इसके साथ ही पर्यटन में करियर बनाने का सपना देख रहे छात्रों को साहसिक खेलों की बारीकियों से भी रूबरू करवाया जाएगा। एडवेंचर फेस्ट में राफ्टिंग, पैराग्लाइडिंग, माउंटेन बाइकिंग, हाट एयर बेलून, कैंपनिंग, आइस स्केटिंग, कयाकिंग समेत स्थानीय व्यंजन के स्टाल लगाए गए हैं। इस दौरान प्रमुख वन संरक्षक राजीव भरतरी, फिक्की फ्लो राज्य संयोजक डा. नेहा शर्मा, कर्नल अश्विनी पुंडीर, विवेक सिंह चौहान, पूनम चंद आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें- 14 हजार फीट की ऊंचाई पर छह साल बाद खिला दुर्लभ नीलकमल, जानिए इसकी खासियत

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.