नियुक्ति की मांग को लेकर दंत चिकित्सकों का धरना, बोले- मांग पूरी न होने तक जारी रखेंगे आंदोलन

नियुक्ति की मांग को लेकर दंत चिकित्सकों ने गांधी पार्क में धरना-प्रदर्शन किया। वरिष्ठ कांग्रेस नेता गरिमा मेहरा दसौनी ने चिकित्सकों को समर्थन दिया। उन्होंने कहा कि चिकित्सकों ने सैंपलिंग और टीकाकरण में उन्होंने जान जोखिम में डालकर काम किया।

Sumit KumarSun, 28 Nov 2021 05:02 PM (IST)
नियुक्ति की मांग को लेकर दंत चिकित्सकों ने गांधी पार्क में धरना-प्रदर्शन किया।

जागरण संवाददाता, देहरादून: नियुक्ति की मांग को लेकर दंत चिकित्सकों ने गांधी पार्क में धरना-प्रदर्शन किया। वरिष्ठ कांग्रेस नेता गरिमा मेहरा दसौनी ने चिकित्सकों को समर्थन दिया। उन्होंने कहा कि चिकित्सकों ने सैंपलिंग और टीकाकरण में उन्होंने जान जोखिम में डालकर काम किया। इसके बावजूद राज्य सरकार ने उन्हें सड़क पर छोड़ दिया है। उन्होंने चिकित्सकों के साथ खड़े रहकर आंदोलन की बात कही।

शनिवार को बड़ी संख्या में दंत चिकित्सक गांधी पार्क पहुंचे। सभी हाथ में तख्ती लिए थे और नारेबाजी कर रहे थे। चिकित्सकों ने कहा कि कोरोनाकाल में सैंपलिंग और टीकाकरण के लिए उनकी नियुक्ति की गई थी। अपनी जिम्मेदारी को उन्होंने बेहतर ढंग से निभाया, लेकिन टीकाकरण की सफलता के बाद उन्हें नौकरी से निकाल दिया गया। वह अब बेरोजगार घूम रहे हैं। उन्होंने कहा कि अस्पतालों में दंत चिकित्सकों के पद रिक्त हैं, लेकिन सरकार इस पर ध्यान नहीं दे रही है। उन्हें नियुक्ति मिलने तक आंदोलन जारी रहेगा।

नीट पीजी की काउंसलिंग में देरी पर प्रदर्शन

नीट पीजी की काउंसलिंग में देरी पर दून के जूनियर चिकित्सकों में भी गुस्सा है। दून मेडिकल कालेज, एसजीआरआर मेडिकल कालेज समेत विभिन्न मेडिकल कालेजों में चिकित्सकों ने इसको लेकर विरोध जताया। श्रीमहंत इंदिरेश अस्पताल में आइएमए जेडीएन यानि जूनियर मेडिकल नेटवर्क के बैनर तले शांतिपूर्वक ढंग से विरोध जताया गया। डा. शुलभ कुड़ि‍याल ने कहा कि फेडरेशन आफ आल इंडिया मेडिकल एसोसिएशन की अपील पर देशभर में विरोध जताया जा रहा है। राजनीति की वजह से चिकित्सकों को नुकसान हो रहा है।

यह भी पढ़ें- देहरादून: कूड़ा जलाने वालों की अब खैर नहीं, ऐसा किया तो भरना पड़ेगा जुर्माना; आप भी यहां कर सकते हैं शिकायत

उनकी पढ़ाई एवं प्रैक्टिस पर असर पड़ रहा है। उन्हें मानसिक समस्याओं से जूझना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि जल्द पीजी की काउंसलिंग कराई जाए। इस दौरान डा. शुभम भंडारी, डा. हर्षित चौधरी, डा. वैभव गुप्ता, डा. अमन गोयल, डा. अवंतिका अग्रवाल, डा. अनामिका भसीन, डा. कार्तिक शर्मा, डा. सिद्धार्थ जोशी, डा. अंकुश भदौरिया, डा. अजय आदि मौजूद रहे। उधर, दून मेडिकल कालेज में भी जूनियर चिकित्सकों ने सांकेतिक प्रदर्शन किया। आइएमए केंद्रीय कार्यकारिणी सदस्य डा. डीडी चौधरी का कहना है कि जूनियर चिकित्सकों का समय बर्बाद किया जा रहा है। जल्द नीट पीजी काउंसलिंग कराई जाए। आइएमए चिकित्सकों के साथ खड़ा है।

यह भी पढ़ें- अक्सर चर्चा में रहने वाले यति नरसिंहानंद महाराज बोले, घर के अंदर बैठकर नहीं हो सकता जिहादियों से मुकाबला

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.