आयुष मंत्री हरक सिंह रावत बोले, उत्तराखंड में आयुष की अपार संभावनाएं; युवाओं को रोजगार भी मिलेगा

आयुष मंत्री डा. हरक सिंह रावत ने कहा कि प्रदेश में जैव विविधता के चलते आयुष के विकास की अपार संभावनाएं हैं। इससे युवाओं को शिक्षा के साथ रोजगार भी प्राप्त होगा। सरकार ऐसी नीति बना रही है जिसका आमजन को लाभ मिल सके।

Raksha PanthriTue, 30 Nov 2021 09:39 AM (IST)
आयुष मंत्री हरक सिंह रावत बोले, उत्तराखंड में आयुष की अपार संभावनाएं।

जागरण संवाददाता, देहरादून। उत्तराखंड के आयुष मंत्री डा. हरक सिंह रावत (Harak Singh Rawat) ने कहा कि प्रदेश में जैव विविधता के चलते आयुष के विकास की अपार संभावनाएं हैं। इससे युवाओं को शिक्षा के साथ रोजगार भी प्राप्त होगा। सरकार ऐसी नीति बना रही है, जिसका आमजन को लाभ मिल सके।

सोमवार से उत्तराखंड विज्ञान एवं तकनीकी परिषद (यूकास्ट) के विज्ञान धाम परिसर, झाझरा में दो दिवसीय इंटरनेशनल साइंस एंड टेक्नोलाजी फेस्टिवल-2021 शुरू हुआ। जिसमें पहले दिन हिमालयन वाइस चांसलर कान्क्लेव आयोजित किया गया, जिसका आयुष मंत्री ने उद्घाटन किया। कान्क्लेव में हिमालयी क्षेत्र के सभी 13 राज्य व केंद्र शासित प्रदेश के 30 से ज्यादा विश्वविद्यालयों के कुलपति और कई शिक्षाविद ने भाग लिया।

इस मौके पर उत्तराखंड श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.पीपी ध्यानी ने हिमालयी राज्यों में स्थापित विश्वविद्यालयों को सुझाव दिया कि वे हिमालय संरक्षण के लिए शोध को बढ़ावा दें, ताकि हिमालयी क्षेत्र की जलवायु संरक्षण के साथ रोजगार के अवसर भी बढ़ें। हेमवती नंदन बहुगुणा केंद्रीय विश्वविद्यालय, श्रीनगर (गढ़वाल)के पूर्व कुलपति प्रो. एसपी सिंह ने कान्क्लेव की रूपरेखा को प्रस्तुत किया।

यह भी पढ़ें- दून अस्पताल में एक दिसबंर से शुरू होगी फ्लू ओपीडी, आयुष्मान वार्ड के चालीस बेड कोरोना मरीजों के लिए आरक्षित

दस दौरान उत्तराखंड यूनिवर्सिटी आफ हार्टीकल्चर एंड फारेस्ट्री के कुलपति प्रो.अजीत कर्नाटक, यूनिवर्सिटी आफ पेट्रोलियम एंड इनर्जी स्टडीज (यूपीइएस) के कुलपति प्रो. सुनील राय, ग्राफिक एरा यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रो.नागराजा, यूकास्ट के महानिदेशक डा.राजेंद्र डोभाल, पतंजलि विवि हरिद्वार के डीन प्रो. वीके कटियार सहित शिक्षाविद ने विचार व सुझाव साझा किए। वक्ताओं ने हिमालयी परिक्षेत्र के अनेकों विषयों पर विचार विमर्श किया। हिमालय से संबंधित समस्याएं और उनके समाधान पर भी चर्चा की गई। कार्यक्रम का संचालन टनकपुर इंजीनियरिंग कालेज के निदेशक प्रो. अमित अग्रवाल ने किया।

यह भी पढ़ें- Omicron के खतरे ने बढ़ाई टेंशन, उत्तराखंड सरकार भी अलर्ट; कोरोना योद्धाओं के लिए आरटीपीसीआर टेस्ट अनिवार्य

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.