पौड़ी गढ़वाल: बुजुर्ग महिला को गुलदार ने बनाया निवाला, भैडगांव से अपने पोते को देखने आ रही थी कोटद्वार

Leopard Attack अपने नवजात पोते को देखने भैडग़ांव से कोटद्वार की ओर आ रही बुजुर्ग महिला को गुलदार ने निवाला बना दिया। गुरुवार सुबह ग्रामीणों ने गांव से करीब चार किलोमीटर दूर सरड़ा-जुवा के मध्य जंगल में बुजुर्ग महिला का अधखाया शव बरामद किया।

Raksha PanthriThu, 02 Dec 2021 11:18 AM (IST)
पौड़ी गढ़वाल: गांव से कुछ ही दूर जंगल में मिला लापता महिला का क्षत-विक्षत शव।

संवाद सहयोगी, कोटद्वार: (पौड़ी गढ़वाल)। Leopard Attack अपने नवजात पोते को देखने भैडग़ांव से कोटद्वार की ओर आ रही बुजुर्ग महिला को गुलदार ने निवाला बना दिया। गुरुवार सुबह ग्रामीणों ने गांव से करीब चार किलोमीटर दूर सरड़ा-जुवा के मध्य जंगल में बुजुर्ग महिला का अधखाया शव बरामद किया। सूचना के बाद मौके पर पहुंची वन विभाग की टीम ने आसपास के क्षेत्रों में गश्त कर गुलदार की स्थिति जानने का प्रयास किया। घटनास्थल के समीप ङ्क्षपजरा भी लगाया जा रहा है।

प्रखंड दुगड्डा के ग्राम भैड़गांव निवासी रामविलास कंडवाल की पत्नी जयंती देवी अपने नवजात पोते से मिलने के लिए बुधवार शाम करीब चार बजे घर से कोटद्वार के लिए निकली। लेकिन, देर शाम तक कोटद्वार नहीं पहुंची। गांव से जयंती देवी के पुत्र ने कोटद्वार फोन कर अपने भाई से मां के पहुंचने की जानकारी ली, तो पता चला कि वे कोटद्वार नहीं पहुंची, जिसके बाद स्वजन ने ग्रामीणों के साथ मिलकर उनकी तलाश शुरू की। लेकिन, रात में उनका कहीं पता नहीं चला। सुबह करीब सात बजे ग्राम जुवा निवासी लक्ष्मण सिंह दूध लेकर दुगड्डा की ओर आ रहे थे, तो उन्हें जुवा पैदल मार्ग में यात्री शेड के समीप चप्पल और रूमाल गिरा हुआ मिला।

उन्होंने गांव में इसकी सूचना दी, जिसके बाद ग्रामीण स्वजन के साथ यात्री शेड में पहुंचे और क्षेत्र में जयंती देवी की तलाश शुरू कर दी। काफी प्रयास के बाद पैदल रास्ते से करीब दो मीटर दूर जंगल में जयंती देवी का अधखाया शव मिला। सूचना मिलते ही लैंसडौन वन प्रभाग के उप प्रभागीय वनाधिकारी दिनेश चंद्र घिल्डियाल मय टीम मौके पर पहुंचे और मौका- मुआयना किया। बाद में शव को पोस्टमार्टम के लिए कोटद्वार भेज दिया गया।

नहीं पहुंची राजस्व टीम

घटना की जानकारी दिए जाने के बाद भी दोपहर तक राजस्व विभाग की टीम के मौके पर न पहुंचने से ग्रामीणों में भारी आक्रोश था। ग्रामीणों ने राजस्व विभाग की टीम के मौके पर न पहुंचने तक शव को नहीं उठने दिया। कोटद्वार मंडी समिति के अध्यक्ष सुमन कोटनाला ने बताया कि सुबह करीब दस बजे जब तक वह मौके पर पहुंचे, तब तक राजस्व विभाग की टीम नहीं आई थी। उन्होंने प्रशासनिक अधिकारियों को घटना की सूचना दी, लेकिन दोपहर तक भी कोई कर्मी मौके पर नहीं पहुंचा। इस संबंध में वार्ता की, जिसके बाद दोपहर करीब एक बजे राजस्व विभाग की टीम मौके पर आई। बताया कि उन्होंने जिलाधिकारी से बताया कि पीडि़त परिवार को प्राथमिक सहायता के रूप में एक लाख रुपये की धनराशि मुहैया करा दी गई है।

मार्च में हुआ था हमला

जिस क्षेत्र में बुधवार रात गुलदार ने बुजुर्ग को निवाला बनाया, वहीं बीती मार्च माह में गुलदार ने एक मासूम पर हमला किया था। मार्च माह में ग्राम सरड़ा निवासी चार वर्षीय मयंक को गुलदार आंगन से उठाकर ले गया। ग्रामीणों के शोर मचाने के बाद गुलदार घायल मयंक को मौके पर छोड़ जंगल में भाग गया। इससे पूर्व, अगस्त 2019 में गुलदार ने ग्राम जुवा निवासी एक महिला को निवाला बना दिया था।

यह भी पढ़ें- ऋषिकेश: खदरी खड़क माफ में पिंजरे में कैद हुआ शावक, ग्रामीणों ने ली राहत की सांस, मौके पर उमड़ी भीड़; तस्वीरें

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.