रानीखेत देश का तीसरा स्वच्छ कैंट बोर्ड

संवाद सहयोगी, रानीखेत: स्वच्छता सर्वेक्षण-2018 में देश के 62 छावनी परिषदों में रानीखेत कैंट बोर्ड को तीसरा स्थान हासिल हुआ। खास बात कि सर्वेक्षण में खूबसूरत पर्यटक नगरी में जैविक एवं अजैविक कूड़े के निस्तारण को जहा अच्छे अंक मिले। वहीं स्वच्छ भारत अभियान के मानकों पर छावनी परिषद खरा उतरा। इसके अलावा वर्ष भर में स्वच्छता पखवाड़ा व स्वच्छता ही सेवा कार्यक्त्रम के तहत चलाए गए जागरूकता अभियान में भी अव्वल रहा। सिटीजन फीडबैक में इसे तीसरा स्थान मिला। सर्वेक्षण में सिटीजन फीडबैक के साथ ही सर्वेक्षण में कुछ महत्वपूर्ण बिंदु शामिल किए गए थे। जहा तक रानीखेत कैंट बोर्ड का सवाल है इसमें पाच मुख्य बिंदु बिंदुओं में अव्वल रही।

===========

इन अहम बिंदुओं में अव्वल

= समग्र रूप से कैंट बोर्ड कितना साफ दिखता है

= महिला व पुरूष प्रसाधन केंद्रों की स्थिति, पानी व प्रकाश व्यवस्था

= कूड़ा निस्तारण कैसे किया जाता है

= जैविक व अजैविक कूड़े के लिए प्रोसेसिंग प्लाट की स्थिति उमदा

= जैविक कचरे से जैविक खाद बनाना

= घर-घर जाकर कुरवाई का एकत्रीकरण, जैविक व अजैविक कूड़े के लिए घर घर डस्टबिन वितरण

= छावनी क्षेत्र में स्टील डस्टबिन व कंटेनर की व्यवस्था दुरुस्त

= सार्वजनिक शौचालय ऑनलाइन

= केंट इंटर कॉलेज के विद्यार्थियों का स्वच्छता दूत के रुप में नगर में जन चेतना अभियान आदि।

==========

पूरे देश की छावनी परिषदों में रानीखेत कैंट बोर्ड का स्वच्छता सर्वेक्षण में तीसरे पायदान पर आना नगरवासियों के सहयोग तथा स्वच्छ भारत अभियान में हाथ बंटाने का नतीजा है। हम उम्मीद करते हैं कि जागरूक नागरिक, कैंट बोर्ड का स्वच्छता विभाग व विद्यार्थी सभासदों के साथ मिलकर रानीखेत कैंट को देश की सबसे स्वच्छ छावनी परिषद का दर्जा दिला पहले स्थान में लाने में कामयाब रहेंगे।

- ज्योति कपूर, मुख्य अधिशासी अधिकारी

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.