विभिन्न मांगों को लेकर भोजन माताओं ने नगर शिक्षा अधिकारी का किया घेराव

स्थायीकरण और वेतन वृद्धि समेत विभिन्न मांगों को लेकर भोजन माताओं ने नगर शिक्षा अधिकारी का घेराव किया। इसके बाद उन्होंने नगर शिक्षा अधिकारी को ज्ञापन सौंपकर दोबारा कार्य पर रखने के लिए बजट जारी करने की मांग पर जोर दिया।

Sunil NegiFri, 06 Aug 2021 10:19 AM (IST)
विभिन्न मांगों को लेकर राजपुर रोड के समीप सीटू कार्यालय से रैली निकालकर प्रदर्शन करतीं भोजनमाता कामगार यूनियन की सदस्य।

जागरण संवाददाता, देहरादून। स्थायीकरण और वेतन वृद्धि समेत विभिन्न मांगों को लेकर भोजन माताओं ने नगर शिक्षा अधिकारी का घेराव किया। इसके बाद उन्होंने नगर शिक्षा अधिकारी को ज्ञापन सौंपकर दोबारा कार्य पर रखने के लिए बजट जारी करने की मांग पर जोर दिया। नगर शिक्षा अधिकारी ने भोजन माताओं की मांगों को शासन तक पहुंचाने का आश्वासन दिया है। भोजन माताओं ने मुख्यमंत्री को भी मांगपत्र प्रेषित किया है।

गुरुवार को प्रदेशभर से भोजन माताएं पुराना बस अड्डा स्थित सीटू कार्यालय में एकत्र हुईं। यहां से भोजन माताओं ने सीटू से संबद्ध उत्तराखंड भोजनमाता कामगार यूनियन के बैनर तले दोपहर में रैली के रूप में नगर शिक्षा अधिकारी के दफ्तर के लिए कूच किया। इस दौरान वह सरकार के खिलाफ नारेबाजी करती रहीं। वहां पहुंचकर प्रदर्शन किया। इसके बाद नगर शिक्षा अधिकारी आइएम बलोदी ने भोजन माताओं की तरफ से एक प्रतिनिधिमंडल को वार्ता के लिए बुलाया।

प्रतिनिधिमंडल में शामिल यूनियन की महामंत्री मोनिका ने नगर शिक्षा अधिकारी के समक्ष भोजन माताओं को पांच हजार रुपये प्रतिमाह मानदेय का शासनादेश जल्द जारी करने, कामगार का दर्जा देने और चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी घोषित करने की मांग की। उन्होंने कहा कि वर्षो से संघर्ष करने के बावजूद सरकार उनकी बात सुनने को तैयार नहीं है। उन्होंने विद्यालयों में भोजन माताओं से अतिरिक्त कार्य करवाने की शिकायत भी की। कहा कि अब यह शोषण बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इस अवसर पर सीटू के कोषाध्यक्ष रविंद्र नौडियाल, अनंत आकाश, रजनी रावत, आरती, चारुल ठाकुर, सुमन राय, सुशीला उपाध्याय, बबीता, दर्शनी राणा समेत अन्य लोग मौजूद रहे।

------------------- 

फार्मेसिस्टों ने स्वास्थ्य मंत्री को बताईं समस्याएं

डिप्लोमा फार्मेसिस्ट एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने गुरुवार को स्वास्थ्य मंत्री डा. धन सिंह रावत को अपने समस्याओं से अवगत कराया व इनके निराकरण की मांग की। संगठन के प्रांतीय अध्यक्ष प्रताप सिंह पंवार ने बताया कि लंबे समय से फार्मेसिस्ट संवर्ग के ढांचा पुनर्गठन की मांग की जा रही है। पर इस ओर कार्रवाई नहीं की जा रही है। बताया कि मंत्री से मुलाकात के दौरान उन्होंने 21 वर्ष बीत जाने के बाद भी संवर्ग का पुनर्गठन न होने, पोस्टमार्टम भत्ता, सेवा नियमावली, प्रोन्नति में शिथिलीकरण, 2009 के बाद नियुक्त फार्मेसिस्ट की वेतन विसंगति दूर करने सहित तमाम मांगें मंत्री के समक्ष रखीं। स्वास्थ्य मंत्री ने सभी मांगों को लेकर आश्वासन दिया कि उनको जल्द पूरा कराया जाएगा। इस दौरान संगठन के प्रांतीय महामंत्री आरएस ऐरी, संप्रेक्षक उर्मिला द्विवेदी, जिलाध्यक्ष सुधा कुकरेती और अशोक पांडेय शामिल थे।

यह भी पढ़ें:-उत्तराखंड में PCS अधिकारियों ने उठाया पदोन्नति का मुद्दा, कहा- राज्य बनने के बाद से अब तक नहीं हुई कार्यवाही

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.