ऋषिकेश में ऑक्सीमीटर एवं ऑक्सीजन फ्लोमीटर महंगे दामों में बेचने वाले एक फिजियोथैरेपिस्ट गिरफ्तार

ऋषिकेश में ऑक्सीमीटर एवं ऑक्सीजन फ्लोमीटर महंगे दामों में बेचने वाले एक फिजियोथैरेपिस्ट गिरफ्तार।

ऋषिकेश में कोविड महामारी का फायदा उठाकर ऑक्सीमीटर एवं ऑक्सीजन फ्लोमीटर महंगे दामों में बेचने वाले एक फिजियोथैरेपिस्ट को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पुलिस ने उसके कब्जे से 05 ऑक्सीमीटर व 10 ऑक्सीजन फ्लोमीटर बरामद किया है।

Sunil NegiMon, 10 May 2021 12:54 PM (IST)

जागरण संवाददाता, ऋषिकेश। 

कोरोना महामारी का फायदा उठाकर पल्स ऑक्सीमीटर एवं आक्सीजन फ्लोमीटर महंगे दामों में बेचने वाले एक फीजियोथैरेपिस्ट को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पुलिस ने उसके कब्जे से पांच आक्सीमीटर व दस ऑक्सीजन फ्लोमीटर बरामद किया है। आरोपित ने एक फ्लोमीटर बेचकर लिए गए छह हजार रुपये व एक होंडा अमेज कर भी सीज की है। कोतवाली पुलिस ने कोविड महामारी के दृष्टिगत दवाइयों व मेडिकल उपकरणों की कालाबाजारी करने वालों के विरुद्ध अभियान शुरू किया है। जिसके लिए ऋषिकेश में भी विशेष पुलिस टीम गठित की गई है। पुलिस टीम को इंटरनेट मीडिया के माध्यम से जानकारी मिली कि एक व्यक्ति दिल्ली से चोरी-छिपे मेडिकल उपकरण सस्ते दामों में लाकर, अपने होंडा अमेज गाड़ी में रखकर पीड़ित एवं गरीब व्यक्तियों को दोगुने-तीनगुने दामों में बेचकर नागरिकों की मजबूरी का फायदा उठा रहा है। 

इंटरनेट मीडिया पर वायरल बातचीत के मुताबिक एक व्यक्ति किसी से फ्लोमीटर खरीदने के लिये 6500 रुपए की मांग कर रहा था। इस मामले में मुखबिर की ओर से दिए गए मोबाइल नंबर पर जब पुलिस ने स्वयं ग्राहक बनकर संपर्क किया। सबूत के लिए पुलिस द्वारा पैसे देकर एक ऑक्सीजन फ्लोमीटर खरीदा। जिस पर पुलिस टीम ने तत्काल उक्त व्यक्ति को पकड़ कर पूछताछ की। पुलिस ने आरोपित की होंडा सिटी कार से मेडिकल संबंधी उपकरण, ऑक्सीमीटर, ऑक्सीजन फ्लोमीटर बरामद किए। पुलिस टीम ने आरोपित के घर से भी आक्सीमीटर व ऑक्सीजन फ्लोमीटर बरामद किए। 

पूछताछ में उसने अपना नाम मुकेश कुमार पुत्र राजेंद्र यादव निवासी 9/88 आवास विकास कॉलोनी, आईडीपीएल ऋषिकेश बताया। पुलिस ने उसके कब्जे से पांच ऑक्सीमीटर, दस ऑक्सीजन फ्लोमीटर, छह हजार रुपये नगद, एक होंडा अमेज कार (डीएल 10 सीएच- 2313) बरामद किए। मुकेश कुमार ने बताया कि वह पेशे से फिजियोथैरेपिस्ट है। उसने वर्ष 1993 से 1996 तक बिहार से फिजियोथैरेपिस्ट का काम किया। वह कई वर्षों से मेडिकल से संबंधित सामान की बिक्री करता आ रहा है। पिछले एक साल से ऋषिकेश में रहकर मेडिकल से संबंधित सामान का व्यापार कर रहा है।

कोतवाली प्रभारी निरीक्षक रितेश शाह ने बताया कि वर्तमान समय में कोविड-19 के चलते बाजारों में ऑक्सीजन फ्लोमीटर की बहुत ही ज्यादा कमी हो गई है। जिस कारण आरोपित जरूरतमंदों को काफी ऊंचे दामों में बेचकर उनकी मजबूरी का फायदा उठा रहा था। उन्होंने बताया कि आरोपित ने उक्त सामान दिल्ली से चोरी-छिपे किसी के माध्यम से मंगवाया था। जिनमें से उसने काफी सामान ऋषिकेश में जरूरतमंद लोगों को बेच दिया है। उन्होंने बताया कि आरोपित के खिलाफ कोतवाली ऋषिकेश में मुकदमा अपराध धोखाधड़ी, 53 आपदा प्रबंधन अधिनियम व महामारी अधिनियम के अंतर्गत मुकदमा पंजीकृत किया गया है। वहीं बरामदा वाहन को वाहन अधिनियम के अंतर्गत सीज किया गया है।

यह भी पढ़ें-देहरादून के सेलाकुई में बिना अनुमति के कोविड टेस्ट करते चिकित्सक गिरफ्तार

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.