एम्स में नशे के रोगियों को मिल सकेगा उच्चस्तरीय उपचार, एडिक्शन ट्रीटमेंट फैसिलिटी सेवा शुरू

एम्स में एडिक्शन ट्रीटमेंट फैसिलिटी सेवा शुरू की। नशे के रोगियों को इस सेवा के तहत उच्चस्तरीय उपचार व निश्शुल्क दवा प्रदान की जाएगी। निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने बताया कि रोगियों को नशे की समस्याओं से दूर करने के लिए एम्स ऋषिकेश ने एटीएफ की शुरुआत की।

Raksha PanthriTue, 15 Jun 2021 09:32 PM (IST)
एम्स में नशे के रोगियों को मिल सकेगा उच्चस्तरीय उपचार।

जागरण संवाददाता, ऋषिकेश। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान ऋषिकेश में एडिक्शन ट्रीटमेंट फैसिलिटी (एसटीफ) सेवा शुरू की है। नशे के रोगियों को इस सेवा के तहत उच्चस्तरीय उपचार व निश्शुल्क दवा प्रदान की जाएगी। एम्स के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने बताया कि रोगियों को नशे की समस्याओं से दूर करने के लिए एम्स ऋषिकेश ने एडिक्शन ट्रीटमेंट फैसिलिटी (एटीएफ) की शुरुआत की है, जिसमें नशावृत्ति के शिकार रोगियों को परामर्श और उपचार की सभी प्रकार उच्चस्तरीय सुविधाएं नि:शुल्क उपलब्ध कराई जाएंगी।

उन्होंने बताया कि संस्थान में इस सुविधा को एटीएफ एनडीडीटीसी एम्स दिल्ली की ओर से समन्वित और भारत सरकार के सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय की सहायता से शुरू किया गया है। इस सेवा के शुरू किए जाने का उद्देश्य प्रदेश में नशे से ग्रस्त रोगियों को मुफ्त एवं उच्चस्तरीय उपचार मुहैय्या कराना है। संस्थान के मनोचिकित्सा विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर और एटीएफ के नोडल ऑफिसर डा. विशाल धीमान जी ने बताया कि एम्स में संचालित एटीएफ के तहत, ओपीडी और एडमिशन दोनों तरह से इलाज की सुविधाएं उपलब्ध हैं।

अस्पताल में सभी मरीजों के लिए बिस्तर की सुविधा, सभी प्रकार की आवश्यक दवाएं, अत्याधुनिक उपचार प्रणाली निशुल्क उपलब्ध कराने के साथ ही रोगियों की काउंसलिंग भी की जाएगी। जिसमें उन्हें नशे की तलब को कंट्रोल करने की अलग-अलग तकनीकी बताई जाएंगी, साथ ही रोगियों की मोटिवेशनल इंटरव्यूइंग भी की जाएगी।

नशा छोड़ने के इच्छुक लोग इस नंबर से लें सहायता

संस्थान के मनोचिकित्सा विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर एवं एटीएफ के नोडल ऑफिसर डा. विशाल धीमान जी ने बताया कि नशा छोड़ने के इच्छुक लोगों के लिए एम्स के मनोचिकित्सा विभाग की ओर से हेल्पलाइन नंबर 7456897874 (टेली-एडिक्शन सर्विस) भी जारी किया गया है, जिसमें सोमवार प्रातः नौ बजे से शुक्रवार शाम चार बजे तक और शनिवार सुबह नौ बजे से दोपहर एक बजे तक चिकित्सकीय परामर्श लिया जा सकता है।

यह भी पढ़ें- National Science Day पर बोले विज्ञानी, छात्रों में बालपन से बोना होगा विज्ञान का बीज

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.