एक दिसंबर से किराया मीटर बिना दौड़ रहे ऑटो होंगे सीज

देहरादून, जेएनएन। शहर में ऑटो चालक अब यह बहाना नहीं कर पाएंगे कि उनकी गाड़ी का मीटर खराब है। एक दिसंबर से पुलिस उन्हीं ऑटो को चलने देगी, जिनमें लगे मीटर ठीक दशा में होंगे। चेकिंग में मीटर खराब पाए जाने पर उन्हें सीज कर दिया जाएगा। उधर, एसएसपी अरुण मोहन जोशी ने शनिवार को परिवहन विभाग को पत्र भेजकर कहा कि वह विभिन्न रूटों के ई-रिक्शा का किराया भी तय करते हुए उसकी सूची हर ई-रिक्शा पर चस्पा कराना सुनिश्चित किया जाए। ताकि आम लोगों से मनमाना किराया न वसूला जा सके।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अरुण मोहन जोशी ने शनिवार को ऑटो व ई-रिक्शा यूनियनों के साथ बैठक की। 

एसपी ट्रैफिक व सीओ की रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि अधिकांश ऑटो चालक मीटर के बजाय मनमाना किराया वसूल रहे हैं। यह नियम विरुद्ध है। किसी भी दशा में लोगों से मनमाना किराया न वसूला जाए। उन्होंने चेतावनी दी कि सवारियों की मजबूरी का फायदा उठाने के बजाय, उनके साथ सलीके पेश आएं और निर्धारित किराया ही लें। 

उन्होंने कहा कि देखने में आ रहा है कि तमाम ऑटो के मीटर खराब हैं, जिससे सवारी को पता ही नहीं चल पाता कि जहां वह जा रहे हैं, वहां तक का किराया कितना है। वहीं ई-रिक्शा संगठनों ने बताया कि परिवहन विभाग की ओर से अभी किराया तय नहीं किया गया है। एसएसपी ने बताया कि ई-रिक्शा का किराया निर्धारित करने के लिए परिवहन विभाग को पत्र भेजा गया है। यह भी कहा गया है कि वह किराया तय करने के बाद रेट लिस्ट को सभी ई-रिक्शा पर लगवाना भी सुनिश्चित कराएं।

पौने दो सौ वाहन का चालान

शनिवार शाम पुलिस ने अभियान चलाकर भीड़भाड़ वाले स्थानों पर मिले संदिग्ध लोगों की चेकिंग की। इस दौरान 175 वाहनों का चालान कर दिया गया। 18 कोर्ट के चालान किए गए, जबकि आठ वाहनों को सीज कर दिया गया। वहीं पुलिस एक्ट में 15 के खिलाफ कार्रवाई की गई।

यह भी पढ़ें: अब रोडवेज को सरकारी मदद मिलने में आ सकती है थोड़ी दिक्कतें

पौने दो सौ वाहन का चालान

शनिवार शाम पुलिस ने अभियान चलाकर भीड़भाड़ वाले स्थानों पर मिले संदिग्ध लोगों की चेकिंग की। इस दौरान 175 वाहनों का चालान कर दिया गया। 18 कोर्ट के चालान किए गए, जबकि आठ वाहनों को सीज कर दिया गया। वहीं पुलिस एक्ट में 15 के खिलाफ कार्रवाई की गई।

यह भी पढ़ें: दून से दिल्ली के लिए संचालित हो रही पांच डग्गामार बसें सीज Dehradun News

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.