कोविड- कर्फ्यू में पछवादून के गावों से शहर तक बंद रहे बाजार

रविवार को लगाए गए कर्फ्यू का असर व्यापक स्तर पर दिखाई दिया।

राज्‍य में कोरोना के बढ़ते मामलो की रोकथाम के लिए प्रशासन की ओर से रविवार को लगाए गए कर्फ्यू का असर व्यापक स्तर पर दिखाई दिया। पछवादून के शहरी इलाकों से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों तक बाजार पूरी तरह से बंद रहे।

Sumit KumarSun, 18 Apr 2021 05:40 PM (IST)

संवाद सहयोगी, विकासनगर: संवाद सहयोगी, विकासनगर: रविवार को कोविड कफ्र्यू का असर व्यापक स्तर पर दिखा। पछवादून के शहरी इलाकों से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों तक बाजार पूरी तरह से बंद रहे। इस दौरान देहरादून से लेकर जौनसार-बावर और अन्य राज्यों को जाने वाले विभिन्न राष्ट्रीय राजमार्ग पर भी यातायात नाममात्र का रहा। बाइक से आवाजाही ज्यादा रही। कोविड कफ्र्यू के पालन को अधिकतर लोग अपने घरों में ही रहे। खेतों में काम करने वाले किसानों को छोड़कर अन्य ग्रामीण अपने घरों के भीतर ही रहे।

  रविवार को पछवादून में कोविड-कफ्र्यू के दिन की बंदी सफल रही है। क्षेत्र के सेलाकुई, सहसपुर, हरबर्टपुर और विकासनगर के बाजारों में मेडिकल और डेयरी समेत आवश्यक सेवा को छोड़कर सभी दुकानें बंद रहीं। पछवाूदन से होकर गुजरने वाले दिल्ली-यमनोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग और देहरादून-पांवटा राष्ट्रीय राजमार्ग पर भी बड़े वाहनों की आवाजाही न के बराबर रही। अन्य प्रदेशों की यात्री बसों और मालवाहक वाहनों के अलावा अन्य किसी प्रकार के यातायात से संबंधित वाहन भी दूर-दूर तक दिखाई नहीं दिए। सड़कों पर प्रतिदिन सैंकड़ों की संख्या में दौडऩे वाले चार पहिया वाहन भी बंद के दौरान सड़कों पर नहीं दिखे, परंतु बाइक, स्कूटर जैसे दो पहिया वाहन विभिन्न क्षेत्रों में आवाजाही करते रहे। बंद का असर क्षेत्र के गांवों में भी व्यापक स्तर पर दिखा। क्षेत्र के अधिक जनसंख्या वाले गांव ढकरानी, जीवनगढ़, बरोटीवाला, धर्मावाला, सहसपुर, रामपुर आदि में भी बंद पूरी तरह सफल रहा। गांवों में चल रही गेहूं की फसल की कटाई के चलते अधिकतर ग्रामीण खेतों में व्यस्त हैं, लेकिन खेतों में काम करने वाले किसानों के अतिरिक्त अन्य ग्रामीण दिनभर अपने घरों के भीतर ही रहे। गांवों की सड़कें और गली-मोहल्ले भी खाली दिखाई दिए।

फल-सब्जी की दुकानों के मामले में रहा असमंजस

कोविड कर्फ्यू के दौरान फल-सब्जी की दुकानों के खुलने या बंद रहने को लेकर असमंजस की स्थिति बनी रही। सुबह के समय जैसे ही फल-सब्जी विक्रेताओं ने अपनी दुकानें खोली पुलिस प्रशासन ने जिला प्रशासन के दिशा-निर्देशों का हवाला देते हुए दुकानों को बंद कराना शुरु कर दिया। फल सब्जी विक्रेताओं ने शासन के माध्यम से जारी की गई गाइडलाइन का हवाला देते हुए दुकानें खोलने की बात कही, परंतु पुलिस प्रशासन दुकानों को बंद रखने पर ही अड़ा रहा।

यह भी पढ़ें- Uttarakhand Forest Fire: उत्तराखंड में जंगल की आग से भारी नुकसान, डेढ़ दर्जन मवेशी जिंदा जले

उधर कुछ सब्जी विक्रेताओं ने पूर्व काबीना मंत्री व कांग्रेस नेता नवप्रभात से संपर्क साधा। नवप्रभात ने इस संबंध में विकासनगर एसडीएम सौरभ असवाल से बात की। पूर्व मंत्री ने प्रशासनिक अधिकारियों से गाइडलाइंस का पालन करते हुए आवश्यक सेवा से संबंधित दुकानों को खोलने की बात कही। जिस पर कार्रवाई करते हुए तहसील प्रशासन ने फल व सब्जी विक्रेताओं को दुकानों को खोलने की अनुमति प्रदान कर दी। उप जिलाधिकारी सौरभ असवाल ने बताया सभी फल-सब्जी व आवश्यक सेवा से संबंधित विक्रेताओं को दुकानों पर भीड़ नहीं लगाने, शारीरिक दूरी के नियम का पालन करने व मास्क लगाकर कारोबार को संचालित करने के निर्देश दिए हैं। 

यह भी पढ़ें- Right To Education: स्कूलों को देना होगा आरटीई के एडमिशन का शपथ पत्र

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.