Kartik Purnima 2020: श्रद्धालुओं को नहीं गंगा घाट पर स्नान की अनुमति, त्रिवेणी घाट के सभी रास्ते बंद; तस्वीरों में देखें

Kartik Purnima 2020: श्रद्धालुओं को नहीं गंगा घाट पर स्नान की अनुमति।

कोरोना वायरस संक्रमण के चलते इसबार प्रशासन ने कार्तिक पूर्णिमा पर होने वाले स्नान पर रोक लगाई है। ऐेसे में पुलिस प्रशासन भी अलर्ट मोड पर है। ऋषिकेश पुलिस ने त्रिवेणी घाट जाने वाले सभी रास्तों को बैरिकेट्स लगाकर बंद कर दिया है।

Publish Date:Mon, 30 Nov 2020 10:32 AM (IST) Author: Raksha Panthari

ऋषिकेश, जेएनएन। Kartik Purnima 2020 कोरोना वायरस संक्रमण के चलते इसबार प्रशासन ने कार्तिक पूर्णिमा पर होने वाले स्नान पर रोक लगाई है। ऐेसे में पुलिस प्रशासन भी अलर्ट मोड पर है। ऋषिकेश पुलिस ने त्रिवेणी घाट जाने वाले सभी रास्तों को बैरिकेट्स लगाकर बंद कर दिया है। छोटे रास्तों से सुबह-सुबह कुछ श्रद्धालु त्रिवेणी घाट पहुंच गए थे, जिन्हें पुलिस ने यहां से हटा दिया है। 

कार्तिक पूर्णिमा का पवित्र स्नान शुरू हो गया है। ज्योतिषाचार्यों के मुताबिक विधिवत पूजा के बाद घर पर गंगाजल स्नान करने से गंगा नदी में स्नान के बराबर पुण्य मिलता है। कार्तिक पूर्णिमा तिथि 29 नवंबर को रात 12 बजकर 49 मिनट से 30 नवंबर को दोपहर तीन बजे तक रहेगी।

इस दौरान श्रद्धालुओं को घाट पर जाने की अनुमति नहीं है। आपको बता दें कि जिलाधिकारी देहरादून डॉ. आशीष कुमार श्रीवास्तव ने कोरोनावायरस संक्रमण को देखते हुए सोमवार को ऋषिकेश त्रिवेणी घाट और अन्य घाटों पर होने वाले स्नान पर रोक के आदेश जारी किए थे। 

कोतवाली पुलिस के द्वारा बीते रविवार को ही इस संबंध में योजना तैयार कर ली गई थी। नगर के वह रास्ते जो त्रिवेणी घाट को जाते हैं, वहां से चार पहिया वाहनों को जाने से रोक दिया गया है। इसके साथ ही दोपहिया सवार वही लोग यहां से जा रहे हैं, जो दुकानदार हैं या फिर सामान की खरीददारी करने आए हैं। 

सुभाष चौक, घाट चौराहा, जयराम आश्रम तिराहा और मुखर्जी मार्ग तिराहा सभी जगह बैरिकेटस लगाकर पुलिस की तैनाती की गई है। त्रिवेणी घाट चौकी प्रभारी उत्तम रमोला ने बताया कि त्रिवेणी घाट में बैठने वाले भिक्षुकों को भी अपने-अपने ठिकानों में जाने के लिए कह दिया गया है। त्रिवेणी घाट में नाव फाटक नियमित पुलिस की गश्त की जा रही है।

यह भी पढ़ें: Kartik Purnima 2020: हरिद्वार की सीमाएं सील, बरती जा रही सख्ती; बॉर्डर से ही लौटाए जा रहे वाहन

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.