मसूरी में दो दिसंबर को मनाई जाएगी बग्वाली, अगलाड़ यमुनाघाटी विकास मंच बैठक में लिया फैसला

अगलाड़ यमुनाघाटी विकास मंच दो दिसंबर को मसूरी में जनजातीय पुरानी दीपावली (बग्वाली)मनाएगा। जिसमें संपूर्ण यमुना घाटी व अगलाड़ घाटी के मसूरी में रहने वाले प्रवासी भाग लेंगे। गुरुवार को मसूरी कैम्पटी रोड पर पुरानी टोल चौकी के समीप मंच के उपाध्यक्ष बलबीर सिंह चौहान की अध्यक्षता में बैठक हुई।

Sumit KumarPublish:Fri, 26 Nov 2021 05:09 PM (IST) Updated:Fri, 26 Nov 2021 05:09 PM (IST)
मसूरी में दो दिसंबर को मनाई जाएगी बग्वाली, अगलाड़ यमुनाघाटी विकास मंच बैठक में लिया फैसला
मसूरी में दो दिसंबर को मनाई जाएगी बग्वाली, अगलाड़ यमुनाघाटी विकास मंच बैठक में लिया फैसला

संवाद सहयोगी, मसूरी: अगलाड़ यमुनाघाटी विकास मंच दो दिसंबर को मसूरी में जनजातीय पुरानी दीपावली (बग्वाली)मनाएगा। जिसमें संपूर्ण यमुना घाटी व अगलाड़ घाटी के मसूरी में रहने वाले प्रवासी भाग लेंगे। गुरुवार को मसूरी कैम्पटी रोड पर पुरानी टोल चौकी के समीप मंच के उपाध्यक्ष बलबीर सिंह चौहान की अध्यक्षता में बैठक हुई। इसमें सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि दो दिसंबर को दोपहर बाद पुरानी टोल चौकी के समीप अगलाड़ यमुनाघाटी विकासमंच के निर्माणाधीन भवन परिसर में ही होलियात का आयोजन किया जाएगा।

भीमल की लकड़ि‍यों से बने होल्ले खेले जाएंगे और भिरूड़ी भी बांटी जाएगी। इस पर्व में पूरे जौनपुर व रवांई में उड़द की दाल से बनाए जाने वाले पकोड़े, साठी से बनी चिउड़ा तथा भिरूड़ी बराज के अखरोट प्रसाद स्वरूप वितरित किए जाएंगे। बैठक में निर्णय लिया गया कि दो दिसंबर को डिबसा (होलियात) जलाने के बाद रासौ, तांदी व सराई नृत्य का आयोजन किया जाएगा। जो अमूमन बग्वाली त्योहार में अगलाड़ व यमुनाघाटी के हरएक गांव में आयोजित किया जाता है।

यह भी पढ़ें-भर्ती होने पर कैशलेस चिकित्सा सुविधा, उत्तराखंड के सूचीबद्ध अस्पतालों में असीमित धनराशि तक मिलेगा उपचार

 

मंच की बैठक में इस बात पर विशेष चर्चा हुई कि बहुत से प्रवासी बग्वाली त्योहार में अपने गांव नहीं जा पाते हैं। इसलिये क्यों न मसूरी में ही बग्वाली का आयोजन किया जाए। जिससे हमारी आने वाली पीढ़ी भी अपनी बहुमूल्य सांस्कृतिक धरोहर से रूबरू हो सके। उनका जुड़ाव अपनी संस्कृति से बना रहे। बैठक में मंच के कोषाध्यक्ष सूरत सिंह खरकाई, दिनेश पंवार, रणबीर कंडारी, मेघ सिंह कंडारी, प्रकाश राणा, नरेश नौटियाल, राकेश राणा, सुमन नौटियाल, रमेश रावत, कुलदीप रावत, कुलदीप रौंछेला, सुनील सिंह पंवार, दलबीर सिंह गुसाईं, आशुतोष कोठारी, बिरेंद्र सिंह रावत, बिक्रम सिंह नेगी, नरेंद्र चौहान, गुडमोहन राणा आदि उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें- हरिद्वार में केरल के राज्यपाल, भूमानंद अस्पताल के कैथ लैब, 50 बेड की नवनिर्मित इमरजेंसी का किया लोकार्पण