छावनी परिषद देहरादून का 150 बेड का कोविड केयर सेंटर बनकर तैयार, मुख्‍यमंत्री ने किया लोकार्पण

छावनी परिषद देहरादून का 150 बेड का कोविड केयर सेंटर बनकर तैयार है। गुरुवार को मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने इसका लोकार्पण किया। अस्पताल में सामान्य बेड के अलावा पचास ऑक्सीजन व दस आइसीयू बेड की भी व्यवस्था की गई है।

Sumit KumarThu, 17 Jun 2021 06:41 PM (IST)
गुरुवार को मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने इसका लोकार्पण किया।

जागरण संवाददाता, देहरादून: छावनी परिषद देहरादून का 150 बेड का कोविड केयर सेंटर बनकर तैयार है। गुरुवार को मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने इसका लोकार्पण किया। अस्पताल में सामान्य बेड के अलावा पचास ऑक्सीजन व दस आइसीयू बेड की भी व्यवस्था की गई है। कोरोना के मामले कम होने की वजह से अभी यहां पर सामान्य मरीजों का उपचार भी होगा।  एक निजी अस्पताल के माध्यम से इसको संचालित किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर अब ढलान पर है। पर इसने काफी कुछ सिखा दिया है। ऐसे में आइसीयू व आक्सीजन बेड, वेंटिलेटर व अन्य संसाधनों में दस गुना तक वृद्धि की गई है। हर जिले में आक्सीजन प्लांट लगाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि तीसरी लहर के लिए हम पूरी तरह से तैयार हैं। कोरोना की संभावित तीसरी लहर में इस अस्पताल से भी काफी मदद मिलेगी। यहां सरकारी अस्पतालों की तरह ही सुविधा मिलेगी। सैनिक कल्याण मंत्री गणेश जोशी ने कहा कि उनका प्रयास था कि इस क्षेत्रवासियों को समीप ही बेहतर उपचार मिले। अब कैंट अस्पताल में यह सुविधा उन्हें मिलेगी। उन्होंने सराहनीय कार्य के लिए कैंट बोर्ड की मुख्य अधिशासी अधिकारी तनु जैन को बधाई दी। इस दौरान टिहरी सांसद माला राज्य लक्ष्मी शाह, राज्यसभा सदस्य नरेश बंसल, कैंट विधायक हरबंस कपूर, बोर्ड अध्यक्ष बिग्रेडियर एसएन सिंह, निवर्तमान उपाध्यक्ष राजेंद्र कौर सौंधी, निवर्तमान सभासद कमलराज, जिनेंद्र तनेजा, विनोद पंवार, मेघा, मीनू, मधु खत्री, विष्णु प्रसाद, देवेंद्र पाल आदि उपस्थित रहे।

अस्पताल में डायलिसिस यूनिट भी जल्द

कैंट बोर्ड के अध्यक्ष ब्रिगेडियर एसएन सिंह ने कहा कि यह प्रयास किया जा रहा है कि अस्पताल में अधिकाधिक सुविधा हों। जल्द ही अस्पताल में डायलिसिस यूनिट भी शुरू की जाएगी। जिसका संचालन पीपीई मोड पर या सरकार की मदद से किया जाएगा।

यह भी पढ़ें-मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा- हरिद्वार कोरोना जांच फर्जीवाड़े में दोषियों पर होगी सख्‍त कार्रवाई

ये चिकित्सक तैनात

अस्पताल में फिलहाल पल्मनोलाजिस्ट, एनेस्थेटिस्ट, फिजीशियन, दंत चिकित्सक, रेडियोलाजिस्ट और रेजिडेंट चिकित्सक तैनात हैं। इसके अलावा अन्य चिकित्सा सुविधा भी बहुत जल्द उपलब्ध कराई जाएगी।

सहज अंदाज में दिखे मुख्यमंत्री

अस्पताल के उद्घाटन अवसर पर मुख्यमंत्री का सहज और मजाकिया अंदाज भी दिखा। टिहरी सांसद ने कहा कि मैं पहली बार मुख्यमंत्री के साथ मंच साझा कर रही हूं। ये मेरा सौभाग्य है। इस पर सीएम ने कहा कि ये सौभाग्य आपका नहीं हमारा है। हम आज मंत्री या मुख्यमंत्री हैं, कल नहीं रहेंगे। पर आप तो हमेशा के राजा-रानी हैं। वहीं, गणेश जोशी ने कहा कि अस्पताल में सीटी स्कैन की व्यवस्था भी होनी चाहिए। इसपर सीएम ने कहा कि अवस्थापना जुटाना आसान है, पर मुश्किल मानव संसाधन की है। क्योंकि चिकित्सक व अन्य स्टाफ की उपलब्धता बहुत कम है। जोशी ने कहा कि तकनीशियन का भी बंदोबस्त कर लिया जाएगा। इसपर सीएम ने कहा कि मालूम है आप जुगाड़ में माहिर हैं, पर कहीं ऐसा ना हो कि दाएं पैर में फ्रैक्चर हो और प्लास्टर बाएं पर चढ़ जाए।

यह भी पढ़ें- हरिद्वार में कुंभ के दौरान कोरोना टेस्टिंग में फर्जीवाड़े की जांच जिले को सौंपने पर सवाल

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.