Jogiwala-Mussoorie Road: जोगीवाला-मसूरी मार्ग की भेंट चढ़ेंगे 2200 पेड़, पर्यावरणीय पहलुओं को लेकर अभी से होने लगा विरोध

Jogiwala-Mussoorie Road मसूरी जाने के लिए जोगीवाला से कुल्हान तक करीब 14 किलोमीटर लंबे दो-लेन मार्ग का चौड़ीकरण किया जाना है। इसके लिए मसूरी और देहरादून वन प्रभाग में करीब 2200 पेड़ चिह्नित किए गए हैं। इसमें पर्यावरणीय पहलुओं को लेकर अभी से विरोध होने लगा है।

Sumit KumarThu, 16 Sep 2021 02:15 PM (IST)
जोगीवाला से मसूरी जाने के लिए मार्ग का चौड़ीकरण प्रस्तावित है।

जागरण संवाददाता, देहरादून : जोगीवाला से मसूरी जाने के लिए मार्ग का चौड़ीकरण प्रस्तावित है। ऐसे में सुगम यातायात की भेंट 2200 पेड़ चढ़े सकते हैं। शहर के जाम से बचने के लिए यात्रियों को जोगीवाला से कुल्हान होते हुए मसूरी पहुंचाने की योजना है। हालांकि, इसमें पर्यावरणीय पहलुओं को लेकर अभी से विरोध होने लगा है।

मसूरी जाने के लिए जोगीवाला से कुल्हान तक करीब 14 किलोमीटर लंबे दो-लेन मार्ग का चौड़ीकरण किया जाना है। इसके लिए मसूरी और देहरादून वन प्रभाग में करीब 2200 पेड़ चिह्नित किए गए हैं। यह मार्ग जोगीवाला से रिंग रोड होते हुए लाडपुर से कुल्हान से मसूरी रोड पर मिलेगा। इस रूट पर हजारों नीलगिरी, आम और पीपल के पेड़ हैं, जिनमें से कुछ चौड़ीकरण की जद में आ रहे हैं। इस परियोजना का उद्देश्य दिल्ली समेत अन्य राज्यों से आने वाले पर्यटकों को देहरादून शहर में प्रवेश किए बिना सीधे मसूरी भेजना है। जिससे शहर को जाम से निजात मिल सके। खासकर पर्यटन सीजन में शहर और पर्यटक दोनों को राहत मिलने की उम्मीद है।

यह भी पढ़ें- Forest Research Institute: देहरादून में 22 साल बाद भरेगी FRI के ऐतिहासिक भवन की दरार

लोक निर्माण विभाग के मुताबिक, परियोजना को केंद्र से मंजूरी मिल गई है और केंद्रीय सड़क कोष से कुल 77 करोड़ रुपये की धनराशि स्वीकृत हो गई है। यहां मार्ग को चार-लेन में विकसित किया जाना है। जिसमें मार्ग की चौड़ाई न्यूनतम 10 मीटर से 14 मीटर तक रहेगी। हालांकि, अभी परियोजना की निविदा में समय है। लेकिन जद में आ रहे पेड़ों की गिनती कर ली गई है। प्रभागीय वनाधिकारी मसूरी कहकशां नसीम ने बताया कि उन्हें केवल पेड़ों की गिनती का प्रस्ताव दिया गया था।

यह भी पढ़ें- मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने जन्मदिन पर युवाओं को दिया तोहफा, प्रतियोगी परीक्षाओं का आवेदन शुल्क माफ करने की घोषणा की

 

अभी परियोजना के तहत पेड़ काटने की कोई अनुमति नहीं मिली है।

हालांकि, पर्यावरण प्रेमियों ने इसकी खिलाफत शुरू कर दी है। द अर्थ एंड क्लाइमेट इनिशिएटिव संस्था की सदस्य पर्यावरणविद डा. आंचल शर्मा ने बताया कि जोगीवाला-मसूरी मार्ग चौड़ीकरण में पेड़ काटने का विरोध किया जा रहा है। इंटरनेट मीडिया के माध्यम से अभियान चलाया जा रहा है। साथ ही हस्ताक्षर अभियान और रैली भी प्रस्तावित है। डा. आंचल शर्मा जौलीग्रांट एयरपोर्ट चौड़ीकरण और बालावाला में रिसर्च कालेज के नाम पर पेड़ों के कटान का भी विरोध कर रही हैं।

यह भी पढ़ें- देहरादून के जोगीवाला चौक में न अतिक्रमण हटा पाए, न चौक कर रहे चौड़ा

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.