झंगोरे की खीर उत्तराखंडी खानपान की है एक खास पहचान

देहरादून, जेएनएन। झंगोरे की खीर उत्तराखंडी खानपान की एक खास पहचान है। व्रत-त्योहारों, खासकर वासंतिक व शारदीय नवरात्र के दौरान तो लोग झंगोरे की खीर अवश्य खाते हैं। अब तो झंगोरे की खीर देहरादून, मसूरी, हल्द्वानी, नैनीताल जैसे शहरों में होटलों के मेन्यू का हिस्सा भी बन गई है। इसके अलावा शादी समारोहों में भी झंगोरे की खीर काफी पसंद की जाने लगी है।

झंगोरे खीर को पारंपरिक ढंग से खुली पतीली या डेगची में पकाया जाए तो कहने ही क्या। इसके लिए एक बर्तन में पहले से दूध को उबाल कर रख दें और दूसरे बर्तन में झंगोरे को चूल्हे पर चढ़ा लें। साथ ही उसे लगातार करछी से हिलाते रहें। यह ध्यान रखें कि बर्तन छोटा न हो। 

आंच भी कम नहीं होनी चाहिए और झंगोरे में पूरा उबाल आना चाहिए। बर्तन की तली पर झंगोरा न लगने दें। खीर के लिए दूध की मात्रा झंगोरे से चार गुणा अधिक होनी चाहिए, जबकि चीनी या गुड़ की मात्रा बराबर। एक पाव झंगोरे के लिए एक पाव गुड़ या चीनी और एक किलो दूध होना जरूरी है। झंगोरे के अधपका होने पर देखें कि उसमें पानी ज्यादा तो नहीं है। यदि पानी ज्यादा है तो उसे अलग निकाल लें। फिर उसमें दूध और चीनी मिला दें। 

उबाल आने पर आंच थोड़ी कम की जा सकती है, लेकिन उबाल नहीं रुकना चाहिए। हां! करछी बराबर चलाते रहें। ध्यान रहे कि झंगोरे की गुठलियां न बनें। 

यह भी पढ़ें: जायकेदार पहाड़ का मीठा करेला, सेहत के लिए भी है बेहद उपयोगी 

स्वाद और जायका लाने के लिए खीर में कद्दूकस किया गया गोला (नारियल), किशमिश व इलायची पाउडर डालिए। पहाड़ में चीड़ के जंगल से घिरे गांवों में रहने वाले लोग सिर्फ छेंती (छ्यूंती) बीज के मावे का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इसका आनंद ही कुछ और है। जब खीर लसपसी हो जाए या नीचे से जलने लगे तो बर्तन नीचे उतार दें। खीर ज्यादा गाढ़ी नहीं होनी चाहिए, अन्यथा ठंडी होने पर सख्त हो जाएगी। खास बात यह कि झंगोरे की खीर न ज्यादा गर्म खानी चाहिए न ज्यादा ठंडी ही। फिर देखिए, इसका जायका आप जीवनभर नहीं भुला पाएंगे।

यह भी पढ़ें: अंतरराष्ट्रीय व्यापार मेले में लगेगा पहाड़ी स्वाद का तड़का, ये दंपती लगाएगा पहाड़ी उत्‍पाद का स्‍टॉल

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.