सुगम में तैनात शिक्षकों का मैदान से नहीं छूट रहा है मोह

राजीव गांधी नवोदय विद्यालय में प्रवक्ताओं की पदस्थापना के लिए काउंसिलिंग करते शिक्षा उप शिक्षा निदेशक बीएस नेगी व अन्य।
Publish Date:Tue, 20 Oct 2020 11:01 AM (IST) Author: Sunil Negi

देहरादून, जेएनएन। सुगम में तैनात शिक्षकों का मैदान से मोह छूट नहीं रहा है। सहायक अध्यापक (एलटी) से प्रवक्ता बने 56 शिक्षकों ने सोमवार को काउंसिलिंग के दौरान पदस्थापना की च्वाइस नहीं भरी। यानी कि ये शिक्षक पदोन्नति नहीं चाहते, बल्कि जिन स्कूलों में फिलवक्त तैनात हैं, वहीं सेवा जारी रखना चाहते हैं। बताया जा रहा है कि च्वाइस न भरने वाले शिक्षकों में ज्यादातर मैदानी जिलों में तैनात हैं।

इसी वर्ष मई में प्रदेश के 1346 सहायक अध्यापकों को प्रवक्ता पद पर पदोन्नत किया गया था। पदोन्नति प्राप्त करने वाले शिक्षकों का स्थानांतरण किया जाना है, लेकिन पदस्थापना काउंसिलिंग कोरोना संकट के चलते बार-बार टल रही थी। सोमवार को राजीव गांधी नवोदय विद्यालय सभागार में इन शिक्षकों की पदस्थापना के लिए चार दिवसीय काउंसिलिंग शुरू हो गई। माध्यमिक शिक्षा अपर निदेशक आरके उनियाल की निगरानी में पहले दिन दो पालियों में 234 शिक्षकों की काउंसिलिंग हुई। काउंसिलिंग में सर्वाधिक 146 शिक्षक गणित के थे। काउंसिलिंग में विभिन्न विषयों के 56 शिक्षकों ने पदस्थापना की च्वाइस नहीं भरी। वहीं, काउंसिलिंग में च्वाइस भरने वाले कई शिक्षक भी सुगम में पदोन्नति की राह तलाशते दिखे।

आज इनकी होगी काउंसिलिंग

मंगलवार को सुबह की पाली में सामान्य वर्ग की जीव विज्ञान, कृषि, वाणिज्य, कला, शिक्षा शास्त्र, समाज शास्त्र और दूसरी पाली में जीव विज्ञान व अंग्रेजी क शिक्षकों की पदस्थापना काउंसिलिंग होगी।

अतिथि शिक्षकों की जगी उम्मीद

प्रवक्ताओं की काउंसिलिंग शुरू होने के बाद लंबे समय से नियुक्ति का इंतजार कर रहे अतिथि शिक्षकों की उम्मीद भी जग गई है। दरअसल, कोर्ट से छूट मिलने के बाद भी प्रदेश के 1500 अतिथि शिक्षकों को नियुक्ति नहीं मिली है। शिक्षा निदेशक आरके कुंवर ने प्रवक्ताओं की काउंसिलिंग के बाद अतिथि शिक्षकों की नियुक्ति करने के निर्देश दिए हैं। जिलों में भी इन शिक्षकों की नियुक्ति को लेकर कवायद शुरू हो गई है। सभी मुख्य शिक्षा अधिकारियों ने अतिथि शिक्षकों के आवेदन ले लिए हैं और उनके दस्तावेजों की जांच शुरू कर दी है। शिक्षा निदेशक ने बताया कि अगले माह तक नियुक्ति प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड: 11 साल की सेवा पर बनेंगे सीनियर सुपरवाइजर, पढ़िए पूरी खबर

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.