पुरानी पेंशन बहाली को एप पर जुड़ रहे देश भर के कर्मी

इंटरनेट मीडिया के माध्यम से आंदोलन को तेज किया जा रहा है।

राष्ट्रीय पुरानी पेंशन बहाली संयुक्त मोर्चा की ओर से इंटरनेट मीडिया के माध्यम से आंदोलन को तेज किया जा रहा है। कुटुंब नाम के एक मोबाइल एप पर पुरानी पेंशन बहाली को लेकर समर्थन जुटाया जा रहा है। एक सप्ताह में करीब एक लाख कर्मचारी जुड़ गए हैं। ।

Ritika KumariFri, 26 Feb 2021 07:25 AM (IST)

जागरण संवाददाता, देहरादून: राष्ट्रीय पुरानी पेंशन बहाली संयुक्त मोर्चा की ओर से इंटरनेट मीडिया के माध्यम से आंदोलन को तेज किया जा रहा है। कुटुंब नाम के एक मोबाइल एप पर पुरानी पेंशन बहाली को लेकर समर्थन जुटाया जा रहा है। एक सप्ताह के भीतर ही इस एप पर करीब एक लाख कर्मचारी जुड़ गए हैं। 

मोर्चा के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य आलोक पांडे के नेतृत्व में चल रहे राष्ट्रीय प्रचार अभियान को वृहद स्तर पर विभिन्न प्लेटफॉर्म पर पहुंचाया जा रहा है। बीते 18 फरवरी को संयुक्त मोर्चा की उत्तराखंड टीम ने इस समर्थन मुहिम को इंटरनेट मीडिया के प्लेटफॉर्म पर ले जाने की पहल की। जिसे देशभर से बेहतरीन प्रतिक्रिया मिली और महज सप्ताहभर में एक लाख नई पेंशन योजना आच्छादित कर्मचारी इस प्लेटफॉर्म पर जुड़ चुके हैं। प्रतिदिन लगभग 10 हजार कर्मचारी इस प्लेटफॉर्म के जरिये पुरानी पेंशन बहाली के लिए संयुक्त मोर्चा से जुड़ रहे हैं। राष्ट्रीय अध्यक्ष बीपी सिंह रावत व राष्ट्रीय महासचिव वीरेंद्र दुबे ने संयुक्त मोर्चा के इस बेहतरीन प्रयास की सराहना की है। राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य ने बताया कि सदस्यता अभियान में छत्तीसगढ़ 40 हजार सदस्यों के साथ प्रथम, मध्य प्रदेश 20 हजार सदस्यों के साथ द्वितीय व 20 हजार सदस्यों के साथ गुजरात तृतीय स्थान पर बना हुआ है। उम्मीद है कि शीघ्र अन्य राज्यों से भी अधिक से अधिक कर्मचारी राष्ट्रीय पुरानी पेंशन बहाली संयुक्त मोर्चा से जुड़ जाएंगे। देशभर के 66 लाख कर्मचारियों तक इस मुहिम को पहुंचाने का प्रयास है।

यह भी पढ़ें- आयुष-यूजी में दाखिले 15 मार्च तक, आयुष मंत्रालय ने प्रवेश की अंतिम तिथि बढ़ाई

संयुक्त मोर्चे के कुटुंब में बढ़ती हुई सदस्यों की संख्या को देखते हुए प्रदेश महासचिव सीताराम पोखरियाल ने कहा एप पूरी तरह सुरक्षित है और इसमें आपकी निजी जानकारी भी सुरक्षित है। उधर, सुपरवाइजर्स एसोसिएशन आइसीडीएस ने भी पुरानी पेंशन बहाली की मांग को लेकर संयुक्त मोर्चा का समर्थन किया है।

यह भी पढ़ें- नामित विधायक जीआइजी मैन निधि खर्च करने में सबसे आगे

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.