Reliance Jio: उत्तराखंड के दुर्गम में स्थित इन प्रसिद्ध तीर्थ और पर्यटन स्थलों तक पहुंचा 4G नेटवर्क, बजेगी फोन की घंटी

4G नेटवर्क से जुड़े उत्तराखंड के दुर्गम में स्थित ये दो प्रसिद्ध तीर्थ और पर्यटन स्थल।
Publish Date:Mon, 28 Sep 2020 03:02 PM (IST) Author: Raksha Panthari

देहरादून, जेएनएन।  Hemkund Sahib and Valley of Flowers प्रसिद्ध तीर्थस्थल हेमकुंड साहिब यात्रा और विश्व प्रसिद्ध फूलों की घाटी के दीदार को आने वाले  यात्रियों के लिए अच्छी खबर। हेमकुंड यात्रा क्षेत्र अब 4जी नेटवर्क से जुड़ गया है। 13650 फुट की उंचाई पर स्थित हेमकुंड में रिलायंस जियो ने अपनी 4जी सेवाएं शुरू कर दी हैं, जिससे यहांं भी फोन घनघनाने लगे हैं। हेमकुंड तक ये सेवा पहुंचाने वाला जियो पहला ऑपरेटर है। कंपनी ने हेमकुंड साहिब, घांघरिया और गोविंदघाट में तीन संचार टावर लगाए हैं। इससे हेमकुंड और फूलों की घाटी की यात्रा पर आये पर्यटक और श्रद्धलुओं को काफी सहूलियत होगी। 

हेमकुंड साहिब सिखों का एक प्रसिद्ध तीर्थ स्थान है, जो उत्तराखंड के चमोली जिले में समुद्रतल से 15225 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। यहां की यात्रा काफी रोमांचभरी है, जिसमें हर साल देश-विदेश से कई श्रद्धालु यात्रा पर आते हैं। इसके साथ ही वे विश्व प्रसिद्ध फूलों की घाटी के दीदार को भी पहुंचते हैं। पहले हेमकुंड के मुख्य पड़ाव घांघरिया तक ही बीएसएनएल की दूरसंचार सेवा थी, जिसके चलते आगे की यात्रा के दौरान नेटवर्क न मिल पाने के कारण यात्रियों को तमाम तरह की दिक्कतें होती थी। पर अब जियो ने इस तीर्थस्थल को 4जी सेवा से जोड़ यात्रियों को एक बड़ी सौगात दी है। 

एक क्लिक पर मिलेगी धार्मिक और पर्यटक स्थलों की जानकारी  

हेमकुंड साहिब के आसपास के पर्यटक और धार्मिक स्थलों की जानकारी भी एक क्लिक पर मिल सकेगी। दरअसल, हेमकुंड के मुख्य पड़ाव गोविंदघाट और घांघरिया गांव क्षेत्र में जियो के 4जी नेटवर्क ने काम करना शुरू कर दिया है। यात्रा क्षेत्र में कॉलिंग के साथ ही वीडियो कॉलिंग भी अब आसानी से हो सकेगी। इतना ही नहीं इंटरनेट की तेज स्पीड से आसपास के पर्यटक और धार्मिक स्थलों की जानकारी भी तुरंत मिल जाएगी, जिससे देवभूमि में टूरिस्ट इंडस्ट्री के बूस्टअप की उम्मीद है।

आप हेमकुंड में हैं तो घर बैठे परिजन भी कर पाएंगे दर्शन 

देश के जो भी यात्री हेमकुंड साहिब के दर्शन को देवभूमि उत्तराखंड आते हैं, वो घर बैठे अपने परिजनों या दोस्तों को भी हेमकुंड के लाइव दर्शन करा सकेंगे। फोर जी सेवा से जुड़ने के बाद अब वे यहां पहुंच अपने परिवारों से विडियो कॉलिंग के माध्यम से जुड़ कर अपने अनुभव साझा कर पाएंगे। जियो के 4जी नेटवर्क पर हाई स्पीड इंटरनेट सर्फिंग भी अब आसान होगी। स्थानीय नागरिक और छोटे व्यापरियों को भी जियो की 4जी सर्विस से काफी उम्मीदें हैं। स्थानीय नेटवर्क मजबूत होने से आपसी संपर्क और स्थानीय व्यापार बढ़ने की उम्मीद है।  

पिछले साल सरकार और रिलायंस जियो के बीच हुआ था समझौता 

आपको बता दें कि पिछले साल इंडस्ट्रियल समिट के दौरान उत्तराखंड सरकार और रिलायंस जियो के बीच एक समझौता पत्र पर हस्ताक्षर किए गए थे, जिसके तहत देवभूमि उत्तराखंड के समस्त धार्मिक स्थलों तक जियो अपना 4जी नेटवर्क पहुंचा रहा है। उत्तराखंड के दूरस्थ और दुर्गम क्षेत्रों तक जियो नेटवर्क का विस्तार तेजी से कर रहा है, जिससे उत्तराखंड  देवभूमि में दूरसंचार और 4जी इंटरनेट की मदद से पर्यटन उद्योग को भी बढ़ावा मिल सके।

उत्तराखंड में लगातार बढ़ रहे जियो यूजर्स 

उत्तराखंड में अपने 4जी नेटवर्क के दम पर जियो हर महीने बड़ी संख्या में ग्राहकों को जोड़ रहा है। गांवों और छोटे शहरों में रिलायंस जियो की पैठ बनाने में जियोफोन बेहद कारगर साबित हो रहा है। इसी के दम पर देश में पहली बार रिलायंस जियो ने ग्रामीण क्षेत्रों में पहले नंबर पर है। 

यह भी पढ़ें: क्या कभी देखा है किसी घाटी को रंग बदलते, नहीं तो यहां जरूर आएं और जानें वजह

हाल ही में सात शहरों में शुरू हुई सेवा 

हाल ही में उत्तराखंड के सात शहरों में देहरादून, ऋषिकेश, हरिद्वार, रूड़की, रूद्रपुर, हल्द्वानी और काशीपुर में रिलायंस जियो ने जियोफाइबर ब्रॉडबैंड सेवाएं शुरू की हैं। दावा किया गया है कि यहां एक लाख से अधिक घर जियोफाइबर से जुड़ चुके हैं। प्रदेश के अन्य इलाकों में भी जल्द ही जियोफाइबर सेवाए शुरू होने की उम्मीद है। वहीं, कंपनी वर्क फ्रॉम होम और छात्रों के लिए भी कई स्पेशल ऑफर्स चला रही है। 

यह भी पढ़ें: World Tourism Day 2020: यहां की हसीन वादियों में आएं और दूर करें कोरोना का तनाव, जन्नत से कम नहीं हैं ये पर्यटन स्थल

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.