उत्‍तराखंड में चार साल में टीबी से हुई 1390 मौत, सबसे ज्‍याद मामले इन तीन जिलों से

उत्‍तराखंड में बीते चार साल में ( वर्ष 2015 से 2018) में टीबी से 1390 मरीजों की मौत हो चुकी है। इसमें चौंकाने वाली बात यह है कि सबसे ज्‍यादा मामले तीन जिलों (हरिद्वार देहरादून व ऊधमसिंह नगर) से सामने आए हैं।

Sunil NegiMon, 13 Sep 2021 04:05 PM (IST)
उत्‍तराखंड में वर्ष 2015 से 2018 में टीबी से 1390 व्यक्ति जान गंवा चुके हैं।

जागरण संवाददाता, देहरादून। टीबी असाध्य रोग नहीं है। टीबी के इलाज का पक्का वादा। सरकार टीबी (तपेदिक) की बीमारी को लेकर इस तरह के दावे करती रहती है और टीबी के मामलों में भी कमी आ रही है। वहीं, डाट्स (डायरेक्टली आब्जवर्ड ट्रीटमेंट) प्रणाली के बाद टीबी के मरीजों की जान बचाने की जिम्मेदारी सीधे तौर पर स्वास्थ्य विभाग ने अपने हाथ में ले ली है। हालांकि, इन सब कवायद के बीच चार साल (वर्ष 2015 से 2018) में टीबी से प्रदेश में 1390 व्यक्ति जान गंवा चुके हैं। एक शिकायत के रूप में मानवाधिकार आयोग पहुंचे इस मामले में आयोग की डबल बेंच ने स्वास्थ्य सचिव को नोटिस भेजकर जवाब तलब किया है।

अधिवक्ता राजेंद्र प्रसाद ने स्वास्थ्य विभाग से आरटीआइ में टीबी से होने वाली मौत की जानकारी मांगी थी। इसके जवाब में 1390 मौत की चौंकाने वाली जानकारी सामने आई। सर्वाधिक मौत के मामले हरिद्वार, देहरादून व ऊधमसिंह नगर में सामने आए हैं। वहीं, अधिवक्ता ने इस संबंध में मानवाधिकार आयोग में शिकायत दर्ज कराई थी। शिकायत में उन्होंने टीबी के शिकार हुए व्यक्तियों के स्वजनों को मुआवजा दिलाने के साथ ही टीबी के पक्के इलाज की व्यवस्था को पुख्ता कराने की मांग भी की। मामले की सुनवाई करते हुए मानवाधिकार आयोग के सदस्य अखिलेश चंद्र शर्मा व आरएस मीणा की पीठ ने स्वास्थ्य सचिव को नोटिस जारी कर कहा कि वह चार सप्ताह के भीतर अपना जवाब दाखिल करें। शिकायत पर अगली सुनवाई अब 25 नवंबर को की जाएगी।

टीबी से मौत की स्थिति

जिला----------------मौत हरिद्वार-------------260 देहरादून--------------210 ऊधमसिंह नगर-----194 नैनीताल--------------161 पौड़ी------------------110 चमोली----------------109 टिहरी-------------------76 अल्मोड़ा---------------64 बागेश्वर---------------53 पिथौरागढ़-------------48 चंपावत----------------41 रुद्रप्रयाग--------------34 उत्तरकाशी------------30

--------------------

यह भी पढ़ें:- Vaccination In Uttarakhand: उत्‍तराखंड में 87 फीसद को लग चुकी है वैक्‍सीन की प्रथम खुराक

कैंप में 110 व्यक्तियों को लगाई वैक्सीन

हरिद्वार जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से सामाजिक संस्था एक पहल और मां कामाख्या ट्रस्ट ने निश्शुल्क कोविड टीकाकरण शिविर आयोजित किया। रविवार को आर्यनगर स्थित मां कामाख्या ज्वाइंट एंड बैक केयर सेंटर में आयोजित शिविर में 110 व्यक्तियों को वैक्सीन लगाई गई। इस मौके पर संस्था के अध्यक्ष आशीष गौड़ ने, मां कामाख्या ट्रस्ट के अध्यक्ष अजय चतुर्वेदी ने बताया कि टीकाकरण शिविर के सफल आयोजन में अजय चतुर्वेदी, आशीष गौड़, रंजना चतुर्वेदी, प्रवीण कपिल, डा. राजीव चतुर्वेदी, रश्मि, नितिन, शिवानी, विनायक गौड़ ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.