फेडिज में पेयजल योजना के निर्माण को जिलाधिकारी से मिले ग्रामीण

चकराता/त्यूणी शनिवार को फेडिज गांव से देहरादून पहुंचे ग्रामीणों ने जिलाधिकारी से मुलाकात की।

JagranSun, 17 Oct 2021 05:57 AM (IST)
फेडिज में पेयजल योजना के निर्माण को जिलाधिकारी से मिले ग्रामीण

संवाद सूत्र, चकराता/त्यूणी: शनिवार को फेडिज गांव से देहरादून पहुंचे ग्रामीणों ने जिलाधिकारी, मुख्य विकास अधिकारी से मुलाकात की और पेयजल समस्या से अवगत कराया। ग्रामीणों ने जल जीवन मिशन के तहत प्रस्तावित फेडिज पेयजल योजना का निर्माण कार्य शीघ्र शुरू कराने की मांग की।

सरकार ने जल जीवन मिशन के तहत जौनसार-बावर में विभिन्न पेयजल योजनाओं के निर्माण को बजट स्वीकृत किया है। इससे नवीन पेयजल योजना व जीर्ण-शीर्ण हो चुकी पुरानी लाइनों का पुननिर्माण भी कराया जा सकेगा। इसी कड़ी में फेडिज गांव में प्रस्तावित पेयजल योजना के निर्माण कार्य को कार्यदाई संस्था उत्तराखंड पेयजल संसाधन विकास एवं निर्माण निगम शाखा विकासनगर ने कुछ समय पहले टेंडर निकाले थे। शिकायत के चलते पूर्व में लगे टेंडर निरस्त कर दिए गए। दोबारा से टेंडर लगा, जिसे छह अक्टूबर को खोला जाना था। विवाद के चलते विभाग ने टेंडर प्रक्रिया को फिलहाल कुछ समय के लिए स्थगित किया है। प्रस्तावित पेयजल योजना के निर्माण कार्य में हो रही देरी के चलते फेडिज गांव के कुछ लोग शनिवार को युवा कल्याण समिति अटाल के अध्यक्ष बसंत शर्मा के नेतृत्व में जिलाधिकारी, मुख्य विकास अधिकारी से मिलने पहुंचे। इसी क्रम में उन्होंने राज्य एसटी आयोग के अध्यक्ष से भी मुलाकात की। ग्रामीणों की समस्या देख राज्य एसटी आयोग के अध्यक्ष मूरतराम शर्मा ने जिला प्रशासन को कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। इस दौरान नंदलाल, पंचिया, गुलाबू, शावनी, कमला, राजू, वीरेंद्र, चमन आदि मौजूद रहे। वहीं सीडीओ नितिका खंडेलवाल ने कहा कि पेयजल योजना के निर्माण को पंचायत की खुली बैठक में ग्रामीणों से चर्चा के उपरांत आगे की कार्रवाई की जाएगी। इस संबंध में एसडीएम चकराता व अधिशासी अभियंता पेयजल निगम को निर्देश जारी किए गए हैं।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.