यहां सुरक्षा गार्ड भर्ती के नाम पर बेरोजगारों से हो रही ठगी, बड़े-बड़े वायदे कर ले रहे हैं झांसे में

चमोली जिले के नौ ब्लाकों में सुरक्षा गार्ड की भर्ती में विभिन्न कंपनियों में नौकरी देने के नाम पर बेरोजगार युवाओं के साथ ठगी करने का मामला सामने आया है। सुरक्षा गार्ड के पद पर चयनित युवाओं ने सेलाकुई थाना देहरादून में शिकायत की है।

Sun, 28 Nov 2021 07:30 PM (IST)
यहां सुरक्षा गार्ड भर्ती के नाम पर बेरोजगारों से हो रही ठगी, बड़े-बड़े वायदे कर ले रहे हैं झांसे में।

संवाद सूत्र, पोखरी(चमोली)। उत्तराखंड के चमोली जिले के नौ ब्लाकों में सुरक्षा गार्ड की भर्ती में विभिन्न कंपनियों में नौकरी देने के नाम पर बेरोजगार युवाओं के साथ ठगी करने का मामला सामने आया है। सुरक्षा गार्ड के पद पर चयनित युवाओं ने सेलाकुई थाना देहरादून में शिकायत की है।

दरअसल, चमोली जिले के नौ ब्लाकों के बेरोजगार युवाओं के लिए कमांडेंट कार्यालय रीजनल एकेडमी देहरादून की ओर से 12 अक्टूबर 2021 को ब्लाक कार्यालयों में सुरक्षा गार्ड के पद पर भर्ती का आयोजन किया गया। इसमें कई बेरोजगार युवाओं ने प्रतिभाग किया। पोखरी ब्लाक कार्यालय में 350 रुपये पंजीकरण शुल्क लेने के बाद 22 युवाओं का चयन किया गया। वहीं, जनपद के नौ ब्लाकों से 157 का चयन हुआ है, जिसमें लाखों रुपये की ठगी का आरोप लगाया गया।

इन युवाओं ने अपनी शिकायत में कहा है कि उन्हें बताया गया था कि सुरक्षा गार्ड के प्रशिक्षण की फीस 10,500 रुपये होगी और खाना व रहना निश्शुल्क होगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। उसके बाद काशीपुर, दिल्ली, रुड़की, देहरादून व बरेली की विभिन्न कंपनियों में भेजा गया तो उन्होंने साक्षात्कार के हफ्ते बाद होने की जानकारी व वेतन नौ हजार रुपये महीना बताया। किसी कंपनी ने तो तीन सौ से पांच सौ रुपये प्रतिदिन की मजदूरी बताई, जबकि भर्ती के दौरान बताया गया था, कि महीने में चार रविवार को अवकाश रहेगा। चिकित्सा सुविधा निश्शुल्क मिलेगी और बच्चों को पब्लिक स्कूल में निश्शुल्क शिक्षा मिलेगी। चयनित सुरक्षा गार्डों ने कहा कि यह सब कुछ नहीं है।

उन्होंने कहा कि रोजगार के लिए उन्हें भटकना पड़ रहा है। उन्होंने एमआइएस कमांडेंट रामकिशन सेलाकुई पर लाखों की ठगी का आरोप लगाते हुए सेलाकुई थाने में तहरीर दी है। तहरीर में देवेंद्र, चंद्रमोहन, राहुल, विवेक, जगदीश, देवेंद्र सिंह, गिरीश लाल, हरेंद्र सहित 22 युवाओं के हस्ताक्षर हैं।

सेलाकुई थाना इंचार्ज मनमोहन सिंह नेगी ने बताया कि कुछ युवकों ने थाने में शिकायत की है कि उनसे साढ़े दस हजार रुपये फीस के तौर पर लिए गए, लेकिन भर्ती से पहले उनसे निश्शुल्क रहने और खाने की बात कही गई थी, जो कि नहीं दी जा रही है। अब चयनित युवा अपनी फीस वापस मांग रहे हैं। फीस वापसी की प्रक्रिया दिल्ली से होनी है। ऐसे में ट्रेनिंग सेंटर के अधिकारियों से इस संदर्भ में बात की गई है। जल्द ही उनकी फीस वापस हो जाएगी।

यह भी पढें- बल्लीवाला फ्लाईओवर के निकट कार पार्किंग को लेकर विवाद, हवा में झोंके फायर

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.