मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के लिए सात विधानसभा सीटों पर मंथन

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत विधानसभा की रिक्त चल रही गंगोत्री सीट से चुनाव लड़ सकते हैं। सरकार और संगठन के मध्य शुक्रवार को देर शाम प्रदेश भाजपा कार्यालय में हुई बैठक में मुख्यमंत्री की सीट को लेकर चर्चा की गई। इसके लिए सात सीटों पर संभावनाएं तलाशी गईं।

Sunil NegiSat, 12 Jun 2021 07:54 AM (IST)
सरकार और संगठन के मध्य प्रदेश भाजपा कार्यालय में हुई बैठक में मुख्यमंत्री की सीट को लेकर चर्चा की गई।

राज्य ब्यूरो, देहरादून। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत विधानसभा की रिक्त चल रही गंगोत्री सीट से चुनाव लड़ सकते हैं। सरकार और संगठन के मध्य शुक्रवार को देर शाम प्रदेश भाजपा कार्यालय में हुई बैठक में मुख्यमंत्री की सीट को लेकर चर्चा की गई। इसके लिए सात सीटों पर संभावनाएं तलाशी गईं। अलबत्ता, गंगोत्री पर विशेष फोकस रहा। बताया गया कि मुख्यमंत्री की सीट के लिए केंद्रीय नेतृत्व से विमर्श के बाद ही कोई निर्णय लिया जाएगा। बैठक में यह भी तय किया गया कि 19 जून को पार्टी की प्रदेश कार्यसमिति की बैठक होगी। इसके अलावा आगामी विधानसभा चुनाव के दृष्टिगत चिंतन शिविर का आयोजन, कोरोना वारियर का सम्मान समेत अन्य कार्यक्रम भी निर्धारित किए गए।

प्रदेश सरकार में नेतृत्व परिवर्तन के बाद गढ़वाल सांसद तीरथ सिंह रावत ने 10 मार्च को मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली। संवैधानिक बाध्यता के अनुसार उन्हें छह माह के भीतर विधानसभा का सदस्य बनना है। इसे देखते हुए सियासी गलियारों में चर्चा जोरों पर है कि मुख्यमंत्री किस सीट से चुनाव लड़ेंगे। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की मौजूदगी में हुई सरकार और संगठन के मध्य समन्वय बैठक में भी तीरथ के लिए गंगोत्री के अलावा विधानसभा की चौबट्टाखाल, धर्मपुर, यमकेश्वर, बदरीनाथ, लैंसडौन, कोटद्वार व भीमताल सीटों पर चर्चा हुई। सूत्रों ने बताया कि गंगोत्री सीट को लेकर विशेष रूप से चर्चा की गई। तय किया गया कि केंद्रीय नेतृत्व से बातचीत के बाद ही मुख्यमंत्री के लिए सीट का निर्धारण किया जाएगा।

बैठक के बाद पत्रकारों से बातचीत में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने बताया कि बैठक में पार्टी के आगामी कार्यक्रमों चिंतन शिविर, कार्यसमिति की बैठक, जिलों में कोरोना वारियर का सम्मान और कोरोना में सेवा कार्य के दौरान खुद या अपनों को खो चुके पार्टीजनों के घर जाकर ढांढस बंधाने के संबंध में चर्चा की गई।

कौशिक ने बताया कि प्रदेश कार्यसमिति की बैठक 19 जून को वर्चुअल माध्यम से होगी। चिंतन शिविर इस माह के आखिर अथवा अगले माह प्रथम सप्ताह में होगा। इसके लिए प्रदेश महामंत्री जल्द ही स्थल का निर्धारण करेंगे। फिलहाल चिंतन बैठक के लिए अल्मोड़ा जिला संभावित है, मगर यह किसी अन्य स्थान पर भी हो सकती है। उन्होंने बताया कि कोरोना वारियर के सम्मान और कार्यकर्त्‍ताओं से संपर्क के लिए अभियान शुरू किया जा रहा है।

बैठक में सरकार के कामकाज के साथ ही सांगठनिक कार्यों पर भी विमर्श हुआ। प्रदेश अध्यक्ष कौशिक की अध्यक्षता में हुई बैठक में मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत, प्रदेश महामंत्री संगठन अजेय, प्रदेश महामंत्री राजेद्र भंडारी, कुलदीप कुमार व सुरेश भट्ट मौजूद थे।

हकीकत से आंख चुरा रही कांग्रेस

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने कांग्रेस और विपक्षी दलों के पेट्रोल-डीजल की कीमतों में वृद्धि को लेकर धरना-प्रदर्शन पर पलटवार किया। उन्होंने कहा कि विपक्ष का धरना-प्रदर्शन जानबूझकर हकीकत से आंख चुराने जैसा है। उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में तेल की कीमतों में तेजी का असर देश के घरेलू बाजार पर भी पड़ा है। यह तथ्य किसी से छिपा नहीं है कि भारत अपनी जरूरत का 80 प्रतिशत तेल आयात करता है। इसका असर जरूर उपभोक्ताओं पर पड़ रहा है, लेकिन कांग्रेस इस पर शोर मचाने की बजाए कांग्रेस शासित प्रदेशों में वैट की दर घटाकर जनता को राहत देने का कहीं भी कोई उदाहरण सामने नहीं आया।

यह भी पढ़ें-उत्‍तराखंड : पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमत के विरोध में कांग्रेस का प्रदर्शन

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.