वाल्मीकि के बताए मार्ग पर चलने का भाजपा ने लिया संकल्प

वाल्मीकि के बताए मार्ग पर चलने का भाजपा ने लिया संकल्प
Publish Date:Sat, 31 Oct 2020 04:06 PM (IST) Author: Jagran

जागरण संवाददाता, बागेश्वर: भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा ने वाल्मीकि जयंती मनाई। उन्होंने वाल्मीकि के बताए मार्ग पर चलने का संकल्प लिया। लोगों का आह्वान किया कि मर्हिष वाल्मीकि के जीवन में जिस तरह परिर्वतन आया उसी तरह वह भी बुराइयों को छोड़ अच्छाइयां अपनाएं। भाजपा पार्टी कार्यालय मंडलसेरा में आयोजित जयंती कार्यक्रम के मुख्य अतिथि विधायक चंदन राम दास थे। उन्होंने कहा कि पूरे देश में मर्हिष वाल्मीकि की जयंती मनाई जा रही है। यह दिन पूरे भारत वर्ष में हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। मर्हिष वाल्मीकि ने ही रामायण की रचना की थी। ये संस्कृत के पहले श्लोक आदिकवि के रूप में प्रसिद्ध हैं। पौराणिक कथाओं के अनुसार, मर्हिष वाल्मीकि पहले एक डाकू थे। इन्हें जंगल रहने वाले एक भील जाती ने पाला था। ये दूसरों को लूटकर अपना जीवन यापन करते थे। लेकिन एक घटना ने उनके जीवन को एकदम बदलकर रख दिया। दुराचार का मार्ग छोड़ उन्होंने ध्यान और तप का रास्ता अपनाया और रामायण जैसा पावन ग्रंथ लिखा। कार्यक्रम की अध्यक्षता अनुसूचित जाति के जिलाध्यक्ष कमल टम्टा ने की। उन्होंने वाल्मीकि के जीवन पर प्रकाश डाला। इस मौके पर पार्टी के जिलाध्यक्ष शिव सिंह बिष्ट, जिला पंचायत अध्यक्ष बसंती देव, इंद्र फस्र्वाण, मथुरा प्रसाद, रमेश तिवारी, कैलाश जोशी, रवि करायत, भूपाल रौतेला, प्रशांत नगरकोटी, अरुण टम्टा, नवीन लाल, आनंद प्रसाद, भुवन चंदोला, चंदन राम, जगदीश राम आदि मौजूद थे।

...

महर्षि वाल्मीकि के नाम पर सरयू नदी के किनारे बने घाट

जागरण संवाददाता, बागेश्वर: वाल्मीकि समाज ने वाल्मीकि जयंती पर मंदिर में पूजा-अर्चना की और प्रसाद वितरित किया। उन्होंने क्षेत्रीय विधायक ने अस्पताल के समीप सरयू पुल तक सरयू नदी कि किनारे वाल्मीकि घाट बनाने की मांग की। मर्हिष वाल्मीकि जयंती पर जिला पंचायत परिसर के समीप वाल्मीकि मंदिर में सुबह से भक्तों का तांता लगा रहा। कोरोना वायरस संक्रमण के बचाव और रोकथाम को बनी गाइडलाइन के अनुसार भक्तों ने बारी-बारी दर्शन किए। इसके अलावा मंदिर में प्रसाद बनाया गया और उसे वितरित किया गया। वाल्मीकि संगठन के जिलाध्यक्ष संजीव भारती ने क्षेत्रीय विधायक चंदन राम दास से मुलाकात की। उन्होंने सरयू पुल से जिला पंचायत के सामने अस्पताल तक बने नए मोटर पुल, सरयू नदी के किनारे से मर्हिष वाल्मीकि मंदिर क्षेत्र में वाल्मीकि के नाम घाट बनाने की मांग की। उन्होंने वाल्मीकि जयंती पर प्रदेश में सार्वजनिक अवकाश की व्यवस्था करने की भी मांग की।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.