मुख्‍यमंत्री बोले, सूर्याधार जलाशय से 30 हजार की आबादी को मिलेगा शुद्ध पेयजल व सिंचाई का पानी

मुख्यमंत्री ने कहा कि झील के बनने से तीस हजार की आबादी को सिंचाई व पीने का पानी उपलब्ध होगा।

डोईवाला विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत सूर्यधार में रविवार को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने बहुउद्देश्य झील का लोकार्पण किया। इस झील का नाम आरएसएस व भाजपा के वरिष्ठ नेता गजेंद्र दत्त नैथानी पानी के नाम पर रखा गया।

Publish Date:Sun, 29 Nov 2020 04:36 PM (IST) Author: Sumit Kumar

डोईवाला, जेएननएन।  मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने डोईवाला विधानसभा क्षेत्र अंतर्गत निर्मित स्व. गजेंद्र दत्त नैथानी, जलाशय सूर्याधार का लोकार्पण किया। उन्होंने यहां लगाई गई स्व. नैथानी की प्रतिमा पर पुष्प चढ़ाकर श्रद्धांजलि दी। मुख्यमंत्री ने छह करोड़ 79 लाख की विभिन्न योजनाओं का शिलान्यास भी किया। उन्होंने कहा कि प्रदेश में 400 करोड़ की लागत से साइंस कॉलेज का निर्माण किया जाएगा। इसके लिए जगह चिह्नित कर ली गई है। जिसमें रिसर्च का कार्य होगा। सौंग में जल्द ही बांध बनेगा। इसके लिए फॉरेस्ट क्लीयरेंस मिल चुकी है। मार्च 2021 तक शिलान्यास का प्रयास है।

कहा कि संघ व भाजपा के वरिष्ठ नेता स्वर्गीय गजेंद्र दत्त नैथानी के नाम से इस झील को जाना जाएगा। उनका पार्टी व क्षेत्र के लिए बड़ा योगदान रहा है।  क्षेत्र में लंबे समय से पेयजल व सिंचाई की समस्या रही है। इस झील से मैदानी और पर्वतीय क्षेत्र की 30 हजार की आबादी व 18 गांवों के अलावा आसपास क्षेत्रों में शुद्ध पेयजल व सिंचाई का पानी मिलेगा। वह खुद समय-समय पर सूर्याधार में निर्माणाधीन झील के निरीक्षण करते रह हैं। झील से देहरादून जिला एक नए टूरिस्ट डेस्टिनेशन के तौर पर भी उभरेगा। यहां आने वाले पर्यटक नौकायन के साथ प्रकृति का दीदार कर सकेंगे। इस बहुउद्देशीय योजना के माध्यम से प्रति वर्ष सात करोड़ रुपये की बिजली की बचत भी होगी। उन्होंने कहा कि झील बनने से पक्षी विहार भी होगा। देश- विदेश के पक्षी इस झील में आएंगे। इससे पर्यावरण को भी लाभ पहुंचेगा। पानी के स्रोत भी रिचार्ज होंगे। झील के पास हर साल बसंत पंचमी, मकर संक्रांति में समारोह भी आयोजित की जाएंगे। जिससे इलाके में पर्यटन को बढ़ावा मिल सके। उन्होंने कहा कि गैरसैंण, पिथौरागढ़, अल्मोड़ा, श्रीनगर में भी झील बनाई जाएगी। सौंग व जमरानी बांध प्रोजेक्ट को भी शीघ्र चालू किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार ने एक रुपये में पानी का कनेक्शन देकर प्रधानमंत्री की हर घर को पानी देने की मुहिम को पूरा करने का बीड़ा उठाया है। पहाड़ की महिलाओं को सिर की गठरी वाले घास से मुक्ति दिलाना भी बड़ा टारगेट है। प्रदेश के प्रत्येक ब्लॉक में इसके लिए पायलेट प्रोजेक्ट बनाया जाएगा।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में इन पांच नदियों में खनन को केंद्र पर निगाह, जानिए

सिंचाई विभाग के सचिव नितेश  कुमार झा ने कहा कि झील से आने वाले समय में क्षेत्र के विकास के साथ किसानों व ग्रामीणों को इसका लाभ मिलेगा। सिंचाई विभाग के विभागाध्यक्ष मुकेश मोहन ने कहा कि सूर्याधार परियोजना में कोविड-19 के कारण थोड़ी रुकावट हुई थी। लेकिन, विभाग ने इस परियोजना को नाबार्ड की मदद से समय से पूर्व पूरा किया। भाजपा जिला अध्यक्ष शमशेर सिंह पुंडीर ने विधानसभा क्षेत्र में बांध (झील) के अलावा कई सौगात देने के लिए मुख्यमंत्री का आभार जताया। दर्जाधारी करण बोहरा, मुख्यमंत्री के ओएसडी धीरेंद्र पंवार, कृष्ण कुमार सिंघल ने इसे बड़ी उपलब्धि बताया। भाजपा के दीवान सिंह रावत के संचालन में आयोजित कार्यक्रम में जिलाधिकारी डॉ. आशीष श्रीवास्तव, ग्राम प्रधान धर्मपाल सिंह, राजेंद्र मनवाल, विनय कंडवाल, अशोकराज पंवार, अमित शाह, संदीप गुप्ता, नरदेव पुंडीर, नवीन चौधरी, अनीता सेमवाल, प्रदीप सिंधवाल, अतुल पुंडीर, गन्ना भाई घनानंद, विनय उनियाल, बबीता तिवारी, सैनपाल कंडारी व संजीव नैथानी आदि भी उपस्थित थे। 

यह भी पढ़ें: उत्तरकाशी: तुल्याड़ा के नवनीत ने हासिल किया बड़ा मुकाम, इस पद पर हुआ चयन

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.