करोड़ों के घाटे में डूबे रोडवेज को Fastag के बाद अब डीजल में चपत, अधिकारियों की लापरवाही पड़ रही भारी

फास्टैग का खाता खाली होने पर बसों के हर टोल प्लाजा पर दोगुना टोल चुकाने से हुए लाखों के नुकसान के मामले की आंच अभी ठंडी नहीं पड़ी थी कि अब पानी मिला हुआ डीजल पहुंचने का मामला सामने आ गया।

Raksha PanthriThu, 02 Dec 2021 02:30 PM (IST)
करोड़ों के घाटे में डूबे रोडवेज को Fastag के बाद अब डीजल में चपत।

जागरण संवाददाता, देहरादून। करोड़ों के घाटे में चल रहे रोडवेज को अधिकारियों की लापरवाही आए दिन भारी पड़ने लगी है। मंगलवार को फास्टैग का खाता खाली होने पर बसों के हर टोल प्लाजा पर दोगुना टोल चुकाने से हुए लाखों के नुकसान के मामले की आंच अभी ठंडी नहीं पड़ी थी कि अब बुधवार को पानी मिला हुआ डीजल पहुंचने का मामला सामने आ गया।

रोडवेज पहले अपनी बसों के लिए बाहर से डीजल लेता था, लेकिन सभी डिपो पर अपने डीजल पंप लगने के बाद डीजल की बाहर से खरीद बंद कर दी गई। स्थिति यह है कि इसके बाद अधिकारियों-कर्मचारियों के कमीशन का खेल बंद हो गया। ऐसे में कुछ अधिकारियों ने ऐसी जुगत भिड़ाई कि रोडवेज को माह में दो से तीन बार डीजल बाहर से लेना पड़ता है। रोडवेज अधिकारी इसके लिए तय समय पर आयल कंपनी को भुगतान नहीं करते और कंपनी आपूर्ति नहीं देती। रोडवेज में हर रोज करीब 70 हजार लीटर डीजल की खपत होती है। सूत्र बता रहे कि बाहर से जो डीजल लिया जाता है, उसमें कमीशन तय होता है। ऐसे में बाहर से आए डीजल में भारी मात्रा में मिलावट होती है। पिछले दिनों टाटा कंपनी ने बसों की खराबी की असल वजह मिलावटयुक्त डीजल ही बताई थी। अब रुद्रपुर डिपो में पहुंचे पानी युक्त डीजल ने टाटा कंपनी का दावा सच साबित कर दिया।

वहीं, रोडवेज महाप्रबंधक दीपक जैन ने बताया कि रुद्रपुर डिपो में इंडियन आयल कंपनी से पहुंचे लाट में एक ड्रम में डीजल में पानी मिला है। बाकी लाट ठीक मिला है और इस संबंध में कंपनी के अधिकारियों को शिकायत भेज दी गई है। महाप्रबंधक ने कहा कि पानी मिले डीजल की बात पहली दफा सामने आई है। इसकी जांच कराई जा रही है।

रोडवेज में दस नए यातायात अधीक्षक

रोडवेज में प्रवर्तन कार्य में तेजी लाने के लिए दस वरिष्ठ केंद्र प्रभारी को यातायात अधीक्षक/स्टेशन अधीक्षक के पद पर प्रोन्नत किया गया है। इसके साथ इनके तबादले भी कर दिए गए हैं। मुख्यालय से जारी आदेश में रानीखेत डिपो से हरीश चंद्र जोशी को यातायात अधीक्षक बनाकर अल्मोड़ा डिपो भेजा गया है। इसी तरह काठगोदाम डिपो से विमला रौतेला को रामनगर डिपो, पिथौरागढ़ डिपो से धीरज कुमार वर्मा को टनकपुर, रामनगर डिपो से नवीन चंद्र आर्य को कोटद्वार डिपो, हरिद्वार डिपो से अमिता सैनी को ग्रामीण डिपो, हल्द्वानी डिपो से रविशेखर कापड़ी को पिथौरागढ़ डिपो, ग्रामीण डिपो से विशाल चंद्रा को रुड़की डिपो, पर्वतीय डिपो से चित्ररेखा को हरिद्वार डिपो जबकि हरिद्वार डिपो से रामकुमार रावत को निगम मुख्यालय भेजा गया है। अल्मोड़ा डिपो से कैलाश चंद्र जोशी को रानीखेत डिपो भेजा गया है। चेतावनी दी गई कि अगर उपरोक्त अधिकारियों की सेवा उचित नहीं पाई जाती है तो इन्हें रिवर्ट कर दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें- उत्तराखंड: रोडवेज कर्मचारियों के बढ़े डीए का आदेश जारी, महंगाई भत्ता 17 प्रतिशत से किया गया इतना

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.