उत्तराखंड: डा. भीमराव आंबेडकर को पुण्यतिथि पर कियागया याद, उनके बताए मार्ग पर चलने का संकल्प

डा. भीमराव आंबेडकर को उनकी पुण्यतिथि पर प्रदेशभर में याद किया गया। उन्हें कार्यक्रम आयोजित कर श्रद्धांजलि दी गई। ऋषिकेश में सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कालेज में उनका भावपूर्ण स्मरण करते हुए उनके बताए मार्ग पर चलने का संकल्प लिया गया।

Raksha PanthriMon, 06 Dec 2021 10:57 AM (IST)
उत्तराखंड: डा. भीमराव आंबेडकर को पुण्यतिथि पर किया गया याद।

जागरण संवाददाता, ऋषिकेश। संविधान निर्माता डा. भीमराव आंबेडकर की पुण्यतिथि पर विभिन्न संगठनों ने उनका भावपूर्ण स्मरण करते हुए उनके बताए मार्ग पर चलने का संकल्प लिया गया।

कांग्रेस कमेटी अनुसूचित जाति विभाग के पूर्व प्रदेश संयोजक नंदकिशोर यादव के नेतृत्व में संगठन सदस्यों ने आंबेडकर चौक पर कार्यक्रम का आयोजन किया। सभी ने डा. भीमराव आंबेडकर की प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की। बहुजन समाज पार्टी की ओर से विधानसभा क्षेत्र अध्यक्ष जसकरण यादव के नेतृत्व में डा. आंबेडकर को श्रद्धांजलि दी गई। भारतीय जनता पार्टी के सदस्यों ने आंबेडकर चौक पर बाबा साहब की प्रतिमा स्थल की सफाई की। विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद्र अग्रवाल, प्रदेश उपाध्यक्ष कुसुम कंडवाल, कार्यक्रम संयोजक राकेश चंद्र, मीडिया प्रभारी अरविंद गुप्ता आदि ने उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित किए।

आवास विकास स्थित सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कालेज के विवेकानंद योग सभागार में विद्यालय के प्रधानाचार्य राजेन्द्र प्रसाद पाण्डेय ने बच्चो को डा. भीमराव आंबेडकर की पुण्यतिथि पर बताया कि वह स्वतंत्र भारत के पहले कानून मंत्री और संविधान निर्माता के रूप में प्रसिद्ध डा. भीमराव आंबेडकर की पुण्यतिथि श्रद्धापूर्वक मनाई जाती है। अपने निश्रीधन से कुछ समय पहले 14 अक्टूबर 1956 को आंबेडकर ने लाखों दलित समर्थकों के साथ बौद्ध धर्म अपना लिया था। छह दिसंबर 1956 को डॉ आंबेडकर इस दुनिया से चले गए। इस दिन को महापरिनिर्वाण दिवस के रूप में मनाया जाता है, हम सभी उन्हें नमन करते है। विद्यालय के भैय्या बहिनो ने भी उनकी पुण्यतिथि पर अपने विचार व्यक्त किये। इस अवसर पर सतीश चौहान, कर्णपाल बिष्ट, नंदकिशोर भट्ट, सुहानी सेमवाल, अजीत रावत, नरेन्द्र खुराना, राजकुमार यादव आदि उपस्थित रहे।

विधानसभा अध्यक्ष के कैंप कार्यालय में बाबासाहेब के महापरिनिर्वाण दिवस पर विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने बाबासाहेब के चित्र पर पुष्पांजलि दे कर अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की। अग्रवाल ने कहा की बाबा साहब ने संविधान के रूप में देश को एक पवित्र ग्रंथ भेंट किया, जो सर्वोच्च मार्गदर्शक है। आज हम संविधान पढ़ने, समझने और आत्मसात करने का संकल्प दोहराएं। यही उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि होगी। इस अवसर पर नगर निगम पार्षद विजेंद्र मोघा, शिव कुमार गौतम, अरुण बडोनी, नेहा नेगी, गौतम राणा, दुर्गेश जाटव, कविता शाह, सुमित सेठी, कमला नेगी, अमित वाल्मीकि सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

बाबा साहब की पुण्यतिथि पर विभिन्न जनप्रतिनिधियों ने दी श्रद्धांजलि

भारतीय संविधान के रचयिता और समाज सुधारक डा. भीम राव आंबेडकर की आज (6 दिसंबर) पुण्यतिथि है। जहा देशभर में आज बाबा साहब की पुण्यतिथि मनायी जा रही है। 6 दिसंबर, 1956 को बाबा साहब का निधन हुआ था। संविधान निर्माता बाबा साहब की पुण्यतिथि पर सोमवार को डोईवाला के धर्मुचक स्तिथ आंबेडकर पार्क में पहुंचकर आंबेडकर मन्दिर समिति, कांग्रेस, भाजपा, आप आदि के सदस्यों ने विभिन्न स्थानों पर कार्यक्रम आयोजित कर अपनी श्रद्धांजलि दी।

कांग्रेस जिलाध्यक्ष गौरव सिंह ने कहा कि बाबा साहब का पूरा जीवन देश सेवा को समर्पित था। उन्होंने अपना पूरा जीवन दलित वर्ग को समाज में समानता दिलाने के लिए संघर्ष में लगा दिया। उनके विचारों ने लाखों लोगों को प्रेरित किया।

आप नेता गणेश कुड़ियाल ने कहा कि बाबा साहब का स्पष्ट कहना था कि शिक्षित बनो, संगठित रहो और संघर्ष करो। यह स्वतंत्रता हमें अपनी सामाजिक व्यवस्था को सुधारने के लिए मिली है। भारत रत्न डा. भीमराव आंबेडकर की पुण्यतिथि सोमवार को डोईवाला में विभिन्न स्थानों पर मनायी गयी। इस अवसर पर सभी ने बाबा साहब की आदमकद प्रतिमा पर फूलमाला चढ़ा कर श्रद्धासुमन अर्पित किये।

किसान नेता सुरेन्द्र खालसा ने कहा कि समता मूलक समाज की स्थापना किये बिना राष्ट्र के विकास की कल्पना के बारें में सोच ही नहीं सकते है। हमें बाबा साहब के मार्ग दर्शन पर चलना चाहिए। बाबा साहब सिर्फ एक नाम ही नहीं एक विचार है। जिन्होंने समाज को हमेशा राह दिखायी है। हमलोग को उनके बताये रास्ते पर चलना चाहिए । कार्यक्रम में मुख्य रूप से हरि किशोर एडवोकेट विरेंद्र कुमार प्रवेश कुमार ईश्वरचंद शमशाद अली मोहम्मद तालिब जयप्रकाश रिंकू राठौर आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें- उत्‍तराखंड: पहाड़ में शिला के शिल्पियों को नहीं मिल रहे कद्रदान, व्‍यवसाय छोड़ने को हैं मजबूर

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.