अल्मोड़ा में पालिका कर्मियों की हड़ताल बनी मुसीबत

अल्मोड़ा में पर्यावरण मित्रों की बेमियादी हड़ताल से नगर पालिका के सभी वार्डों का हाल बेहाल हो गए है।

JagranSun, 25 Jul 2021 10:34 PM (IST)
अल्मोड़ा में पालिका कर्मियों की हड़ताल बनी मुसीबत

संस, अल्मोड़ा : पर्यावरण मित्रों की बेमियादी हड़ताल से नगर पालिका के सभी वार्डों का हाल बेहाल है। जगह जगह कूडे़ के ढेर लगे हुए हैं जो भविष्य में किसी भी महामारी को दावत दे सकते हैं। रविवार को नगर पालिका के सफाई कर्मचारियों ने अपनी 11 सूत्रीय मांगों का ज्ञापन विस उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह चौहान एवं सांसद अजय टम्टा को सौंपा। कहा कि शीघ्र उनकी मांगों पर वार्ता कर निराकरण नहीं किया गया तो आंदोलन को और तेज किया जाएगा।

सफाई कर्मचारियों की हड़ताल से नगर की सफाई व्यवस्था पूरी तरह चौपट है। एक ओर जहां कोरोना की तीसरी लहर की आशंका जताई जा रही है वहीं नगर में लगे कूडे़ के ढेर से उठ रही दुर्गंध दूसरी बीमारियों को आमंत्रण दे सकते हैं। पालिका परिषद में धरना प्रदर्शन के दौरान कर्मचारियों ने कहा कि जब तक मांगें पूरी नहीं होंगी उनका आंदोलन जारी रहेगा। धरने पर प्रदेश महामंत्री राजपाल पवार, शाखा अध्यक्ष सुरेश केसरी, राजेंद्र कुमार, दीपक चंदेल, कमल कुमार, भूपेंद्र कुमार, राजेश प्रधान, राजेश टाक, दीप चंद्र, दीपक सैलानी, जगदीश कुमार, संजय कुमार, अनिल कुमार, सतीश कुमार, हिमाशु पवार, यशपाल आदि शामिल रहे।

---------

हड़ताल से वार्ड में कूड़ा बिखरा है। लोगों से अपील है कि अपने घर से निकलने वाले कूडे़ को बाजारों, गलियों व सार्वजनिक स्थानों में न डालें। नगर में साफ सफाई बनाए रखने में सहयोग करें। हड़ताल समाप्त होने पर उसका निस्तारण करें।

- हेम तिवारी, विवेकानंदपुरी वार्ड

---------

वार्ड में बने कूडे़दानों में लोग कूड़ा डाल रहे हैं। उनसे निवेदन है कि कूडे़दानों में कूड़ा न डालें। हड़ताल तक कूड़ा घर पर ही रखें। वहीं सड़कों में बिखरे कूडे़ को कूड़ादान के अंदर डालने की कार्रवाई की जा रही है। कूड़े को हड़ताल समाप्त होते ही निस्तारित कर दिया जाएगा।

- विजय तिवारी, सभासद, त्रिपुरासुंदरी वार्ड

-------

कोरोना के नियमों का नहीं हो रहा पालन

देवभूमि उत्तराखंड सफाई कर्मचारी संघ ने जहां अपने आंदोलन को धार दे रखी है वहीं कोविड के नियमों का कोई पालन नहीं हो रहा है। मास्क व शारीरिक दूरी के मानकों का पालन नहीं किया जा रहा है। जबकि कोरोना की तीसरी लहर की आशंका जताई जा रही है ऐसे में यह कर्मचारियों के लिए घातक सिद्ध हो सकता है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.