सल्ट विधानसभा सीट पर उपचुनाव में त्रिवेंद्र की साख तो हरदा का सियासी रुतबा दाव पर

सल्ट विधानसभा सीट पर उपचुनाव में त्रिवेंद्र की साख तो हरदा का सियासी रुतबा दाव पर

सल्ट से भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह जीना के निधन के बाद उपचुनाव को लेकर सीएम त्रिवेंद्र और हरदा की साख दांव पर।

Publish Date:Sat, 05 Dec 2020 11:07 PM (IST) Author: Jagran

राजेश तिवारी, मानिला (अल्मोड़ा)

सल्ट से भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह जीना के निधन के बाद उपचुनाव की सरगर्मी बेशक तेज नहीं हुई हैं मगर सियासी गलियारों में कयास का दौर रफ्तार पकड़ गया है। अंदरूनी तौर पर सत्ताधारी भाजपा व काग्रेस में दावेदार चुनावी रण में खुद को इक्कीस बता मैदान में उतरने के लिए छटपटाने लगे हैं। खास बात कि इस सीट पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की साख का मूल्याकन होगा। वहीं राजनीति के चतुर खिलाड़ी पूर्व सीएम हरीश रावत का सियासी रुतबा भी दाव पर है। वजह, त्रिवेंद्र के लिए परिवार के पतवार या जमीनी पकड़े वाले को उम्मीदवार बनाने की बड़ी चुनौती रहेगी। वहीं पूर्व सीएम हरदा के लिए अपने भरोसेमंद को टिकट दिला विधानसभा तक पहुंचाने का बड़ा जिम्मा रहेगा।

सल्ट विधानसभा में उपचुनाव को लेकर भले सत्तापक्ष व विपक्ष अभी खामोश हैं। मगर गुणाभाग शुरू हो गया है। अभी तक की सूचना के अनुसार भाजपा पूर्व विधायक सुरेंद्र सिंह जीना के भाई महेश को मैदान में उतार सकती है। मगर दावेदारों के बढ़ते नाम सत्तापक्ष के लिए धर्मसंकट खड़ा कर सकते हैं। अलबत्ता कांग्रेस से वर्ष 2017 के विस चुनाव में सुरेंद्र जीना से कम अंतर से हारी हरीश रावत की भरोसेमंद वरिष्ठ नेत्री गंगा पंचोली की सक्रियता बहुत कुछ संकेत दे रही है।

=========

भाजपा में दूसरी पांत मारने लगी जोर

जानकार सूत्रों की मानें तो संगठन सुरेंद्र जीना के बड़े भाई महेश जीना को आगे कर सकता है। मगर 2007 में भाजपा के बागी निर्दल चुनाव लड़े दूसरी पंक्ति के पूर्व प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य दिनेश मेहरा, सुरेंद्र जीना के प्रमुख रणनीतिकार व दो बार प्रदेश पार्षद रहे प्रताप रावत व हालिया संगठन से जुड़े डा. यशपाल रावत पर भी मंथन चल रहा।

==========

कांग्रेस में भी जोरआजमाइश कम नहीं

पूर्व ब्लाक प्रमुख गंगा पंचोली की जमीन व जनता में मजबूत पकड़ है। निर्विवाद छवि के कारण वह पार्टी संगठन की पहली पसंद हैं। उधर पूर्व विधायक रणजीत रावत अपने ब्लाक प्रमुख पुत्र विक्रम रावत को टिकट के लिए बेचैन हैं। वहीं पूर्व जिला पंचायत सदस्य घचकोट अर्जुन सिंह रावत, शंभू सिंह रावत भी छटपटा रहे।

=========

'काग्रेस हाईकमान ने 2017 के विधानसभा चुनाव में जमीनी कार्यकर्ता होने के नाते टिकट दिया। दो बार के विधायक से कम अंतर से हारी। उपचुनाव में पार्टी मुझे ही टिकट देगी।

-गंगा पंचोली, वरिष्ठ कांग्रेस नेत्री'

=======

'लोकप्रिय विधायक सुरेंद्र सिंह जीना ने सल्ट क्षेत्र में विकास की नई इबारत लिखी। इसे मिलकर आगे ले जाएंगे। पार्टी मुझे जैसा आदेश देगी, समर्पण भाव से करेंगे।

-प्रताप रावत, पूर्व जिला मंत्री'

=======

'छह माह के भीतर उपचुनाव होना है। चर्चा चल रही है। नाम परिवार से भी आ रहा है। प्रदेश अध्यक्ष व महामंत्री संगठन के साथ बैठ कर मंथन करेंगे। बड़ा संगठन है। सामूहिक रूप से निर्णय लिया जाएगा। टिकट जिसे भी मिलेगा चुनाव मजबूती से लड़ेंगे।

- रवि रौतेला, जिलाध्यक्ष भाजपा'

=========

'प्रदेश जिला स्तर पर ही मंथन चल रहा होगा। सुना है गंगा पंचोली व विक्रम रावत ने आवेदन किया है। प्रदेश नेतृत्व हमसे राय सुझाव मांगेगा तभी कुछ कह सकेंगे।

- पीतांबर पांडे, जिलाध्यक्ष कांग्रेस' ====

====

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.