ऋषिकेश में आइडीपीएल ऑक्सीजन प्लांट की मरम्मत 90 प्रतिशत पूरी

आइडीपीएल में आक्सीजन प्लांट की मरम्मत कार्य का निरीक्षण करते विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल।

कोरोना संक्रमण की वर्तमान परिस्थिति में ऑक्सीजन की किल्लत को पूरा करने के लिए आइडीपीएल के ऑक्सीजन गैस प्लांट को पुनर्जीवित करने को सेना के इंजीनियरों ने मोर्चा संभाला हुआ है। विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने ऑक्सीजन प्लांट का निरीक्षण किया एवं सेना के इंजीनियरों का उत्साहवर्धन किया।

Sunil NegiSat, 15 May 2021 12:47 PM (IST)

जागरण संवाददाता, ऋषिकेश। कोरोना संक्रमण की वर्तमान परिस्थिति में ऑक्सीजन की किल्लत को पूरा करने के लिए आइडीपीएल के ऑक्सीजन गैस प्लांट को पुनर्जीवित करने को सेना के इंजीनियरों ने मोर्चा संभाला हुआ है। विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने ऑक्सीजन प्लांट का निरीक्षण किया एवं सेना के इंजीनियरों का उत्साहवर्धन किया।

विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि ऑक्सीजन प्लांट को पुनर्जीवित करने के लिए सेना के इंजीनियरों की टीम ने 90 प्रतिशत सफलता हासिल कर ली है। सेना के इंजीनियरों की टीम पिछले 12 दिनों से ऑक्सीजन प्लांट की मरम्मत कर रही है। आइडीपीएल के मैकेनिकल और इलेक्ट्रिक विभाग की टीमें भी इंजीनियरों की मदद कर रही हैं। ऑक्सीजन प्लांट बीते कई वर्षों से बंद पड़ा है। ऐसे में मशीनों के कई पार्ट खराब हो चुके हैं, जिनको बदलकर नए पाट््र्स लगवाए जा रहे हैं एवं सप्लाई लाइन की भी जांच की जा रही है।

प्रेमचंद अग्रवाल ने कहा कि सेना के अधिकारियों ने जानकारी दी है कि एयर सेपरेटर पर कार्य चल रहा है। जिसमें हवा से ऑक्सीजन को सेपरेट किया जाएगा, जिस पर सफलता मिलने के बाद इस  प्लांट से ऑक्सीजन का उत्पादन शुरू किया जा सकता है। इस अवसर पर सेना के कैप्टन अर्जुन राणा, आइडीपीएल के उप महाप्रबंधक गंगा प्रसाद अग्रहरि, इंचार्ज डीएस राणा, रमेश शर्मा उपस्थित थे।

---------------------------- 

नहीं खत्म हो रही ऑक्सीजन फ्लो मीटर की किल्लत

देहरादून में आक्सीजन सिलिंडर से संबंधित चिकित्सकीय उपकरणों फ्लो मीटर, मास्क और पाइप की किल्लत खत्म नहीं हो रही। महीने भर से दिल्ली और सहारनपुर से इन उपकरणों की आपूर्ति सुचारू नहीं हो पाई है। ऐसे में जरूरतमंदों को एक से दूसरी दुकान तक दौड़ लगानी पड़ रही है। अधिकांश दुकानों पर निराशा ही हाथ लग रही है। जिन दुकानदारों के पास पुराना स्टॉक है, वह इसके लिए मनमानी कीमत वसूल रहे हैं।

कोरोना की दूसरी लहर में बड़ी तादाद में मरीजों को आक्सीजन की जरूरत पड़ रही है। मच्छी बाजार स्थित पाल सर्जिकल स्टोर के मालिक तरुण कुमार व रामा सर्जिकल के मालिक आकाश शरण और एमकेपी रोड स्थित सिंह सर्जिकल के मालिक सुप्रीत सिंह समेत चिकित्सकीय उपकरणों की थोक बिक्री करने वाले दून के सभी कारोबारियों का कहना है कि उनके यहां दिल्ली और सहारनपुर से माल आता है। मगर, दोनों ही जगह संक्रमण बढ़ने के बाद खपत इतनी बढ़ गई है कि देहरादून के लिए सप्लाई बंद हो गई है। इसका फायदा उठाकर कुछ लोग उपकरणों की कालाबाजारी भी कर रहे हैं। हालांकि, अब पल्स ऑक्सीमीटर और स्टीमर की सप्लाई शुरू हो गई है। मगर, मांग ज्यादा होने के कारण बाजार में यह दोगुने दाम पर ही बेचे जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें-यूपीईएस ने ‘वी केयर’ के तहत प्रदेश सरकार को भेंट किए ऑक्सीजन कंसंट्रेटर

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.