देहरादून: शहर में यातायात में सबसे बड़े बाधा बने बाटल नेक, यहां रहती है जाम की समस्‍या

शहर में यातायात की सबसे बड़ी समस्या बाटल नेक बन गए हैं। मंत्रियों से लेकर अधिकारियों तक सभी ने बाटल नेक की समस्या खत्म करने के आदेश जारी किए हैं लेकिन हालत सुधरने के नाम नहीं ले रहे हैं।

Sumit KumarPublish:Fri, 03 Dec 2021 09:10 PM (IST) Updated:Fri, 03 Dec 2021 09:12 PM (IST)
देहरादून: शहर में यातायात में सबसे बड़े बाधा बने बाटल नेक, यहां रहती है जाम की समस्‍या
देहरादून: शहर में यातायात में सबसे बड़े बाधा बने बाटल नेक, यहां रहती है जाम की समस्‍या

जागरण संवाददाता, देहरादून: शहर में यातायात की सबसे बड़ी समस्या बाटल नेक बन गए हैं। मंत्रियों से लेकर अधिकारियों तक सभी ने बाटल नेक की समस्या खत्म करने के आदेश जारी किए हैं, लेकिन हालत सुधरने के नाम नहीं ले रहे हैं। हाल यह है कि बाटल नेक पर हर समय जाम की स्थिति बनी रहती है। शहर में सबसे बुरा हाल जोगीवाला चौक, प्रिंस चौक व दर्शन लाल चौक का है, जहां पर यातायात की समस्या का हल नहीं हो पा रहा है।

पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने सितंबर महीने में दून पुलिस के साथ बैठक कर शहर के 17 बाटल नेकों की स्थिति के सुधारीकरण के आदेश जारी किए थे। इसके बाद यातायात विभाग ने समय-समय पर बाटल नेक का जायजा तो लिया लेकिन अब तक हल नहीं निकल पाया है।

वर्तमान में महाराजा प्रिंस चौक व तहसील चौक तक सड़क के बाईं ओर जगह-जगह कार्य किया जा रहा है। तहसील चौक से दर्शनलाल चौक के मध्य जगह-जगह सड़क पर कार्य किए जाने के बाद डामरीकरण का कार्य नहीं किया गया है। जोगीवाला चौक में जाम की समस्या को देखते हुए सड़क के बीचों बीच डिवाइडर लगाए हुए हैं। इस मामले को लेकर एसपी यातायात स्वप्न किशोर ने बताया कि बाटल नेक के कारण शहर की यातायात व्यवस्था बिगड़ी हुई है। इसमें सुधारीकरण के प्रयास किए जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें-हरिद्वार-दून राजमार्ग का सबसे बड़ा बॉटलनेक बना जोगीवाला

निजी पार्किंग की भी नहीं हो पा रही व्यवस्था

बेतरतीब पार्किंग के कारण शहर में जगह-जगह जाम की स्थिति बन रही है। पुलिस महानिदेशक ने नगर निगम, एमडीडीए, स्मार्ट सिटी कंपनी से सामंजस्य बनाकर निजी पार्किंग बनाने के आदेश जारी किए थे, लेकिन इस दिशा में भी अब तक कोई कार्रवाई नहीं हो पाई है।

यह भी पढ़ें- पीएम मोदी कल दून में जनसभा को करेंगे संबोधित, सीएम धामी ने कार्यक्रम स्थल का लिया जायजा