प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने कहा- भू-कानून और देवस्थानम बोर्ड एक्ट करेंगे निरस्त

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने कहा प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने पर देवस्थानम बोर्ड व मौजूदा भू कानून वापस लिया जाएगा। पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार ने ऐसे कानून बनाए जिनसे संबंधित वर्ग और जनता को नुकसान हुआ।

Sunil NegiWed, 28 Jul 2021 05:22 PM (IST)
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने कहा कांग्रेस की सरकार बनी तो देवस्थानम बोर्ड व भू कानून लिया जाएगा वापस।

राज्य ब्यूरो, देहरादून। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने कहा कि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने पर भू-कानून और देवस्थानम बोर्ड से संबंधित एक्ट निरस्त किए जाएंगे। भाजपा सरकार पर तीखा हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि सरकार ने प्रचंड बहुमत के दंभ में संबंधित वर्गों और जनता की आवश्यकता को जाने बगैर ये नियम-कानून थोपे हैं।

प्रदेश कांग्रेस संगठन के मुखिया का विधिवत पदभार संभालने के बाद बुधवार को अपनी पहली पत्रकार वार्ता में गणेश गोदियाल ने कहा कि देवस्थानम बोर्ड का कानून बनाते वक्त पंडा-पुरोहित वर्ग से मशविरा करने की जरूरत नहीं समझी गई। बदरीनाथ व केदारनाथ धाम की देश के अन्य बड़े मंदिरों से तुलना नहीं की जा सकती। ये मंदिर आदि शंकराचार्य की परंपरा से चलते हैं। सरकार ने आस्था और परंपराओं से छेड़छाड़ की है। उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार की नजर पवित्र धामों के पैसे पर है।

जमीन पर पुश्तैनी हक समाप्त होगा

उन्होंने कहा कि चार धामों का विकास करने से कोई भी सरकार को रोक नहीं रहा है, लेकिन इसके नाम पर हक-हकूकों से छेड़छाड़ नहीं होनी चाहिए। इसी तरह मौजूदा भू-कानून राज्यवासियों के लिए खतरा है। आने वाली पीढ़ी जमीन पर पुश्तैनी हक से वंचित हो जाएगी। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने तल्ख आरोप लगाया कि सरकार ने अडानी व अंबानी को जमीन बेचने का रास्ता साफ कर दिया है। गोदियाल ने कहा कि भू-कानून और देवस्थानम बोर्ड का एक्ट वापस लेने के लिए सरकार पर दबाव बनाया जाएगा। सरकार ने इन्हें वापस नहीं लिया तो कांग्रेस की आगामी सरकार इन कानूनों को निरस्त करेगी। इन्हें पार्टी के चुनावी एजेंडे में भी शामिल किया जाएगा।

लोकायुक्त जैसी संस्थाओं के लिए प्रतिबद्ध

उन्होंने कहा कि लोकायुक्त समेत भ्रष्टाचार के खिलाफ सख्त कार्यवाही के लिए जरूरी संस्थाओं के गठन के प्रति पार्टी प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री राहत कोष की जांच हो जाए तो उसमें भ्रष्टाचार सामने आएगा। इसे सूचना के अधिकार के दायरे से बाहर रखा गया है। प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि मौजूदा प्रदेश कांग्रेस कमेटी में जरूरत के आधार पर नए पदाधिकारियों को शामिल किया जाएगा।

जंबो टीम के लिए किया था अनुरोध

प्रदेश में पांच अध्यक्ष समेत संगठन की जंबो टीम को लेकर भी गोदियाल ने सफाई दी। उन्होंने कहा कि महज छह महीने में विधानसभा चुनाव होने हैं। पार्टी इस अवधि में राज्य के प्रत्येक नागरिक तक पहुंचना चाहती है। इसके लिए मजबूत टीम की आवश्यकता है। उनके अनुरोध पर राष्ट्रीय नेतृत्व ने चार कार्यकारी अध्यक्ष बनाए हैं। चुनाव को लेकर पार्टी माइक्रो लेवल पर तैयारी कर रही है। चुनावी तैयारी और बूथ मैनेजमेंट के लिए कार्यकत्र्ताओं तक पार्टी की कार्ययोजना का प्रारूप पहुंचाया जा चुका है।

मजबूत विपक्ष न होने का खामियाजा भुगत रही जनता

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि कांग्रेस को 11 विधायकों तक सीमित रखने का दंड जनता को भी भुगतना पड़ रहा है। लोकतंत्र के लिए मजबूत विपक्ष बेहद जरूरी है। प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव ने कहा कि गोदियाल के अध्यक्ष बनने से पार्टी में नई ऊर्जा का संचार हुआ है। इस मौके पर बड़ी संख्या में पार्टी के प्रदेश पदाधिकारी, नेता व विधायक मौजूद रहे। 

यह भी पढ़ें:-Uttarakhand Politics: फिर कलह आई सामने, हरीश और प्रीतम के समर्थकों में चले लात-घूंसे; मंच पर भी जारी रही नारेबाजी

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.