ललित कला के क्षेत्र में रोजगार की अपार संभावनाएं, विद्यार्थियों को बस रुचि के अनुरूप ढलने की जरूरत

ललित कला के क्षेत्र में रोजगार की अपार संभावनाएं।

डीएवी कॉलेज की करियर काउंसलिंग और प्लेसमेंट सेल ने ऑनलाइन व्याख्यान आयोजित किया। कार्यक्रम के मुख्य वक्ता चित्रकला राजकीय हमीदिया कला और कॉमर्स महाविद्यालय भोपाल के अध्यक्ष प्रो. आलोक भावसार रहे। उन्होंने कहा कि आज के दौर में कोई भी क्षेत्र ऐसा नहीं है जो कला से अछूता रहे।

Publish Date:Wed, 27 Jan 2021 08:21 AM (IST) Author: Raksha Panthri

जागरण संवाददाता, देहरादून। डीएवी कॉलेज की करियर काउंसलिंग और प्लेसमेंट सेल ने ऑनलाइन व्याख्यान आयोजित किया। कार्यक्रम के मुख्य वक्ता चित्रकला राजकीय हमीदिया कला और कॉमर्स महाविद्यालय भोपाल के अध्यक्ष प्रो. आलोक भावसार रहे। उन्होंने कहा कि आज के दौर में कोई भी क्षेत्र ऐसा नहीं है जो कला से अछूता रहे। ललित कला के क्षेत्र में अपार संभावनाएं हैं। केवल विद्यार्थियों को उसमें अपनी रुचि के अनुरूप ढलने की जरूरत है। 

उन्होंने कहा कि चित्रकला में एक शिक्षक के अतिरिक्त टैक्सटाइल, डिजाइनर, फोटोग्राफी, फिल्म, नाटक और भवन निर्माण जैसे क्षेत्रों में आवश्यकता होती है। जिसके लिए देश के अलग-अलग महाविद्यालयों में कोर्स भी कराए जाते हैं। उसमें दक्षता हासिल करके आज विद्यार्थी ललित कला में आसानी से रोजगार पा सकते हैं। 

कार्यक्रम की शुरुआत करते हुए सह संयोजक डॉ. हरिओम शंकर ने कहा कि इस प्रकार के आयोजन से ललित कला के विद्यार्थियों को बहुत अधिक लाभ मिलेगा। महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. अजय सक्सेना ने कहा कि महाविद्यालय के जो विद्यार्थी इस कार्यक्रम में जुड़े हैं उन्हें प्रो. आलोक के व्याख्यान से रोजगार प्राप्त करने में मदद मिलेगी। कार्यक्रम में प्लेसमेंट सेल की डॉ. हरप्रीत कौर, पूजा भास्कर, निशा, यशवंत, गजेंद्र, अजय आदि शामिल रहे।

बीएड टीईटी प्रशिक्षितों ने दिया धरना

उत्तराखंड बीएड टीईटी वर्षवार महासंघ ने शिक्षा निदेशालय में एनआइओएस डीएलएड को गतिमान भर्ती प्रक्रिया में शामिल न करने की मांग पर धरना दिया। महासंघ ने राज्यमंत्री जगबीर भंडारी को भी ज्ञापन सौंपकर मांगे रखी। बीएड टीईटी वर्षवार महासंघ का एक प्रतिनिधिमंडल पूर्व अध्यक्ष मनवीर रावत के नेतृत्व में राज्य मंत्री जगबीर भंडारी से मिला। उन्होंने गतिमान प्राथमिक वर्षवार भर्ती में 31 मार्च 2021 तक के समस्त सेवानिवृत्त और पदोन्नति के पदों को सरकार से शामिल करने की मांग की।

उन्होंने एनआइओएस डीएलएड 18 महीने की अवधि के कार्यक्रम को शिक्षक भर्ती में न लिए जाने का निरस्तीकरण पत्र जल्द से जल्द जारी करने की पैरवी भी की। प्रतिनिधिमंडल में महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष राजीव राणा, महासचिव बलवीर बिष्ट, प्रदेश प्रवक्ता अर्पण जोशी, महामंत्री विवेक नैनवाल, उपाध्यक्ष मनोज रावत, कोषाध्यक्ष हरी प्रसाद थपलियाल समेत अन्य लोग शामिल रहे।

यह भी पढ़ें- उत्‍तराखंड : सौ फीसद साक्षरता वाला देश का पहला जिला बना देहरादून

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.