राज्यपाल गुरमीत सिंह बोले- नई पीढ़ी को जनजातीय समुदायों के इतिहास को जानना चाहिये

आज सोमवार को राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (सेनि) ने नई पीढ़ी को जनजातीय समुदायों के इतिहास को जानना चाहिये। उत्तराखंड के जनजातीय क्षेत्र में विशेषकर भोटिया थारू बुक्सा जौनसारी लोग रहते हैं। जनजातीय समुदायों का स्थानीय ज्ञान व अनुभव एक धरोहर है।

Sunil NegiMon, 15 Nov 2021 04:52 PM (IST)
राज्यपाल गुरमीत सिंह ने कहा कि नई पीढ़ी को जनजातीय समुदायों के इतिहास को जानना चाहिये।

राज्‍य ब्‍यूरो, देहरादून। राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (सेनि) ने उत्तराखंड के जनजातीय क्षेत्रों के युवाओं का आह्वाहन किया है कि वे अपनी संस्कृति, उत्पादों तथा शिल्पों की सोशल मीडिया, मास मीडिया के माध्यम से ब्रांडिंग, इमेंजिंग और मार्केटिंग करें। उत्तराखंड के जनजातीय क्षेत्र विशेषकर जहां भोटिया, थारू, बुक्सा, जौनसारी लोग रहते हैं पर्यटकों के लिये कल्चरल टूरिज्म के बड़े हब के रूप में स्थापित हो सकते हैं। राज्य के जनजातीय समुदायों के स्थानीय ज्ञान व अनुभवों पर विश्वविद्यालयों में शोध किया जाना चाहिए। नई पीढ़ी को जनजातीय समुदायों के इतिहास, संस्कृति, कलाओं व जीवन को जानना चाहिये। राज्यपाल ने कहा कि जनजातीय समुदायों का स्थानीय ज्ञान व अनुभव एक धरोहर है। उनकी संस्कृति सबसे सुंदर है। जनजातीय समुदायों की पर्यावरण हितैषी परंपराएं आज पूरे विश्व में अनुकरणीय हैं।

राज्यपाल गुरमीत सिंह ने सोमवार को राजभवन में राष्ट्रीय जनजातीय गौरव दिवस के अवसर पर जनजाति क्षेत्र में किए गए उत्कृष्ट कार्यों के लिए एकलव्य माडल रेजिडेंशियल स्कूल, कालसी के प्राचार्य, उप प्राचार्य तथा छात्र-छात्राओं को सम्मानित किया। इस अवसर पर एकलव्य माडल रेजिडेंशियल स्कूल कालसी के प्राचार्य डा गिरीश चंद्र बडोनी, उप-प्राचार्य सुधा पैन्यूली तथा इस विद्यालय के विद्यार्थी योगेश कुमार, सोनम चौहान, अंशुल चौहान, अजय राठौर, प्रवीण वर्मा को सम्मानित किया। उल्लेखनीय है कि यह सभी मेधावी छात्र-छात्राएं बुक्सा तथा जौनसारी जनजातीय क्षेत्र से हैं तथा देश के विभिन्न प्रतिष्ठित संस्थानों में अध्ययनरत हैं। राज्यपाल ने हाल ही में पद्मश्री से सम्मानित जौनसार क्षेत्र के निवासी प्रेमचंद शर्मा को भी सम्मानित किया।

राज्यपाल गुरमीत सिंह ने कहा कि जनजातीय समुदायों से प्राकृतिक संसाधनों एवं पर्यावरण संरक्षण की प्रेरणा मिलती है। आज क्लाइमेट चेंज व ग्लोबल वार्मिंग के चुनौतीपूर्ण समय में जनजातीय समुदायों के पर्यावरण हितैषी संस्कृति एवं परंपराओं का महत्व बड़ा है। जनजातीय समुदायों एवं ग्रामीण लोगों की रूरल जीनियस व स्थानीय ज्ञान अमूल्य धरोहर है। हमें इसे संरक्षित करने तथा सीखने की जरूरत है।

राज्यपाल गुरमीत सिंह ने कहा कि 15 नवंबर को बिरसा मुंडा की जयंती को जनजातीय गौरव दिवस के रूप में मनाया जा रहा है। भगवान बिरसा मुंडा ने सन 1875 के चुनौतीपूर्ण समय में जनजातीय समाज के गौरव के लिये ब्रिटिश साम्राज्य से संघर्ष किया तथा शहादत दी। राज्यपाल ने कहा कि दुनियाभर में सबसे गहरी और सुंदर संस्कृति जनजातियों की है। उत्तराखंड के जनजातीय समुदायों की संस्कृति, गीत-संगीत, नृत्य और समृद्ध परंपराएं अपनी एक विशेष पहचान रखती है। जनजातीय संस्कृति का सरंक्षण एवं संवर्धन किया जाना चाहिए। वे विश्वभर के पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र बन रही है। इस अवसर पर सचिव राज्यपाल डा रंजीत कुमार सिन्हा, अपर निदेशक जनजाति कल्याण योगेन्द्र रावत, शोध अधिकारी राजीव सोलंकी उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें:- Igas Celebration: राज्यपाल गुरमीत सिंह बोले, उत्तराखंड के त्योहार और परंपराओं की अलग ही सुगंध

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.