Uttarakhand Roadways: रोडवेज टीम ने पकड़ी डग्गामार बसें, आरटीओ टीम ने छोड़ी

Uttarakhand Roadways रोडवेज की टीम ने बुधवार को आशारोड़ी चेकपोस्ट पर तीन डग्गामार बसों को पकड़ा व परिवहन विभाग के सुपुर्द किया। आरोप है कि बसों को सीज करने के बजाय परिवहन विभाग ने इन्हें छोड़ दिया। रोडवेज के प्रवर्तन दल को सूचना मिली थी।

Sumit KumarThu, 16 Sep 2021 02:39 PM (IST)
आइएसबीटी और इसके आसपास से डग्गामार डीलक्स बसों का संचालन बदस्तूर जारी है।

जागरण संवाददाता, देहरादून: Uttarakhand Roadways प्रदेश में डग्गामार वाहनों के विरुद्ध परिवहन सचिव के आदेश के बाद भी परिवहन विभाग इस तरफ ध्यान नहीं दे रहा। आइएसबीटी और इसके आसपास से डग्गामार डीलक्स बसों का संचालन बदस्तूर जारी है। डग्गामार बसें परिवहन विभाग के चेकपोस्ट से बेरोकटोक गुजर रहीं। ऐेसे में रोडवेज की टीम को खुद कार्रवाई के लिए सड़क पर उतरना पड़ रहा। रोडवेज की टीम ने आशारोड़ी चेकपोस्ट पर तीन डग्गामार बसों को पकड़ा व परिवहन विभाग के सुपुर्द किया। आरोप है कि बसों को सीज करने के बजाय परिवहन विभाग ने इन्हें छोड़ दिया।

रोडवेज के प्रवर्तन दल को सूचना मिली थी कि हरियाणा नंबर की डग्गामार डीलक्स बसें गुरुग्राम व फरीदाबाद से सवारी लेकर दून आ रही हैं। टीम ने चेकपोस्ट पर चेकिंग शुरू कर दी और तीनों बसों को धर पकड़ा। इन बसों में (एचआर-38-एए-0132) व (एचआर-38-4871) बस समेत एक बस बिना नंबर की शामिल है। इन तीनों बस को परिवहन विभाग के सुपुर्द किया गया, मगर आरोप है कि परिवहन विभाग ने तीनों बसों को बिना कार्रवाई छोड़ दिया। रोडवेज टीम ने इसकी रिपोर्ट परिवहन सचिव से की है।

रोडवेज अधिकारियों का आरोप है कि उक्त डग्गामार बस का संचालन परिवहन विभाग के कर्मियों की मिलीभगत से हो रहा। इससे रोडवेज को राजस्व की चपत लग रही। इस मामले में राज्य निगम कर्मचारी अधिकारी महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष एवं पूर्व रोडवेज कर्मचारी दिनेश गोसाईं ने सरकार से जांच की मांग की है। साथ ही उक्त निजी बसों के लिए आनलाइन टिकट बुकिंग सेवा पर रोक लगाने की मांग की है।

यह भी पढ़ें- Primary Teacher Recruitment: उत्‍तराखंड में प्राथमिक शिक्षक भर्ती 10 दिन में होगी पूरी, शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय ने इसक निर्देश

समन्वय समिति की कार्यशाला पर गेट मीटिंग

18 सूत्री मांगों को लेकर आंदोलन कर रही अधिकारी कर्मचारी शिक्षक समन्वय समिति उत्तराखंड के सदस्यों ने बुधवार को रोडवेज कार्यशाला पर गेट मीटिंग की। इस दौरान मीटिंग की अध्यक्षता करते हुए राज्य निगम कर्मचारी अधिकारी महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष दिनेश गोसाईं ने कहा कि जब तक सरकार उनकी मांग नहीं मान लेती, उनका आंदोलन जारी रहेगा। इस दौरान प्रताप सिंह पंवार, पूर्णानंद नौटियाल, बीएस रावत समेत अरुण पांडेय, पंचम सिंह बिष्ट, ओमवीर सिंह, दिनेश पंत, राकेश पेटवाल, मेजपाल सिंह, प्रेम सिंह रावत, अनुराग नौटियाल व राकेश रावत आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें- मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने जन्मदिन पर युवाओं को दिया तोहफा, प्रतियोगी परीक्षाओं का आवेदन शुल्क माफ करने की घोषणा की

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.