Coronavirus Effect: परिवहन विभाग को कोरोना काल में 60 प्रतिशत राजस्व का नुकसान, 89 फीसद कम हुई वसूली

परिवहन विभाग को कोरोना काल में 60 प्रतिशत राजस्व का नुकसान।
Publish Date:Sun, 27 Sep 2020 04:35 PM (IST) Author: Raksha Panthari

देहरादून, राज्य ब्यूरो। परिवहन विभाग को कोरोना काल में 60 प्रतिशत राजस्व का नुकसान हुआ है। विभाग को सबसे अधिक नुकसान देहरादून संभाग में हुआ है। जहां उसे 9.92 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। कोरोना के कारण लगे लॉकडाउन के बाद परिवहन विभाग को राजस्व का खासा नुकसान झेलना पड़ा है। यहां तक कि इस वर्ष प्रदेश सरकार ने परमिट रिन्यू करने और वाहन टैक्स को छूट प्रदान की है। इसके अलावा इस वर्ष वाहनों की बिक्री भी बहुत कम है। इस कारण विभाग को राजस्व नहीं मिल पाया है और खासा नुकसान उठाना पड़ा है। 

दरअसल, विभाग के राजस्व का मुख्य स्रोत में विभिन्न वाहनों से मिलने वाला टैक्स, रजिस्ट्रेशन, रिन्युअल, रोड टैक्स, लाइसेंस फीस के अलावा नए परमिट जारी करने के लिए मिलने वाली फीस शामिल है। मार्च के बाद इस पहले तीन माह तो बाजार बंद रहे। इसके बाद कार्यालय तो खुले लेकिन यहां काम रफ्तार नहीं पकड़ पाया है। व्यवसायिक वाहनों का संचालन काफी कम हो रहा है, ऐसे में चेकपोस्ट से भी विभाग को राजस्व नहीं मिल पा रहा है। इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि विभाग को इस वर्ष बीते वर्ष की तुलना में 89 प्रतिशत कम टैक्स मिला है। 

चेकपोस्टों से भी राजस्व वसूली में 59.81 प्रतिशत का घाटा हुआ है। वहीं बात करें संभागों की तो देहरादून संभाग में 62.82, पौड़ी संभाग में 63.75, हल्द्वानी संभाग में 57.21 और अल्मोड़ा संभाग में 59.81 प्रतिशत का नुकसान हुआ है। अब व्यवस्था धीरे-धीरे पटरी पर आ रही है तो विभाग भी राजस्व में वृद्धि की उम्मीद जता रहा है। 

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड की आर्थिक विकास दर को झटका, जानिए कितने फीसद की आई गिरावट

संभाग          राजस्व 2019    राजस्व 2020

देरादून संभाग  15169.56      5247.25

पौड़ी संभाग       1660.31       587.41

हल्द्वानी संभाग  8788.04    3760.39

अल्मोड़ा संभाग   1312.04     527.37

मुख्यालय            245.11      25.92

विभिन्न टैक्स   2963.64       1792.09

महायोग          30139.06      11940.43

(नोट: तुलनात्मक आंकड़े जुलाई माह तक के हैं।) 

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में 6.37 लाख श्रमिकों ने भुगता लॉकडाउन का खामियाजा, जानें- औद्योगिक इकाइयों की स्थिति 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.