Chardham Yatra 2021: बदरी विशाल के जयकारे के साथ चारधाम यात्रा के लिए ऋषिकेश से रवाना हुए तीर्थयात्री

अन्‍य राज्‍यों से तीर्थयात्री चारधाम यात्रा के लिए उत्‍तराखंड आने लगे हैं। आज ऋषिकेश में बंगलुरु से आए 19 यात्रियों का एक दल चार धाम यात्रा के लिए रवाना हुआ। इस दौरान तीर्थयात्रियों ने बदरी विशाल के जयकारे भी लगाए।

Sunil NegiMon, 20 Sep 2021 12:22 PM (IST)
सोमवार को बंगलुरु से आए 19 यात्रियों का एक दल ऋषिकेश चार धाम यात्रा के लिए रवाना हुआ।

जागरण संवाददाता, ऋषिकेश। चारधाम यात्रा खुलने के साथ ही तीर्थयात्री देवभूमि का रुख करने लगे हैं। सोमवार को बेंगलुरु से आए 19 यात्रियों का एक दल ऋषिकेश चार धाम यात्रा के लिए रवाना हुआ। चारधाम यात्रा को लेकर यात्रियों में खासा उत्साह नजर आया। यात्रियों ने गंगा मैय्या की जय व बदरी-विशाल के जयकारे लगा कर यात्रा शुरू की। कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर की वजह से इस वर्ष चार धाम यात्रा धामों के कपाट खुलने पर शुरू नहीं हो पाई थी। 

कोविड कर्फ्यू में ढील मिलने के बाद जब सरकार चारधाम यात्रा को खोलने की तैयारी में तब न्यायालय ने पुख्ता व्यवस्थाएं न होने के चलते यात्रा पर रोक लगा दी थी। लंबे इंतजार के बाद न्यायालय ने 16 सतंबर को सुनवाई के बाद चारधाम यात्रा पर लगी रोक हटा दी, जिसके बाद 18 सितंबर से कुछ प्रतिबंध व जरूरी शर्तों के साथ चार धाम यात्रा खोल दी गई है। इसके साथ ही अब चार धाम यात्रा के लिए श्रद्धालुओं के पहुंचने का क्रम भी शुरू हो गया है।

हालांकि, अभी चारधाम यात्रा की गति धीमी होने के कारण इस वर्ष चार धाम यात्रा संचालन के लिए संयुक्त रोटेशन का गठन नहीं हो पाया है। संयुक्त रोटेशन यात्रा व्यवस्था समिति नौ परिवहन संस्थाओं से मिलकर बनती है। संयुक्त रोटेशन के बजाय परिवहन संस्थाएं निजी तौर पर ही यात्रा संचालित कर रही हैं। सोमवार को यात्रियों का अब तक का सबसे बड़ा दल चार धाम यात्रा के लिए रवाना हुआ। बेंगलुरु निवासी प्रकाश शेट्टी ने बताया कि उनका 19 यात्रियों का दल चार धाम के दर्शन के लिए आया है।

उन्होंने बताया कि वे पिछले कई वर्षों से चार धाम यात्रा करने का प्लान बना रहे थे, मगर कोरोना संक्रमण व अन्य कारणों के चलते वह यात्रा नहीं कर पाए। इस बार जैसे ही उन्हें चार धाम यात्रा खुलने का पता चला तो उन्होंने तत्काल पंजीकरण कर दिया। उन्होंने कहा कि वह सभी लोग बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री व यमुनोत्री के दर्शन के लिए जा रहे हैं। चारधाम यात्रा बस टर्मिनल कंपाउंड पर आवश्यक कार्यवाही के पश्चात यह दल गंगा मैया की जय...व बद्री विशाल के जयकारे लगाते हुए यात्रा के लिए रवाना हुआ।

चारधाम यात्रा को लेकर उत्साह में यात्री

चारधाम यात्रा भले ही इस बार देर से शुरू हुई है। मगर, यात्रा को लेकर श्रद्धालुओं में खासा उत्साह है। बेंगलुरु से पहुृंचे यात्रियों ने चारधाम यात्रा को लेकर प्रसन्नता व्यक्त की। 48 वर्षीय रविंद टीसी ने बताया कि कोरोना काल के बाद चारधाम यात्रा का खुलना सुखद है। कम से कम कोरोना महामारी के कारण भयभीत लोग अपने आराध्यों का दर्शन तो कर सकते हैं।

56 वर्षीय जयश्री ने बताया कि कोरोना महामारी ने एक लंबे दौर तक नागरिकों को आशंकित बनाए रखा। मगर, अब कोरोना का प्रकोप कुछ शांत हो रहा है। उन्होंने कहा कि हमें अभी भी सतर्कता के साथ यात्रा और अन्य कार्य करने की जरूरत है। 51 वर्षीय प्रतिभा ने बताया कि वह अपने परिवार के साथ चारधाम यात्रा पर आई है। लंबे समय के बाद परिवार के साथ घर से बाहर निकल रहे हैं, यहीं एक सुखद अहसास है। बीएस आनंद ने बताया कि देवभूमि उत्तराखंड के चार धामों के दर्शन करने का उन्हें सौभाग्य मिला है। ऋषिकेश पहुंचकर गंगा के दर्शन भर से मन तृत्प हो गया है। अब धामों में भी अच्छे से दर्शन हो जाएंगे।

यह भी पढ़ें:- Thrill of Rafting: गंगा में रिवर राफ्टिंग सत्र शुरू, मंत्री महाराज बोले, पर्यटकों का पसंदीदा डेस्टिनेशन बनता जा रहा उत्‍तराखंड

पंजीकरण न होने से यात्री परेशान चारधाम यात्रा को लेकर श्रद्धालुओं में जबरदस्त उत्साह देखने को मिल रहा है। इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि सरकार की ओर से चारधाम यात्रा के लिए जारी की गई पंजीकरण वेबसाइट पर अक्टूबर तक की एडबांस बुकिंग हो गई है। जानकारी के अभाव में यहां पहुंच रहे अधिकांश यात्रियों का पंजीकरण ही नहीं हो पा रहा है। कई यात्री तो ऐसे हैं जो दूर-दराज के प्रदेशों से चारधाम यात्रा के लिए ऋषिकेश व हरिद्वार पहुंच चुके हैं। मगर, पंजीकरण न होने से वह असमंजस की स्थिति में हैं।

यह भी पढ़ें:- Chardham Yatra 2021: उत्‍तराखंड में चारों धाम में उल्लास, 1267 श्रद्धालुओं ने किए दर्शन

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.