Happy Friendship Day: घूमने के लिए बेहद मुफीद हैं उत्तराखंड के ये सात प्रसिद्ध पर्यटक स्थल, आप भी जानिए इनके बारे में

Happy Friendship Day 2021 घूमने का शौक भला किसे नहीं होता। दोस्तों का साथ हो और मौसम सुहावना इससे अच्छी और क्या बात हो सकती है। आपके मन में भी अक्सर ख्याल आता होगा कि झटपट बैग पैक किया जाए और निकल पड़ें एक लंबे सफर पर दोस्तों संग।

Raksha PanthriFri, 30 Jul 2021 04:17 PM (IST)
घूमने के लिए बेहद मुफीद हैं उत्तराखंड के ये सात प्रसिद्ध पर्यटक स्थल।

आनलाइन डेस्क, देहरादून। Happy Friendship Day 2021 घूमने का शौक भला किसे नहीं होता। दोस्तों का साथ हो और मौसम सुहावना इससे अच्छी और क्या बात हो सकती है। आपके मन में भी अक्सर ख्याल आता होगा कि झटपट बैग पैक किया जाए और निकल पड़ें एक लंबे सफर पर दोस्तों संग। तो अब अपने मन की सुन लीजिए और चले आइए उत्तराखंड की खूबसूरत वादियों में सुकून और रोमांच के पल बिताने को। यहां कई ऐसे टूरिस्ट प्लेस हैं, जो न सिर्फ आपकी थकान को मिटाएंगे, बल्कि जिंदगी जीने के असल मायने भी बताएंगे।

उत्तराखंड यूं तो बेहद ही खूबसूरत और प्रसिद्ध जगह है घूमने के लिए, लेकिन अभी यहां मौसम के मिजाज कुछ हद तक तल्ख हैं। ऐसे में अगर आप यहां का रुख करते हैं तो कुछ सावधानियां भी बरतनी होंगी। बेहतर है कि आप पानी वाली जगहों से दूर रहे। पर्यटकों की पसंदीदा जगह कैंपटी फाल भी बीते दिनों उफान पर था। वहां आसपास की दुकानों को खाली कराने के साथ ही पर्यटकों को रोका भी गया। ऐसे में अगर आप मसूरी का रुख करते हैं और कैंपटी फाल के साथ ही इस तरह की जगहों पर जाने घूमने का शौक रखते हैं तो स्थानीय स्तर पर मौजूदा स्थिति और नियमों की जानकारी जरूर लें।

भारत के स्विटजरलैंड नाम से मशहूर कौसानी बेस्ट च्वाइस

विश्व प्रसिद्ध पर्यटन स्थल और भारत के स्विटजरलैंड नाम से मशहूर कौसानी भी एक खूबसूरत स्थल है घूमने के लिए। ये प्रकृति प्रेमी, ट्रैकिंग करने वालों के लिए किसी जन्नत से कम नहीं। ये खूबसूरत हिल स्टेशन बागेश्वर जिले में 6075 फीट से ज्यादा की ऊंचाई पर बसा है। मनमोहक पहाड़ियों और पर्वतों के अलावा कौसानी आश्रमों, मंदिरों और चाय के बगानों के लिए भी जाना जाता है। अनाशक्ति आश्रम यहां का एक प्रसिद्ध आश्रम है, जहां महात्मा गांधी कुछ दिन के लिए रुके थे।

पहाड़ों की रानी मसूरी

पहाड़ों की रानी मसूरी का नाम तो हर जुबान पर रहता है। यहां हर साल पर्यटकों का हुजूम उमड़ पड़ता है। इस हिल स्टेशन का दीदार करना पर्यटकों की पहली पसंद होती है। यहां माल रोड, जार्ज एवरेस्ट, कंपनी गार्डन घूमने के लिए बेहद मुफीद जगह हैं। दून से मसूरी की दूरी महज 35 किलोमीटर है। वहीं, जबकि दिल्ली से दूरी महज 270 किलोमीटर है। इस बात पर भी खास ध्यान दें कि कोविड कर्फ्यू के तहत वीकेंड पर मसूरी में अन्य वाहनों के साथ दोपहिया से प्रवेश पर रोक जारी रहेगी। हालांकि, निर्धारित मानकों का पालन करने वाले पर्यटकों के आवागमन को छूट दी गई है।

जिलाधिकारी डा. आर राजेश कुमार की ओर से जारी गाइडलाइन के मुताबिक, मसूरी आने वाले पर्यटकों को 72 घंटे के भीतर की आरटीपीसीआर की निगेटिव रिपोर्ट साथ लाना अनिवार्य है। इसके साथ ही देहरादून स्मार्ट सिटी पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन व होटल में बुकिंग की व्यवस्था पिछले हफ्ते की तरह अनिवार्य रहेगी। यही नहीं, जिलाधिकारी ने मसूरी, सहस्रधारा और गुच्चुपानी जैसे पर्यटक स्थल पर वीकेंड पर नदी, तालाब और झरनों में पर्यटकों का प्रवेश भी प्रतिबंधित कर दिया है। वर्षाकाल को देखते हुए यह निर्णय लिया गया है।

योगनगरी ऋषिकेश

योगनगरी ऋषिकेश पर्यटन और तीर्थाटन दोनों के हिसाब से बहुत ही अच्छी जगह है। यहां आप तपोवन, शिवपुरी, फूलचट्टी, गरुड़चट्टी, चीला बैराज का रुख कर सकते हैं। ये जगहें घूमने और कैंपिग के लिए काफी प्रसिद्ध हैं। यहां आप दोस्तों और अपने फैमिली मेंबर के साथ क्वालिटी टाइम स्पेंड कर सकते हैं।

चकराता की खूबसूरत वादियों का उठाएं लुत्फ

चकराता 7000-7250 फीट की ऊंचाई पर बसा हुआ, जो दून से 58 किमी की दूरी पर है। यहां की खासियत है कि ये ट्रैकर्स और प्रकृति की कारीगरी देखने के शौकीन लोगों के लिए बेहद मुफीद जगह है। सदाबहार शंकुवनों का दीदार कर सकते हैं। यहां की हरी-भरी वादियां आपकी आंखों को सुकून पहुंचाएंगी।

सुकून के पल बिताने को चले आइए चौकोरी

अगर आपको कुदरत की गोद में सुकून के कुछ पल बिताने हैं तो विशाल हिमालय की अद्भुत पहाड़‍ियों और वनस्पतियों से घिरा कुमाऊं का चौकोरी हिल स्टेशन बेहद शानदार डेस्टिनेशन है। ये देश की राजधानी दिल्ली से 530 किमी दूर उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले की बेरीनाग तहसील में स्थित है। चौकारी के उत्तर में तिब्बत और दक्षिण में तराई का क्षेत्र है। यह जगह भी पश्चिमी हिमालय की पर्वत श्रृंखला के पास स्थित है। चौकारी विशाल हिमालय की अद्भुत पहाड़ियों और वनस्पतियां से घिरा है।

पहाड़ियों से घिरा खूबसूरत शहर नैनीताल

नैनीताल बेहद ही प्रसिद्ध हिल स्टेशन है। यहां हर साल पर्यटकों की भीड़ उमड़ती है। ये सात पहाड़ियों से घिरा यह खूबसूरत शहर है। इसे लेक डिस्ट्रिक्ट भी कहा जाता है, क्योंकि ये शहर झीलों से घिरा हुआ है। यहां नैनी झील, तल्ली और मल्ली ताल, जिम कार्बेट समेत कई खूबसूरत पर्यटन स्थल हैं। बता दें कि नैनीताल जिले की विभिन्न पहाड़ियों से मलबा आने से सड़के बंद हो जाती हैं, जिससे यातायात ठप होने के साथ ही कई बार वाहनों पर पत्थर गिरने की आशंका भी बनी रहती है। एसएसपी कार्यालय से जारी सूची के अनुसार सलड़ी, ज्योलीकोट, मंगोली, कैंची धाम के पास व खैरना से काकड़ीघाट इसमें मुख्य हैं। ऐसे में अपनी यात्रा के दौरान एहतियात जरूर बरतें।

फूलों का अद्भुत संसार देखना हो तो चले आएं यहां 

अगर आप फूलों के अद्भुत संसार में खोने को तैयार हैं तो आपके लिए प्रसिद्ध फूलों की घाटी एक बेहतर पर्यटन स्थल है। चमोली जिले में स्थित विश्व धरोहर फूलों की घाटी में 500 से अधिक प्रजाति के फूल खिलते हैं। ये घाटी जुलाई से सितंबर माह तक गुलजार रहती है। खास बात यह है कि फूलों की घाटी हर दो सप्ताह में अपना रंग भी बदलती है। कभी लाल तो कभी पीले फूलों के खिलने से घाटी में प्रकृति रंग बदल कर पर्यटकों को आकर्षित करती है।

यहां से लें जानकारी

आप उत्तराखंड आने से पहले यहां सड़क मार्गों की स्थिति का पता लगाने के लिए उत्तराखंड आपदा प्रबंधन की ऑफिशियल वेबसाइट http://usdma.uk.gov.in/ पर जाकर जानकारी हासिल कर सकते हैं।

मौसम विभाग की वेबसाइट https://rmcnewdelhi.imd.gov.in/MET_CENTRES/MCDDN/ से आप यहां बारिश को लेकर जारी अलर्ट के बारे में जानकारी हासिल कर सकते हैं।

उत्तराखंड आपदा प्रबंधन विभाग का हेल्पलाइन नंबर- 1070

पुलिस कंट्रोल रूम नंबर- 122

उत्तराखंड पुलिस के देवभूमि एप की लें मदद

उत्तराखंड के पर्यटक स्थलों का रुख करने से पहले आप उत्तराखंड पुलिस के देवभूमि एप को डाइनलोड कर सकते हैं। इससे आपको आपके पसंदीदा पर्यटन स्थल की पूरी जानकारी मिलेगी। मार्ग बाधित होने से लेकर नजदीकी थाने की जानकारी भी आपको इस एप की माध्यम से मिल सकेगी। इसके अलावा आप अपनी शिकायत और मदद के लिए भी इस एप का इस्तेमाल कर सकते हैं।

इन बातों का भी रखें ध्यान

-अगर आप ट्रेन से उत्तराखंड के पर्यटन स्थलों का रुख कर रहे हैं तो अपने साथ आरटीपीसीआर की नेगेटिव रिपोर्ट जरूर रखें।

-बस, निजी वाहन से यात्रा करते हैं तो आपके पास वैक्सीन की दोनों डोज लेने का प्रूफ आवश्यक है।

- पर्यटक स्थलों पर शारीरिक दूरी और मास्क है जरूरी नियम का पालन करें। ये आपकी और आपके आसपास मौजूद लोगों की सुरक्षा के लिए बेहद जरूरी है।

- मौसम विभाग की बेवसाइट पर जाकर आप यहां आने से पहले मौसम का हाल भी जान सकते हैं, जिससे आपको किसी तरह की असुविधा न हो।

यह भी पढ़ें- प्रकृति प्रेमियों के लिए जन्नत से कम नहीं है उत्तराखंड का चौकोरी

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.