क्रिकेटर स्नेह राणा ने कहा- टीम को हार से बचाना करियर का यादगार क्षण

बीते माह ब्रिस्टन टेस्ट में इंग्लैंड के बल्लेबाजों को अपनी फिरकी की धुन पर नचाने के बाद पिच पर खूंटा डालकर मैच का समीकरण बदलने वाली स्नेह राणा ने अपनी उस पारी को करियर की श्रेष्ठ पारी बताया है।

Sunil NegiTue, 20 Jul 2021 07:10 AM (IST)
क्रिकेटर स्नेह राणा ने कहा- टीम को हार से बचाना करियर का यादगार क्षण।

जागरण संवाददाता, देहरादून। बीते माह ब्रिस्टन टेस्ट में इंग्लैंड के बल्लेबाजों को अपनी फिरकी की धुन पर नचाने के बाद पिच पर खूंटा डालकर मैच का समीकरण बदलने वाली स्नेह राणा ने अपनी उस पारी को करियर की श्रेष्ठ पारी बताया है। उन्होंने कहा कि यह उनकी याद रखी जाने वाली पारियों में से एक है।

इंग्लैंड दौरे से लौटने के बाद सोमवार को क्रिकेटर स्नेह राणा दून पहुंचीं। जहां रेसकोर्स स्थित एसजीआरआर पब्लिक स्कूल में उनके कोच नरेंद्र शाह, स्कूल की प्रधानाचार्य प्रतिभा खत्री व लिटिल मास्टर एकेडमी के खिलाड़ि‍यों ने उनका सम्मान किया। इसके बाद स्नेह राणा ने दैनिक जागरण से बातचीत में कहा कि पदार्पण टेस्ट में अपनी टीम को हार से बचाना उनके करियर का यादगार क्षण है। बकौल स्नेह, मुझे खुशी है कि पर्दापण टेस्ट मैच में टीम के लिए बेहतर प्रदर्शन कर पाई। स्नेह ने कहा कि इंग्लैंड में पहली बार खेलने का मौका मिला। उस पर पहली पारी में चार विकेट चटकाने के बाद फालोआन खेलते हुए नाबाद 80 रन की पारी खेलना शानदार रहा। स्नेह ने कहा कि मिताली व झूलन दीदी ने हर समय मनोबल बढ़ाया। जिसकी बदौलत वह अपना नेचुरल गेम खेल सकीं।

इंजरी के कारण देखा मुश्किल समय

स्नेह ने कहा कि एक खिलाड़ी के लिए मैदान से दूर रहना मुश्किल होता है। 2016-17 में श्रीलंका के खिलाफ सीरीज में इंजरी होने के कारण एक साल तक क्रिकेट से दूर रहना पड़ा। जो बहुत मुश्किल समय था। इंजरी से उबरने के बाद स्नेह ने एक साल तक पंजाब के लिए घरेलू क्रिकेट खेला। उसके बाद दोबारा भारतीय रेलवे का प्रतिनिधित्व किया। पिछले सत्र में रेलवे की ओर से खेलते हुए घरेलू क्रिकेट में सबसे ज्यादा विकेट लिए। इस प्रदर्शन के बूते ही इंग्लैंड दौरे के लिए भारतीय टीम में जगह पाने में सफलता मिली।

सीरीज से पहले प्रैक्टिस की कमी खली

स्नेह ने बताया कि इंग्लैंड में हुई सीरीज से पहले खिलाड़ि‍यों को तैयारी का ज्यादा मौका नहीं मिला। भारतीय टीम सात साल बाद टेस्ट में उतरी। कोविड के कारण वनडे व टी-20 भी काफी समय बाद खेले। सीरीज से पहले क्वारंटाइन का दौर भी बेहद जटिल रहा। तब हम एक कमरे में सिर्फ योग, मेडिटेशन के साथ मेंटर स्ट्रेंथ पर काम कर सकते थे। दिमाग में खेल को लेकर योजना बनाते रहे। अच्छे प्रदर्शन के लिए जरूरी है कि किसी भी सीरीज से पहले तैयारी का पर्याप्त मौका मिले और विदेशी सरजमीं के अनुसार ढलने का भी। उन्होंने बताया कि 25 जुलाई से बेंगलुरु में भारतीय टीम का कैंप आयोजित होने जा रहा है। यहां से आस्ट्रेलिया के साथ आगामी सीरीज के लिए टीम का चयन होगा।

यह भी पढ़ें:-देहरादून पहुंचने पर युवा क्रिकेटर स्नेह राणा का जोरदार स्वागत, श्री दरबार साहिब में मत्था टेका

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.