चारधाम यात्रा स्थगित करने के फैसले पर पर्यटन मंत्री बोले- संवादहीनता जैसी कोई बात नहीं, सीएम का निर्णय स्वागतयोग्य

पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री सतपाल महाराज बोले वर्तमान में सबसे बड़ी जरूरत कोरोना से आमजन की जान बचाने की है।

चारधाम यात्रा के सिलसिले में पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री सतपाल महाराज द्वारा बुलाई गई बैठक से पहले ही मुख्यमंत्री द्वारा यात्रा स्थगित किए जाने की घोषणा के बाद राजनीतिक गलियारों में इसे लेकर चल रही संवादहीनता की चर्चा को महाराज ने खारिज किया।

Sumit KumarFri, 30 Apr 2021 06:10 AM (IST)

राज्य ब्यूरो, देहरादून: चारधाम यात्रा के सिलसिले में पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री सतपाल महाराज द्वारा बुलाई गई बैठक से पहले ही मुख्यमंत्री द्वारा यात्रा स्थगित किए जाने की घोषणा के बाद राजनीतिक गलियारों में इसे लेकर चल रही संवादहीनता की चर्चा को महाराज ने खारिज किया। उन्होंने कहा कि संवादहीनता जैसी कोई बात नहीं है। मुख्यमंत्री का निर्णय स्वागतयोग्य है। वर्तमान में सबसे बड़ी जरूरत कोरोना से आमजन की जान बचाने की है। इसी के दृष्टिगत यह फैसला लिया गया है।

देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड की ओर से बीते रोज मीडिया को जानकारी दी गई थी कि कैबिनेट मंत्री महाराज गुरुवार को उत्तराखंड पर्यटन विकास परिषद के सभागार में बोर्ड के साथ ही पर्यटन विभाग के अधिकारियों से चारधाम यात्रा की गाइडलाइन के सिलसिले में विमर्श करेंगे। यह बैठक दोपहर साढ़े 12 बजे से होनी थी। इससे पहले ही मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने एक कार्यक्रम के दौरान मीडियाकॢमयों से बातचीत में कोरोना संक्रमण की बढ़ती रफ्तार को देखते हुए चारधाम यात्रा स्थगित किए जाने की जानकारी दी। ऐसे में राजनीतिक गलियारों में चर्चा होना स्वाभाविक था। साथ ही इंटरनेट मीडिया में भी इसे संवादहीनता से जोड़कर देखा जाने लगा।

हालांकि, कैबिनेट मंत्री महाराज ने इन चर्चाओं को निराधार करार दिया। महाराज के अनुसार उनके द्वारा ली जाने वाली बैठक से पहले मुख्यमंत्री ने भी बैठक की। सभी परिस्थितियों पर गौर करते हुए मुख्यमंत्री ने चारधाम यात्रा को स्थगित करने का फैसला लिया। उन्होंने कहा कि चारधाम यात्रा को स्थगित किया गया है। आने वाले दिनों में कोरोना संक्रमण को लेकर क्या परिस्थितियां बनती हैं, उनका आकलन करने के बाद आगे चारधाम यात्रा के बारे में विचार किया जाएगा, क्योंकि चारधाम यात्रा प्रदेश के लाखों व्यक्तियों के रोजगार और आजीविका का साधन भी है।

यह भी पढ़ें- पश्चिम बंगाल में पूर्ण बहुमत से सरकार बनाएगी भारतीय जनता पार्टी

जिलों से इनपुट लेकर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करें

कैबिनेट मंत्री महाराज ने अपने आवास से वर्चुअल माध्यम से अधिकारियों के साथ बैठक कर विभिन्न विषयों पर चर्चा की। उन्होंने निर्देश दिए कि सभी जिलों के डीएम से इनपुट लेकर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करने के साथ ही कोविड की गाइडलाइन का अनुपालन सुनिश्चित कराने को कदम उठाए जाएं। उन्होंने जिलाधिकारियों को निर्देश दिए कि वे जिलों में कोरोना संक्रमण की रोकथाम को हरसंभव प्रयास करें। बैठक से सचिव पर्यटन दिलीप जावलकर, मंडलायुक्त एवं देवस्थानम बोर्ड के सीईओ रविनाथ रमन, देवस्थानम बोर्ड के एसीईओ बीडी सिंह, उपनिदेशक पर्यटन विवेक चौहान के साथ ही चमोली, रूद्रप्रयाग, उत्तरकाशी के डीएम एवं एसएसपी जुड़े।

यह भी पढ़ें- पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कोरोना संक्रमण पर सरकार को घेरा, बोले- व्यवस्था पक्ष में लचर दिखाई दे रही सरकार

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.