बुढापे के सहारे के लिए सजग हो रहे कामगार, पीएम मानधन योजना को बढ़ रहा रुझान; ऐसे होता है पंजीकरण

PM Shram Yogi Maandhan Yojana असंगठित क्षेत्र के कामगार अपने बुढापे के सहारे के लिए अधिक सजग हो रहे हैं। प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना के प्रति उनका बढ़ता रुझान इसकी तस्दीक करता है। अब तक योजना में 34582 कामगार अपना पंजीकरण करा चुके हैं।

Raksha PanthriSun, 19 Sep 2021 12:20 PM (IST)
बुढापे केसहारे के लिए सजग हो रहे कामगार।

राज्य ब्यूरो, देहरादून। PM Shram Yogi Maandhan Yojana उत्तराखंड में असंगठित क्षेत्र के कामगार अपने बुढापे के सहारे के लिए अधिक सजग हो रहे हैं। प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना के प्रति उनका बढ़ता रुझान इसकी तस्दीक करता है। राज्य में अब तक योजना में 34582 कामगार अपना पंजीकरण कराने के साथ ही नियमित रूप से प्रीमियम भी अदा कर रहे हैं। इससे उन्हें 60 साल की आयु पूरी होने पर तीन हजार रुपये प्रतिमाह की पेंशन मिलेगी। योजना में 40 साल से अधिक आयु के कामगार ज्यादा रुचि ले रहे हैं।

असंगठित क्षेत्र के कामगारों की सामाजिक सुरक्षा पर केंद्र सरकार ने फोकस किया है। कामगारों को बुढापे में अपनी जरूरतों की पूर्ति के लिए आर्थिक रूप से किसी पर निर्भर न रहना पड़े, इसके लिए प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना शुरू की गई है। योजना के तहत 18 से 40 साल के कामगार पात्र हैं, बशर्ते उनकी मासिक आय 15 हजार रुपये से कम हो। योजना में शामिल होने के लिए उन्हें आयु के हिसाब से 55 से 200 रुपये प्रतिमाह बतौर प्रीमियम देना होता है। इतनी राशि प्रीमियम के रूप में केंद्र सरकार अदा करती है। 60 साल तक यह प्रीमियम जमा कराया जाता है और फिर संबंधित श्रमिकों को प्रतिमाह तीन हजार रुपये की राशि पेंशन के रूप में दी जाती है।

उत्तराखंड के परिप्रेक्ष्य में देखें तो फरवरी 2019 से शुरू हुई इस योजना में पहला साल तो प्रचार-प्रसार में ही गुजरा, लेकिन 2020 में कोरोना संकट के बाद असंगठित क्षेत्र के कामगार इसे लेकर अधिक सजग हुए हैं। श्रम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार देहरादून जिले में इस योजना में सर्वाधिक 6446 कामगारों ने पंजीकरण कराया है। सभी जिलों में कामगारों के पंजीकरण का सिलसिला जारी है। जिन जिलों में पंजीकरण की रफ्तार कुछ धीमी है, वहां योजना के प्रचार-प्रसार पर फोकस किया गया है, ताकि अधिक से अधिक कामगार योजना से लाभान्वित हो सकें।

योजना में पंजीकृत कामगार

जिला, संख्या

देहरादून, 6446

नैनीताल, 4427

हरिद्वार, 3496

ऊधमसिंह नगर, 3237

पिथौरागढ़, 2893

टिहरी, 2833

पौड़ी, 2602

अल्मोड़ा, 2118

चमोली, 1864

चम्पावत, 1650

उत्तरकाशी, 1090

रुद्रप्रयाग, 1056

बागेश्वर, 860

सीएससी से होता है पंजीकरण

प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना में शामिल होने के लिए संबंधित कामगार प्रदेश में खुले छह हजार से अधिक कामन सॢवस सेंटर (सीएससी) के माध्यम से पंजीकरण करा सकते हैं। इसके लिए कामगार के पास आधार कार्ड, बैंक खाता पासबुक, दो फोटो, मोबाइल नंबर होना आवश्यक है।

यह भी पढ़ें- शहर की व्यवस्था का सूरतेहाल जानना हो तो देखिए प्रवेश स्थल, यहां ISBT पर उतरते ही मुहं से निकलता है ओह!

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.