शहीद मोहनलाल की अंतिम यात्रा में उमड़ा दून

जागरण संवाददाता, देहरादून: पुलवामा में शहीद हुए सीआरपीएफ के एएसआइ शहीद मोहनलाल रतूड़ी की अंतिम यात्रा में शनिवार को पूरा दून उमड़ पड़ा। शहीद का पार्थिव शरीर जैसे ही सुबह दिल्ली से दून स्थित विद्याविहार आवास (पटेलनगर) पहुंचा तो परिजनों में कोहराम मच गया। तिरंगे में लिपटे पार्थिव शरीर से शहीद की पत्नी, बेटे और बेटियां लिपटकर रोने लगे। इस भावुक माहौल में लोगों ने मोहनलाल अमर रहे और पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाते हुए गुस्सा और गम का इजहार किया। शहीद को श्रद्धांजलि देने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, डीजीपी अनिल रतूड़ी समेत अन्य जनप्रतिनिधि और अधिकारी भी पहुंचे। श्रद्धांजलि देने के बाद पार्थिव शरीर हरिद्वार ले जाया गया। जहां सैन्य सम्मान के साथ गंगा तट पर उनका अंतिम संस्कार किया गया।

गुरुवार को पुलवामा में आतंकी हमले में उत्तरकाशी के बनकोट (दिचली) निवासी मोहन लाल रतूड़ी भी देश के लिए शहीद हुए। शहीद मोहनलाल का परिवार दून में रहता है। शनिवार सुबह सवा सात बजे सीआरपीएफ के अधिकारी और जवान शहीद के पार्थिक शरीर को पूरे सम्मान के साथ विद्याविहार स्थित शहीद के भाई लक्ष्मी प्रसाद और मनमोहन के घर लेकर पहुंचे। तिरंगे में लिपटा शहीद के पार्थिक शरीर जैसे ही परिजनों के समक्ष पहुंचा तो

शहीद की पत्नी, बच्चे पार्थिक शरीर से लिपट कर रोने लगे इस भावुक माहौल में सभी की आंखे नम हो गई। उसके बाद घर के बाहर पार्क में शहीद के पार्थिक शरीर को आम लोगों के दर्शन के लिए रखा गया। जहां जनसैलाब शहीद को श्रद्धांजलि देने उमड़ा। इस दौरान मोहन लाल अमर रहे, भारत माता की जय और पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे से पूरा इलाका गूंज उठा। शहीद को श्रद्धांजलि देते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि इस घटना का दुश्मनों को करार जवाब दिया जाएगा। सेना इसके लिए पूरी तरह तैयार है। श्रद्धांजलि देने के बाद शहीद की अंतिम यात्रा सुबह 10 बजे हरिद्वार के लिए रवाना हुई। हरिद्वार स्थित खड़खड़ी श्मशान घाट पर राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया। बड़े बेटे शंकर रतूड़ी ने शहीद पिता को मुखाग्नि दी। इसके बाद सीआरपीएफ ने सैन्य सम्मान के साथ शहीद को अंतिम विदाई। शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने भी घाट पर पहुंचकर श्रद्धांजलि दी। दून में शहीद को श्रद्धांजलि देने वालों में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह, महापौर सुनील उनियाल गामा, विधायक गणेश जोशी, विनोद चमोली, मुन्ना सिंह चौहान,डीजी लॉ एंड आर्डर अशोक कुमार, सीआरपीएफ के डीआइजी दिनेश उनियाल, डीएम एसए मुरूगेशन, एसएसपी निवेदिता कुकरेती, एसपी सिटी श्वेता चौबे, कांग्रेस महानगर अध्यक्ष लालचंद शर्मा आदि मौजूद रहे।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.