चुनाव नजदीक देख भगवान की शरण में कांग्रेस, पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने किया गणेश पूजन

उत्‍तराखंड में विधानसभा पास आते ही नेताओं की गतिविधियां तेज हो गई हैं। चुनाव नजदीक देख कांग्रेस भगवान की शरण में जा पहुंची। पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष हरीश रावत गणेश चतुर्थी पर भगवान गणेश के दर्शनों के लिए मंदिर पहुंचे और पूजा अर्चना की।

Sunil NegiSat, 11 Sep 2021 11:37 AM (IST)
गणेश उत्सव के अवसर पर दर्शनलाल चौक स्थित पंचायती मंदिर में पूजा अर्चना करते पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत व कांग्रेसी।

राज्य ब्यूरो, देहरादून। विधानसभा चुनाव नजदीक देखकर कांग्रेस के तमाम नेताओं की धार्मिक गतिविधियों में भागीदारी बढ़ गई है। प्रतिद्वंद्वियों पर प्रहार करने के लिए भी धार्मिक प्रतीक चिह्नों का इस्तेमाल तेज किया गया है। पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष हरीश रावत गणेश चतुर्थी पर भगवान गणेश के दर्शनों के लिए मंदिर पहुंचे और उनसे पार्टी को सफल बनाने की कामना भी की।

आमतौर पर धार्मिक गतिविधियों से कन्नी काटने वाले कांग्रेस के दिग्गज नेताओं के रुख में इन दिनों बड़ा बदलाव देखने को मिल रहा है। धार्मिक कार्यक्रमों में दल-बल के साथ नेता शिरकत कर रहे हैं। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गणेश गोदियाल, नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय समेत तमाम नेता मंदिरों और धार्मिक स्थलों का दौरा तो कर ही रहे हैं, इसका सार्वजनिक प्रदर्शन करने में पीछे नहीं हैं। किशोर चार धाम यात्रा को लेकर बदरीनाथ धाम में जबरन प्रवेश करने की चेतावनी तक दे चुके हैं।

भगवान गणेश के साथ गोदियाल के पोस्टर

शिवरात्रि पर टपकेश्वर मंदिर में सिर पर कलश रखकर भगवान महादेव का जलाभिषेक करने के बाद हरीश रावत शुक्रवार को गणेश चतुर्थी पर भगवान गणेश की भक्ति में लीन नजर आए। इससे पहले रावत कांग्रेस के कार्यक्रमों में 'जयश्री गणेश' के उद्घोष के जरिये विरोधियों को निशाने पर लेने में पीछे नहीं रहे। बीते दिनों उन्होंने इंटरनेट मीडिया पर भगवान गणेश के चित्र के समक्ष दंडवत प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल को बतौर योद्धा पेश करते हुए पोस्टर जारी किए।

चार धाम यात्रा की मांग को कांग्रेस 13 को देगी धरना

चार धाम यात्रा शुरू करने की मांग को लेकर कांग्रेस सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलने जा रही है। प्रदेश कांग्रेस कमेटी इस मुद्दे पर 13 सितंबर को विधानसभा के सामने धरना देगी। नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह ने कहा कि चार धाम यात्रा शुरू नहीं हुई तो पूरे पहाड़ में व्यक्तियों की स्थिति दयनीय हो जाएगी। यात्रा शीघ्र शुरू होनी चाहिए।

कोरोना महामारी की वजह से पिछले साल से ही चार धाम यात्रा पर रोक लगी हुई है। यात्रा शुरू करने के लिए चार धामों के पंडा-पुरोहित समाज के साथ ही विभिन्न स्तर से सरकार पर दबाव बनाया जा रहा है। कांग्रेस भी इस मुद्दे पर मुखर है। पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष किशोर उपाध्याय चार धाम यात्रा शुरू नहीं होने की स्थिति में आंदोलन की चेतावनी दे चुके हैं। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत भी चार धाम यात्रा शुरू नहीं किए जाने को लेकर सरकार को कठघरे में खड़ा कर चुके हैं।

अब प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने सोमवार को विधानसभा के सामने धरना देने की घोषणा की है। नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह ने कहा कि भाजपा सरकार कोई भी निर्णय ले पाने में समर्थ नहीं है। राज्य में राजनीतिक गतिविधियां खुलकर हो रही हैं, लेकिन चार धाम यात्रा प्रतिबंधित की गई है। यात्रा शुरू नहीं होने से काम-धंधे पर बुरा असर पड़ रहा है। आजीविका संकट की नौबत आ रही है।

यह भी पढ़ें:-Uttarakhand Politics: उत्‍तराखंड में राज्यपाल बदलने पर पूर्व मुख्‍यमंत्री हरीश रावत ने भाजपा पर दागे सवाल

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.