पहाड़ के लोकजीवन में गहरे तक रची-बसी है घुघुती, इस पक्षी का लोगों के साथ है बेहद करीबी रिश्ता

पर्वतीय अंचल के लोकजीवन में गहरे तक रची-बसी है घुघुती। यूं कहें कि संपूर्ण जनमानस और संवेदनाओं के साथ इस खूबसूरत पक्षी का बेहद करीबी रिश्ता है तो अतिश्योक्ति नहीं होगी। यही वजह भी है कि गढ़वाल और कुमाऊं के लोकगीतों में घुघुती को समान रूप से प्रमुखता मिली है

Raksha PanthriSat, 11 Sep 2021 01:43 PM (IST)
पहाड़ के लोकजीवन में गहरे तक रची-बसी है घुघुती।

केदार दत्त, देहरादून। विषम भूगोल वाले उत्तराखंड के पर्वतीय अंचल के लोकजीवन में गहरे तक रची-बसी है घुघुती। यूं कहें कि संपूर्ण जनमानस और संवेदनाओं के साथ इस खूबसूरत पक्षी का बेहद करीबी रिश्ता है तो अतिश्योक्ति नहीं होगी। यही वजह भी है कि गढ़वाल और कुमाऊं के लोकगीतों में घुघुती को समान रूप से प्रमुखता मिली है। 'प्यारी घुघूति जैलि मेरी मांजी तैं पूछि एैलि...' जैसे गीत को ही लें तो इसमें छिपे उदासी के भाव से कठोर से कठोर हृदय भी पिघल जाता है। पर्वतीय अंचल में सुख-दुख, संयोग-वियोग, खुद, प्यार-दुलार, त्याग समेत संपूर्ण संस्कृति से घुघुती का अटूट रिश्ता है।

पहाड़ के सभी क्षेत्रों में मिलने वाली घुघुती (डोव) ऐसा पक्षी है, जिसका यहां के जनमानस से करीबी संबंध है। यहां की माटी के रंगों में रची-बसी और दिखने में बेहद सुंदर घुघुती की घूर-घूर (आवाज) हर किसी को अपनी तरफ आकर्षित करती है। घुघुती सदियों से पहाड़ी लोकजीवन का महत्वपूर्ण हिस्सा है और यही कारण भी है कि लोकरंगों में जितनी तवज्जो इस पक्षी को मिली है, उतनी शायद अन्य किसी को नहीं।

लोकगीतों में तो घुघुती को खूब महत्व मिला है और ये गीत उदासी में भी रंग घोलते नजर आते हैं। 'मेरी प्यारी घुघूति जैलि मेरी मांजी तैं पूछि ऐलि...' जैसा खुदेड़ गीत आज भी आंखों को नम कर देता है। सरहद की हिफाजत में तैनात अपने फौजी पति की याद में खोई उसकी पत्नी घुघुती की घूर-घूर सुनते ही कह उठती है 'ना बास घुघुती घूर घूर स्वामि जयां छन दूर-दूर...।' घुघुती के उड़ने पर वह उसका संदेशा पति तक पहुंचने की अनुभूति का अहसास करती है।

यह भी पढ़ें- यहां 100 करोड़ से तैयार हो रहा देश का पहला पोस्ट एंट्री क्वारंटाइन सेंटर, विदेशी पौधे होंगे क्वारंटाइन

घुघुती से जुड़े अन्य लोकगीतों का जिक्र करें तो 'ना बासा ना बासा, घुघुती न बासा, अमै की डाई मां घुघुती न बासा...', 'घुघुती घुरोण लैगे मेरा मैत की, बौडि़-बौडि़ ऐगे ऋतु चैत की...', 'ना बास घुघुती चैत की खुद लगीं च मां मैत की...' जैसे लोकगीत आज भी खूब गुनगुनाए जाते हैं। ये सभी सुख-दुख, संयोग-वियोग, रैबार, खुद, स्नेह से जुड़े हैं। साफ है कि घुघुती का पहाड़वासियों के साथ ही पर्वतीय अंचल के कण-कण से नाता है। इसीलिए तो वह यहां के निवासियों के दिलों पर राज करती है।

यह भी पढ़ें- International Apple Festival: उत्तराखंड के सेब को मिलेगी नई पहचान, जानें- कब होगा एप्पल फेस्टिवल

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.