उत्‍तराखंड में विधानसभा सत्र से पहले मंत्री-विधायकों को करानी होगी कोरोना जांच

उत्‍तराखंड में विधानसभा सत्र से पहले मंत्री-विधायकों को करानी होगी कोरोना जांच
Publish Date:Sat, 19 Sep 2020 10:33 PM (IST) Author:

देहरादून, राज्य ब्यूरो।  कोरोनाकाल में 23 सितंबर से शुरू हो रहे विधानसभा के मानसून सत्र से पहले सभी विधायकों व मंत्रियों की कोरोना जांच कराई जाएगी। जांच रिपोर्ट निगेटिव होने के बाद ही वे सत्र की कार्यवाही में हिस्सा ले पाएंगे। कोरोना की आरटी-पीसीआर जांच 21 व 22 सितंबर को होगी। विधायकों की यह जांच रेसकोर्स स्थित विधायक हॉस्टल और मंत्रियों की यमुना कॉलोनी स्थित उनके शासकीय आवासों पर होगी।

विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने उक्त जानकारी दी। उन्होंने कहा कि सत्र को सुरक्षित एवं सुचारू रूप से संचालित करने के लिए तय सीमा के अंतर्गत कोरोना जांच कराना आवश्यक है। विधायकों, मंत्रियों व अधिकारियों की सुरक्षा के लिहाज से यह जरूरी भी है। उन्होंने कहा कि यदि किसी विधायक ने बाहर कहीं जांच कराई है और रिपोर्ट निगेटिव है तो उन्हें भी प्रवेश दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि सत्र के लिए सभी तैयारियां पूरी की जा चुकी हैं। कोविड से बचाव के हिसाब से तैयारियों को अंतिम रूप दिया गया है। 

एक दिन का हो सकता है मानसून सत्र

विधानसभा का मानसून सत्र एक दिनी हो सकता है। हालांकि, अभी तक सत्र के लिए 23 से 25 सितंबर की अवधि निर्धारित है, लेकिन सूत्रों का कहना है कि कोरोना संकट के मद्देनजर मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए सत्र का एक दिवसीय होना तय है। गौरतलब है कि गुरुवार को हुई कैबिनेट की बैठक में सत्र को लेकर चर्चा की गई थी। अन्य राज्यों के सत्रों का हवाला देते हुए यहां भी सत्र एक दिनी रखने पर जोर दिया गया था। इस संबंध में फैसला लेने के लिए मुख्यमंत्री को अधिकृत किया गया। सूत्रों ने बताया कि विधानसभा की कार्यमंत्रणा समिति की बैठक में सत्र की अवधि एक दिन करने और संसद के मानसून सत्र की भांति यहां भी प्रश्नकाल स्थगित रखने के संबंध में निर्णय लिया जा सकता है।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड: नेता प्रतिपक्ष हृदयेश को एयर लिफ्ट कर मेदांता शिफ्ट करने की तैयारी, कोरोना की हुई थी पुष्टि

वर्चुअल व्यवस्थाओं की होगी टेस्टिंग

कोरोना से बचाव के दृष्टिगत विधानसभा की ओर से विधायकों से यह आग्रह किया जा रहा है कि वे वर्चुअल आधार पर सत्र की कार्यवाही से जुड़ें। इसकी व्यवस्थाएं पूरी कर ली गई हैं। विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने शनिवार को विधानसभा में सभामंडप का निरीक्षण करने के साथ ही वर्चुअल व्यवस्था की टेस्टिंग की। उन्होंने बताया कि एनआइसी के माध्यम से विधायकों के लिए सत्र से जुड़ने को वर्चुअल व्यवस्था की जा रही है। वे जिला मुख्यालयों से भी सत्र से जुड़ सकते हैं। ऐसी व्यवस्था बनाई गई है कि कोई भी विधायक अपनी बात रखने से वंचित न रहने पाए। प्रत्येक विधायक को अपनी बात रखने का मौका प्रत्यक्ष व वर्चुअल माध्यम से मिलेगा। इस मौके पर विधानसभा के प्रभारी सचिव मुकेश सिंघल और एनआइसी के अधिकारी मौजूद थे। कार्यमंत्रणा की बैठक आज विधानसभा की कार्यमंत्रणा समिति की बैठक रविवार शाम पांच बजे विधानसभा में विस अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल की अध्यक्षता में होगी। सत्र की अवधि समेत अन्य बिंदुओं के लिहाज से भी यह बैठक महत्वपूर्ण होगी। इससे पहले शाम साढ़े चार बजे विधानसभा में विधानमंडल दल के नेताओं की बैठक होगी।

यह भी पढ़ें: Uttarakhand Assembly Monsoon Session: विधानभवन के सभामंडप में ही होगा विधानसभा का मानसून सत्र

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.