उत्‍तराखंड निकाय चुनाव: भाजपा का पांच निगमों पर कब्जा, दो पर कांग्रेस जीती

देहरादून, राज्य ब्यूरो। सात नगर निगम समेत 84 नगर निकायों के लिए हुए चुनाव में अब तक घोषित 83 नतीजों में निकाय प्रमुखों के 34 पदों पर भाजपा ने कब्जा जमाया, जबकि 26 पर कांग्रेस और 23 पर निर्दलीयों ने जीत हासिल की। एक निकाय में बसपा ने जीत दर्ज की। नगर निगमों में महापौर के पदों पर देहरादून, ऋषिकेश, रुद्रपुर, काशीपुर व हल्द्वानी में भाजपा ने जीत दर्ज, जबकि कोटद्वार का पद कांग्रेस की झोली में गया। हरिद्वार में कांग्रेस विजयी हुई है। अलबत्ता, पार्षद, सभासद व सदस्य पदों के 1064 पदों में से 1063 के परिणाम घोषित हो चुके थे। इनमें निर्दलीयों ने 551, भाजपा ने 323, कांग्रेस ने 181, बसपा ने चार, आप ने दो और सपा व उक्रांद ने एक-एक पद पर जीत हासिल की है। 

निकाय चुनाव के लिए रविवार को हुए मतदान के बाद मतपेटियों में बंद प्रत्याशियों के भाग्य का पिटारा मंगलवार को 84 मतगणना स्थलों में मतगणना शुरू होने के साथ खुला। सुबह आठ बजे से 822 टेबलों में मतगणना प्रारंभ हुई और दोपहर से नतीजे भी आने शुरू हो गए। सबसे पहले छोटे निकायों के चुनाव परिणाम घोषित हुए। रुझान और नतीजे मिलने के साथ ही प्रत्याशियों व उनके समर्थकों और सियासी दलों के चेहरों का रंग भी पल-पल बदलता रहा।

नगर प्रमुख/अध्‍यक्ष का डैशबोर्ड

 

सभासद/सदस्‍य का डैशबोर्ड

सुबह करीब  आठ बजे बजे तक 84 में से 83 निकाय प्रमुखों के नतीजे घोषित किए जा चुके हैं। नगर पालिका परिषदों व नगर पंचायतों में नतीजों की तस्वीर साफ हो गई है। केवल पोखरी नगर पंचायत का चुनाव रोका गया है। सात नगर निगमों में तस्वीर साफ हो चुकी है। नगर निगमों में महापौर पदों के लिए पहला नतीजा भाजपा के पक्ष में आया। ऋषिकेश नगर निगम में महापौर पर पद भाजपा की अनीता ममगाईं ने 26403 मत हासिल कर अपनी निकटतम प्रतिद्वंद्वी निर्दलीय वीना दीप शर्मा (15235) को पराजित किया। 

रुद्रपुर में भाजपा प्रत्याशी रामपाल (39882) ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के नंदलाल (34748) को हराया। काशीपुर में भाजपा प्रत्याशी उषा चौधरी (44193) ने अपनी निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस की मुक्ता सिंह (38721) को शिकस्त दी। हल्द्वानी में भाजपा प्रत्याशी जोगेंद्र रौतेला (64793) ने कांग्रेस के सुमित हृद्येश (53939) को हराया। 

कोटद्वार में महापौर पद पर हेमलता नेगी (25347) ने जीत हासिल की। उन्होंने निकटतम प्रतिद्वंद्वी निर्दलीय विभा चौहान (23779) को पराजित किया। देहरादून नगर निगम अध्‍यक्ष पद पर भाजपा प्रत्‍याशी सुनील उनियाल गामा ने जीत दर्ज की। उन्‍हें 162516 मत पड़े। हरिद्वार नगर निगम मेयर पद कांग्रेस प्रत्‍याशी अनीता शर्मा विजयी हुई। उन्‍होंने भाजपा की अन्नु कक्कड़ से 3156 मतों से हराया । अनीता शर्मा हरिद्वार की पहली महिला मेयर बनी हैं। निकायों में पार्षद, सभासद व सदस्य के 1022 पदों के नतीजे घोषित किए जा चुके थे। इनमें निर्दलों का दबदबा रहा।

पति व पत्नी दोनों बने नगर निगम में पार्षद 

ऋषिकेश नगर निगम का पहला बोर्ड ऐसा होगा जहां पति व पत्नी दोनों अलग-अलग वार्डों का प्रतिनिधित्व करेंगे। नगर निगम के वार्ड संख्या 23 व 24 से जीतकर आए प्रत्याशी पति-पत्नी हैं। बड़ी बात यह है कि दोनों निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में जीत दर्ज की है। वार्ड संख्या 23 से पूर्व सभासद विकास तेवतिया निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव मैदान में थे तो उन्होंने वार्ड 24 से पत्नी तनु विकास तेवतिया को चुनाव मैदान में उतारा था। चुनाव परिणाम आया तो विकास तेवतिया व तनु तेवतिया दोनों निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव जीत गए हैं। विकास तेवतिया ने निर्दलीय प्रत्याशी थम्मन सैनी को 223 मतों के अंतर से पराजित किया, जबकि उनकी पत्नी तनु तेवतिया ने निर्दलीय प्रत्याशी लाजवंती देवी को 103 मतों के अंतर से पराजित किया।

पोखरी के वार्ड सात में 22 को पुनमर्तदान

चमोली जिले की पोखरी नगर पंचायत के अध्यक्ष के साथ ही एक वार्ड का परिणाम रोका गया है। वहां वार्ड सात के देवर बूथ के मतपत्रों पर पीठासीन अधिकारी के दस्तखत नहीं थे। मतगणना के दौरान जब इस बूथ की मतपेटी खुली तो ये बात सामने आई। इस मामले में चमोली की डीएम एवं जिला निर्वाचन अधिकारी ने संबंधित पीठासीन अधिकारी के निलंबन की संस्तुति करने के साथ ही बूथ में तैनात चार मतदानकर्मियों से स्पष्टीकरण मांगा है। वहीं जिला निर्वाचन अधिकारी की रिपोर्ट के बाद राज्य निर्वाचन आयोग ने पोखरी नगर पंचायत के इस वार्ड में 22 नवंबर को पुनर्मतदान के आदेश दिए हैं। राज्य निर्वाचन आयुक्त चंद्रशेखर भट्ट के अनुसार इस बूथ में 22 नवंबर को सुबह आठ से शाम पांच बजे तक मतदान होगा। मतदान के बाद  मतगणना होगी और फिर देर शाम तक परिणाम घोषित कर दिए जाएंगे।

यह भी पढ़ें: उत्‍तराखंड निकाय चुनाव: छोटी सरकार चुनने को 69.78 फीसद हुआ मतदान

यह भी पढ़ें: लापरवाही में काशीपुर के आरओ के निलंबन की संस्तुति

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.