रिश्वत के आरोप में राजस्व उपनिरीक्षक तहसील से संबद्ध

संवाद सहयोगी, रानीखेत : सत्यापन के नाम पर रिश्वत मांगने की आरोपित राजस्व उपनिरीक्षक को जांच पूरी होने के बाद तहसील मुख्यालय से संबद्ध कर दिया गया है। उनके खिलाफ भारतीय सेना के जवान से सत्यापन के एवज में सुविधा शुल्क मांगने के आरोप लगे थे। सैनिक ने राजस्व उपनिरीक्षक के खिलाफ उपजिलाधिकारी कार्यालय में शिकायत दर्ज कराई थी। सूत्रों के अनुसार इस पर एसडीएम ने स्वयं जांच की थी।

मामला ताड़ीखेत विकासखंड के नाफड़ा राजस्व चौकी क्षेत्र का है। आरोप है कि यहां रहने वाले एक सैनिक के सत्यापन के लिए राजस्व उपनिरीक्षक शबाना ने उनसे सुविधा शुल्क की मांग की। यह मामला बीते दिनों तूल पकड़ लिया था। इस मामले में वीडियो वाइरल होने की चर्चाएं भी खूब हैं। सैनिक ने उपजिलाधिकारी कार्यालय तथा तहसीलदार नीतेश डागर को रिश्वत मांगने का आरोप लगा शिकायती पत्र सौंपा था। चूंकि मामला सैनिक से संबंधित था लिहाजा इसे गंभीरता से लेते हुए एसडीएम गौरव चटवाल ने स्वयं जाच की। इधर तहसीलदार नीतेश डागर के अनुसार तहकीकात पूरी होने के बाद आरोपित राजस्व उपनिरीक्षक शबाना को चौकी से हटाकर तहसील कार्यालय से संबद्ध कर दिया गया है। सूत्र बताते हैं कि राजस्व उपनिरीक्षक के पक्ष व विपक्ष में राजनीतिक लोग भी आमने सामने आ गए थे। मामले के बेवजह तूल पकड़ने पर बाद में शिकायतकर्ता ने शिकायत भी वापस ले ली।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.